ADO full form in Hindi | ADO कैसे बने?

4.6
(358)

ADO Officer बनने का सही तरीका

ADO full form in Hindi: अगर आप एक विद्यार्थी हैं और अपनी पढ़ाई पूरी करने के बाद आप जल्द से जल्द नौकरी पाना चाहते हैं तो आपको  इस बात की जानकारी तो होगी की आजकल नौकरी पाना कितना मुश्किल काम हो गया है। खासकर अगर सरकारी नौकरी की बात की जाए तो बढ़ती प्रतियोगिता के कारण परीक्षा पत्र को इतना कठिन बनाया जाता है कि अगर आप उसकी तैयारी करके नहीं जाएंगे तो आप परीक्षा में सफल नहीं हो सकेंगे।

लेकिन अभी भी भारत में एक फील्ड ऐसी बची है जिसमें बाकी फील्ड के मुकाबले प्रतियोगिता थोड़ी कम है जी हां हम बात कर रहे हैं ado officer की हालांकि अगर आप एक ado ऑफिसर बनना चाहते हैं तो इसके लिए भी आपको प्रतियोगी परीक्षा और साक्षात्कार यानी इंटरव्यू देना होगा और उसके बाद आप एक ado officer बन सकेंगे।

अब आप सोच रहे होंगे कि आखिर ado क्या है और ado कैसे बने? तो घबराने की कोई बात नहीं अगर आपको ado के बारे में बिल्कुल भी जानकारी नहीं है तो इस आर्टिकल के माध्यम से हम आप तक पूरी जानकारी पहुंचाने वाले हैं इसलिए हमारे आर्टिकल को अंत तक जरूर पढ़ें, क्योंकि अगर आप एक विद्यार्थी हैं तो यह आर्टिकल आपके लिए काफी जरूरी रहने वाला है, इसके अलावा हम इस आर्टिकल में यह भी जानेंगे कि एडीओ फुल फॉर्म इन हिंदी क्या है?  तो चलिए ज्यादा वक्त ना लेते हुए हम अपने आर्टिकल की शुरुआत करते हैं।

 

एडीओ फुल फॉर्म इन हिंदी

Ado फुल फॉर्म इंग्लिश में एग्रीकल्चर डेवलपमेंट ऑफिसर होती है। अगर हिंदी में बात की जाए तो ado officer की Hindi फुल फॉर्म कृषि विकास अधिकारी है। इससे आपको काफी हद तक अंदाजा लग गया होगा कि यह नौकरी किस क्षेत्र से संबध रखती है। जैसा कि आपको फुल फॉर्म पढ़कर ही समझ में आ गया होगा कि कृषि विकास अधिकारी का काम होता है कि उसे जिस क्षेत्र का कृषि अधिकारी बनाया गया है। वह उस क्षेत्र में कृषि का विकास करे और किसानों को कृषि करते समय जिन समस्याओं का सामना करना पड़ता है उन समस्याओं को वह जल्द से जल्द दूर करे। आइए थोड़ा डिटेल में जानते हैं कि ado क्या है? और ado ऑफिसर कैसे बनें?

इसे भी पढ़ें: सबसे ज्यादा सैलरी वाली नौकरी

ADO क्या होता है?

भारत के अलग-अलग राज्यों की सरकारें अपने राज्य के कृषि विकास के लिए अधिकारियों का चयन करती है। जिनका काम यह होता है कि कृषि के विकास को बढ़ाया जाए और उसकी रिपोर्ट डिस्ट्रिक्ट एग्रीकल्चर ऑफिसर यानी जिला कृषि अधिकारी को सौंपी जाए। जब एक बार रिपोर्ट जिला कृषि अधिकारी को भेज दी जाती है तो उसके बाद उनके ही दिशा निर्देश पर कृषि के विकास से जुड़ी नीतियां और योजनाएं बनाई जाती हैं।

