Hotel Business plan in Hindi | होटल चलाने के नियम क्या है?

3.9
(369)

Hotel business plan in Hindi: सड़कों पर चलते हुए आपने सड़क के किनारे होटल और ढाबे जरूर देखे होंगे। कहीं लंबे सफर पर जा रहे या कहीं घूमने फिरने की जगह पर अक्‍सर लोग इनके अंदर रूककर खाना खाते हैं साथ ही जरूरत होने पर ठहरते भी हैं। जिससे होटल मालिक की अच्‍छी आमदनी होती है।

ऐसे में यदि आप भी आगे चलकर अपना होटल खोलना चाहते हैं तो हमारे इस लेख को अंत तक पढि़ए। अपने इस लेख में हम आपको जानकारी देंगे कि Hotel business plan in Hindi जिससे आप जान सकेंगे कि आप अपना होटल कैसे खोल सकते हैं।

होटल क्‍या होता है?

Hotel business plan in Hindi के बारे में हम आपको जानकारी दें इससे पहले आइए एक बार हम आपको जानकारी देते हैं कि होटल क्‍या होता है। दरअसल, यह एक ऐसी जगह होती है जहां राहगीरों को रूकने और खाने की व्‍यवस्‍था होती है। इसे आप छोटे से छोटे रूप में भी देख सकते हैं। साथ ही आप इसे बड़े रूप में भी देख सकते हैं। लेकिन छोटे होटल आप आमतौर पर हर जगह देख सकते हैं।

आप जितने बड़े होटल में जाएंगे आपको उसका उतना ही पैसा चुकाना होगा। साथ ही आपको वहां रहने और खाने की बेहतरीन सुविधाएं भी देखने को मिलेंगी। सुरक्षा की दृष्टि से भी होटल काफी सुरक्षित माने जाते हैं। लेकिन इनके दो प्रमुख रूप होते हैं। पहला तो जो शहरों के अंदर खुले होते हैं। जबकि दूसरा जो हाइवे आदि पर खुले होते हैं।

होटल चलाने के नियम

होटल खोलने के फायदे

  • यह एक सदाबहार बिजनेस होता है। इसलिए इससे आमदनी हमेशा बढ़ती ही रहती है।
  • यह एक ऐसा बिजनेस है। जो हमेशा एक जगह ही रहता है। इसलिए इसे खोलने के बाद आपको ज्‍यादा परेशान होने की जरूरत नहीं रहती है। बस आपको केवल निगरानी करनी होती है।
  • यदि आप होटल को चलाने का तरीका समझ जाते हैं तो आप आगे भी आसानी से दूसरा होटल खोल सकते हैं। जिससे आपकी आमदनी दोगुनी हो जाती है।
  • होटल के मालिक की समाज में हमेशा एक अलग पहचान होती है। क्‍योंकि आज भी होटल केवल कुछ ही लोगों के पास है।

Hotel business plan in Hindi

आइए अब हम आपको विस्‍तार से जानकारी देते हैं कि आप अपना होटल कैसे खोल सकते हैं। होटल बड़े बड़े होते हैं। लेकिन यहां हम आपको एक ऐसे होटल के बारे में जानकारी देंगे। जिसे आप कम पैसों में खोलकर ज्‍यादा आमदनी कर सकते हैं।

होटल की जगह का चुनाव करें

Hotel business plan in Hindi में आप जब भी होटल खोलने पर विचार करें तो उसके लिए जगह का चुनाव करना होगा। इसमें यदि आपकी किसी हाइवे पर खुद की जगह तो इससे बेहतर कुछ हो नहीं सकता है। लेकिन यदि आपकी हाइवे पर कोई जगह नहीं है। तो आपको कोई जगह किराए पर लेनी होगी।

किराए पर उतनी ही जगह लें जितना बड़ा आप होटल खोलना चाहते हैं। क्‍योंकि हाइवे पर जो जगह मिलती हैं वो काफी महंगी होती हैं। इसलिए जगह का चुनाव करते समय आप इस बात का ध्‍यान रखें कि आप हमेशा ऐसी जगह पर होटल लें जहां आपको लगता हो कि लोग वहां रूकते हैं या घूमने फिरने आते हैं। क्‍योंकि सूनसान हाइवे पर अनजान जगह रूककर कोई भी खाना खाना पसंद नहीं करेगा।

होटल का आकार तय करें

जगह के चुनाव के बाद आपको तय करना होता है कि आप किस तरह का होटल खोलना चाहते हैं। इसमें आप इस तरह से देख सकते हैं कि आप एक ऐसा होटल खोलना चाहते हैं। जिसमें अच्‍छी मेज और कुर्सी लगीं हों। साथ ही बैठने की एक शानदार व्‍यवस्‍था हो। कहने का मतलब आप एक लग्जरी होटल खोलना चाहते हैं तो आपको काफी बड़े आकार में जगह का चुनाव करना होगा।

जबकि दूसरा यदि आप एक साधारण होटल खोलना चाहते हैं तो आप इसे छोटी जगह में भी खोल सकते हैं। इसके अंदर आपको कुछ चारपाई, मेज और कुर्सी खरीदनी होगी। साथ ही उनके लिए कुछ जगह बनानी होगी। बस इसी के माध्‍यम से आप अपना होटल खोल सकते हैं।

लेकिन यदि आप शहर के अंदर होटल खोलना चाहते हैं तो उसके लिए आपको कुछ अलग चीजें ध्‍यान रखनी होगी। जो कि शहर के लोगों के हिसाब से सही हो।

इमारत का निर्माण करवाएं

सबकुछ प्‍लान करने के बाद आपको उस जगह पर अपनी इच्‍छा के मुताबिक इमारत बनवानी होगी। लेकिन यदि आप किराए पर जगह ले रहे हैं या वहां पहले से इमारत बनी है तो आपको वहां इमारत बनवाने की जरूरत नहीं पड़ेगी। बस आपको केवल उनके अंदर थोड़ा सा बदलाव करना होगा। ताकि आपको होटल चलाने में परेशानी ना आए।

बदलाव के बाद आप जिस तरह का होटल बनवाना चाहते हैं उस तरह का बन जाएगा। बस ध्‍यान इस बात का रखिए कि आप उसमें ज्‍यादा पैसे मत खर्च कीजिए। साथ ही ग्राहकों के बैठने के लिए ज्‍यादा से ज्‍यादा जगह बन सके।

Fssai में पंजीकरण करवाएं

सबकुछ तैयार हो जाने के बाद आप अपना आवेदन Fssai में कर दें। यह एक सरकारी संस्‍था है जो कि देश में खाद्य पदार्थ की बिक्री या होटल आदि चलाने के लिए मंजूरी प्रदान करती है। इसकी बिना मंजूरी के आप होटल नहीं चला सकते हैं।

इसके आवदेन की प्रक्रिया को समझने के लिए आप आगे दिए गए लिंक पर क्लिक कर सकते हैं। जहां से आप समझ सकते हैं कि कैसे आप Fssai में अपना पंजीकरण करवा सकते हैं। इसे आप ऑनलाइन भी करवा सकते हैं। बस आप इसके सभी नियमों का पालन करें।

इसे भी पढ़ें: फूड लाइसेंस बनाने की विधि

जरूरी सामान खरीदें

पंजीकरण के आवेदन के बाद आप अपना जरूरी सामान खरीदें जो कि आपको होटल में चाहिए होगा। इसके अंदर सबसे अहम तो गैस चूल्‍हा और कुछ मेज और कुर्सी चाहिए होंगी। इसके बाद आपको कुछ लाइटें खरीदनी होगी। जो कि होटल में सबसे जरूरी होती हैं। साथ ही यदि आप एसी (AC) लगवाना चाहते हैं तो आपको कुछ एसी और पंखे भी खरीदने होंगे। इसके अलावा आपको लाइट के बैकअप की व्‍यवस्‍था भी करनी होगी। ताकि लाइट जाने पर परेशानी ना हो।