इसके अलावा भी एक कृषि अधिकारी यानी एग्रीकल्चर डेवलपमेंट ऑफिसर के कुछ और भी कार्य होते हैं आइए उन कार्यों पर एक नजर डाल लेते हैं।

ado kya ha

ADO के प्रमुख कार्य

  • एक कृषि अधिकारी खेती के लिए इस्तेमाल करने वाले बीज की अच्छे से जांच करता है और जब जांच के बाद उसे लगता है कि बीज बेहतर है और इससे कृषि में काफी विकास होगा तो उसके बाद उस बीज को खेत में इस्तेमाल किया जाता है।
  • इसके अलावा सरकार जब नई नई योजनाएं बनाती है और किसानों के लिए कुछ ऐसा कार्य करती है, जिससे किसानों का फायदा मिले और वह बिना किसी समस्या के अपना कार्य कर सके तो इस बात की जानकारी भी एक कृषि अधिकारी ही किसानों तक पहुंचाता है और अगर किसानों को कोई संदेह होता है तो कृषि अधिकारी का काम किसानों के संदेह को दूर करना भी होता है।
  • सरकार किसानों के लिए अलग-अलग तरह के लोन स्कीम भी लेकर आती रहती है। लेकिन सबसे बड़ी परेशानी यही होती है कि किसानों को लोन स्कीम के बारे में सही जानकारी कभी नहीं मिल पाती। इसलिए किसानों तक लोन के बारे में सही जानकारी पहुंचाने का काम भी एक कृषि अधिकारी का होता है।
  • इसके अलावा काम करते समय अगर किसानों को कोई परेशानी आ रही है तो उस परेशानी को दूर करना भी कृषि अधिकारी की जिम्मेदारी होती है। अब आपके मन में यह सवाल भी जरूर आया होगा कि अगर कोई कृषि अधिकारी बनना चाहता हो तो इसके लिए उसे क्या करना होगा
  • आइए आगे अब आपको एडीओ ऑफिसर कैसे बनें इसे   डिटेल में जानते हैं कि एडीओ ऑफिसर बनने के लिए सरकार ने किन योग्यताओं को निर्धारित किया है।

योग्यता

  • सबसे जरूरी बात आपको ध्यान में यह रखनी है कि अगर आप एक कृषि अधिकारी या ado officer बनना चाहते हैं तो इसके लिए आपको 12वीं कक्षा से ही तैयारी करनी होगी और आप जब अपनी स्नातक (Graduation) की पढ़ाई करेंगे तो उसमें आपके पास एग्रीकल्चर का सब्जेक्ट जरूर होना चाहिए। क्योंकि तभी आप एडीओ ऑफिसर परीक्षा के लिए आवेदन कर सकेंगे।
  • अगर किसी विद्यार्थी ने एग्रीकल्चर में इंजीनियरिंग की है तो वह विद्यार्थी भी एडीओ ऑफिसर परीक्षा के लिए आवेदन कर सकता है।
  • इसके अलावा अगर आयु सीमा की बात की जाए तो आपकी आयु कम से कम 20 वर्ष और अधिकतम 30 वर्ष होनी चाहिए अगर आप 20 वर्ष से कम है या 30 वर्ष से ज्यादा की आयु में है तो आप इस परीक्षा के लिए आवेदन नहीं कर सकेंगे।
  • अंतिम और सबसे जरूरी बात आपको खेती-बाड़ी और कृषि की जानकारी होनी चाहिए, जाहिर सी बात है अगर आप एक कृषि अधिकारी बनना चाहते हैं तो आपको कृषि की जानकारी तो होनी चाहिए, क्योंकि तभी आप इस परीक्षा में आने वाले प्रश्नों को अच्छी तरह से हल कर सकेंगे और एक कृषि अधिकारी बन सकेंगे।

एडीओ ऑफिसर कैसे बनें?

अब तक आप यह तो समझ चुके होंगे कि  एडीओ ऑफिसर क्या होता है?  और इसके क्या काम होते है और अगर आप Ado ऑफिसर बनना चाहते हैं तो उसके लिए सरकार ने किन योग्यताओं को निर्धारित किया है। आइए जानते हैं कि जब आप अपनी ग्रेजुएशन यानी स्नातक की पढ़ाई पूरी कर लेंगे। उसके बाद आप परीक्षा के लिए आवेदन किस तरह से कर सकते हैं और आप की चयन प्रक्रिया किस तरह की रहेगी?