बाकी चीजें आपकी जरूरत के अनुसार तय होंगी कि आप कितना बड़ा होटल खोलना चाहते हैं। आप ग्राहकों को जितनी ज्‍यादा सुविधाएं देंगे। आपको होटल खोलने में उतना ज्‍यादा पैसा खर्च करना होगा। इसलिए होटल में सुविधाएं देने से पहले आप अपना बजट देख लें।

पानी और पार्किंग की व्‍यवस्‍था करें

पानी और पार्किंग की व्‍यवस्‍था की बात हम आपको अलग से इसलिए बता रहे हैं क्‍योंकि हाइवे पर जो होटल होते हैं वो 24 घंटे खुले रहते हैं। ऐसे में ग्राहक किसी भी समय आ सकता है। इसलिए होटल खोलने से पहले आपको पानी का टैंक इतना बड़ा करवा लेना चाहिए कि आपका पानी किसी भी समय खत्‍म ना हो। क्‍योंकि दूसरी चीजों के खत्‍म हो जाने पर भी आप काम सरका लेंगे। पर यदि आपके होटल का पानी खत्‍म हो गया तो आपका काम पूरी तरह रूक जाएगा। साथ ही इससे ग्राहकों पर भी बहुत बुरा प्रभाव पड़ेगा।

इसके अलावा आपको अपने होटल के बाहर पार्किंग की भी सही व्‍यवस्‍था करनी होती है। क्‍योंकि जो भी लोग आपके होटल पर रूकेंगे वो या तो कार से आएंगे या बस से आएंगे। इसलिए जरूरी है कि आपके होटल पर जब वो आएं तो उनके साधन खड़े करने की पूरी व्‍यवस्‍था हो। साथ ही उनके साधन की रखवाली करने के लिए कोई आदमी भी नियुक्‍त होना चाहिए। ताकि आपके ग्राहक निश्चित होकर खाना खा सकें।

ठहरने की व्‍यवस्‍था करवाएं

वैसे तो होटल में रूम आदि की व्‍यवस्‍था होती है। जिसका लोग अलग से किराया लेते हैं। लेकिन यदि आपके होटल में रूम आदि नहीं है तो भी आपको ग्राहकों के लिए ठहरने की व्‍यवस्‍था करवानी होगी। क्‍योंकि हाइवे पर होटल में यदि कोई खाना खाता है तो खाना खाते ही चला नहीं जाता है।

वो कुछ समय रूककर अपनी थकान भी उतारना चाहेगा। खासतौर पर जो लोग बड़े वाहन वाले होते हैं। इसलिए आपको अपने होटल के आगे या पीछे कुछ खुली जगह पर चारपाई या तख्‍त भी डलवा देने चाहिए। ताकि लोग वहां कुछ लेट बैठ सकें। इससे आपके होटल की छवि काफी बेहतर होगी।

कर्मचारियों की नियुक्ति करें

जब आप पूरा होटल तैयार कर लेते हैं आपको Fssai से होटल चलाने का लाइसेंस मिल जाता है तो आपको होटल के कर्मचारी नियुक्‍त करने होते हैं। कर्मचारी कितने होंगे ये बात इस बात पर निर्भर करती है कि आप होटल कितना बड़ा खोल रहे हैं। साथ ही आप अपने होटल में एक साथ कितने लोगों के बैठने की व्‍यवस्‍था करना चाहते हैं। लेकिन कोशिश कीजिए कि आपके होटल में इतने कर्मचारी अवश्‍य हों कि आपके ग्राहकों को किसी तरह की परेशानी ना हो।

लेकिन यदि आपके घर में कुछ सदस्‍य ऐसे हैं जो कि काम कर सकते हैं तो आप केवल खाना बनाने वाला आदमी रख लीजिए। बाकी आप सभी लोग मिलकर काम कर लीजिए। लेकिन आपके घर के जो भी सदस्‍य हों वो काम करने वाले हों। ऐसा ना हो कि वो लोग आपके होटल में खा पीकर सो जाएं। ग्राहक आने के समय आप उन्‍हें तलाशते ही रह जाएं।