आवेदन और चयन प्रक्रिया

अगर आपने अपनी ग्रेजुएशन की पढ़ाई पूरी कर ली है और आपने एग्रीकल्चर की डिग्री हासिल कर ली है उसके बाद आपको एडीओ ऑफिसर परीक्षा की तैयारी करनी होगी। सरकार अलग-अलग समय पर कृषि अधिकारी के लिए नोटिफिकेशन जारी करती रहती है तो इसके लिए आपको थोड़ा जागरूक रहना होगा कि सरकार ने कृषि अधिकारी के फॉर्म कब निकाले हैं और जैसे ही फॉर्म या फिर वैकेंसी निकाली जाएगी आप उसके लिए आवेदन कर सकते हैं।

बात की जाए परीक्षा की तो कृषि अधिकारी के लिए परीक्षा दो भागों में बांटी जाती है सबसे पहला भाग होता है प्रारंभिक परीक्षा और जब विद्यार्थी प्रारंभिक परीक्षा में सफल हो जाते हैं फिर वह दूसरे चरण की तरह बढ़ते हैं जो की होती है मुख्य परीक्षा जिसमें आपका पास होना जरूरी है और जब आप दोनों परीक्षा में पास हो जाएंगे।

उसके बाद आप अगले चरण की तरफ बढ़ेंगे जिसमें आपका साक्षात्कार यानी आपका इंटरव्यू लिया जाएगा, इंटरव्यू के समय आप से कृषि और खेतीबाड़ी से जुड़े ही सवाल पूछे जाएंगे। ऐसा बहुत कम ही होता है कि इंटरव्यू लेने वाले आपसे इससे अलग सवाल पूछें फिर भी आपको अपनी तैयारी अच्छे से करके जानी है और जब आपका इंटरव्यू हो जाएगा तो आप एक कृषि अधिकारी बन जाएंगे।

एडीओ ऑफिसर की सैलरी

अब आते हैं हम उस सवाल पर जो आपके मन में बहुत वक्त से चल रहा होगा कि एक एडीओ ऑफिसर की सैलरी कितनी होती है? तो आपकी जानकारी के लिए हम यह बताना चाहेंगे कि एक ADO ऑफिसर का जब चयन होता है और उसका पहला वर्ष होता है तो उसे 25000 से लेकर 40000 दिए जाते हैं और जैसे-जैसे आपको अनुभव होता रहेगा और आप अच्छी तरह से काम करते रहेंगे तो आप 80 हज़ार से लेकर 1 लाख भी हर महीना कमा सकते हैं।

इसके अलावा, क्योंकि यह एक सरकारी नौकरी है तो सरकार आपको अलग-अलग तरह की  सुविधाएं भी देती है और आपको अलग-अलग तरह की पेंशन भी इस नौकरी में दी जाती है तो कम शब्दों में कहा जाए तो अगर आप एक एडीओ ऑफिसर बन जाते हैं तो आपको इज्जत के साथ-साथ अच्छे पैसे भी इस नौकरी से मिल जाएंगे।

कितना पढ़ना होगा?

जैसा कि हमने आपको आर्टिकल में बताया था कि अगर आप एक ADO ऑफिसर बनना चाहते हैं तो आपको एग्रीकल्चर में ग्रेजुएशन करनी होगी और इसमें आपका तीन  साल का वक्त लग सकता है। इसके अलावा अगर आप ग्रेजुएशन नहीं करना चाहते तो आपके पास दूसरा विकल्प यह भी है कि आप 2 से 3 साल का डिप्लोमा किसी मान्यता प्राप्त कॉलेज से प्राप्त कर लें और उसके बाद जब आप सभी चरणों में सफल हो जाएंगे आप एडीओ ऑफिसर यानी कृषि विकास अधिकारी बन जाएंगे।

इसे भी पढ़ें: आईपीएस बनने के लिए योग्यता?

Conclusion

आशा है कि अब आप समझ गए होंगे कि ADO full form in Hindi क्‍या होता है। इसे जानने के बाद आप आसानी से ADO अफसर बन सकते हैं। यदि आपको हमारा ये लेख पसंद आया है तो इसे अपने दोस्‍तों के साथ भी शेयर करें। इसके अलावा यदि आपका इस लेख से जुड़ा कोई सवाल है तो नीचे कमेंट। ऑल इन हिंदी टीम आपके उज्‍ज्‍वल भविष्‍य की कामना करती है।

यह पोस्ट आपके लिए कितना उपयोगी है?

स्टार पर क्लिक करके हमें बताये!

औसत रेटिंग 4.6 / 5. कुल वोट 358

उम्र में युवा और तजुर्बे में वरिष्ठ रोहित यादव हरियाणा के रहने वाले हैं। पत्रकारिता में डिग्री रखने के साथ इन्होंने अपनी सेवाएं कई मीडिया संस्थानों को दी हैं। फिलहाल ये पिछले लंबे समय से अपनी सेवाएं 'All in Hindi' को दे रहे हैं।

Leave a Comment