होटल का प्रचार कीजिए

जब आप होटल की पूरी तैयारी कर लेते हैं तो अंत में आपको होटल के बाहर बोर्ड लगवाना होता है। जिससे ग्राहकों केा पता लग सके कि यहां पर होटल है। लेकिन होटल का बोर्ड कोई आम नहीं होता है। क्‍योंकि हाइवे पर कोई बंधा ग्राहक नहीं होता है। बस वो बोर्ड और जगह देखकर ही रूकने का विचार करता है। इसके लिए आप हाइवे पर कुछ दूर पहले से ही बोर्ड लगवाने शुरू कर दीजिए।

साथ ही कोशिश कीजिए कि बोर्ड पूरा बड़ा और जगमगाती लाइटों वाला हो। जो कि रात में दूर से ही दिखाई दे जाए। साथ ही होटल की एक पहचान ये भी होती है कि वहां दूर से ही लाइटें लगा दी जाती हैं। इसलिए आप भी अपने होटल से कुछ दूरी से ही लाइटें लगा दीजिए। जिससे ग्राहकों को पता लग सके कि कोई होटल आने वाला है।

इसके अलावा अपने होटल का नाम आप गूगल मैप (Google Map) पर भी डाल दीजिए। जिससे जो लोग इंटरनेट की मदद से होटल की तलाश करते हैं। वो भी आपके पास आसानी से आ सकें। आज के समय गूगल मैप का चलन काफी बढ़ गया है।

होटल खोलने की लागत?

यदि हम आपको होटल खोलने की लागत बताएं तो यह काफी ज्‍यादा हो सकती है। क्‍योंकि होटल 10 लोगों का भी हो सकता है। जबकि होटल 300 लोगों का भी हो सकता है। इसलिए लागत इस बात पर निर्भर करती है कि आप कितना बड़ा और कितनी सुविधाओं वाला होटल खोलने जा रहे हैं। इसलिए जरूरी है कि होटल का प्‍लान बनाने से पहले आप अपना पूरा बजट तय कर लें।

लेकिन यदि हम सामान्‍य: होटल की बात करें तो यह कम से कम 5 से 7 लाख रूपए अवश्‍य रहेगी। इसके बाद आपको जिस तरह से फायदा होता जाए आप इसका आकार बड़ा कर सकते हैं। आकार बड़ा करने के लिए यदि आपके होटल के चारो तरफ जगह नहीं है तो होटल के ऊपर एक और मंजिल बनाकर उसे बड़ा कर सकते हैं।

होटल से होने वाली आमदनी?

जिस तरह से हमने आपको होटल खोलने में लगने वाली लागत की जानकारी दी। ठीक उसी तरह से आमदनी भी कोई तय नहीं है। इसे आप इस तरह से समझ सकते हैं कि हर जब कोई छुट्टी या गर्मी का मौसम आ जाता है तो लोग ज्‍यादा घूमने जाते हैं। लिहाजा उस समय आपकी ज्‍यादा आमदनी होगी।

लेकिन धुंध और बरसात के साथ ठंड में कम लोग बाहर जाना पसंद करते हैं। इसलिए तब आपकी कम आमदनी होगी। लेकिन यदि आप हम सामान्‍यत: बात करें तो आप एक साधारण होटल से भी हर महीने 50,000 रूपए आराम से कमा सकते हैं। बाकी समय और अनुभव के साथ आपकी आमदनी बढ़ती जाएगी।

होटल चलाने से जुड़े नियम

क्‍योंकि होटल लोगों की सेहत से जुड़ा होता है। कोई चाहे आपके होटल पर बैठकर खाना खाए या पैक करवा के ले जाए। पर यदि आपका खाने में किसी तरह की कमी होगी तो उसका प्रभाव सीधा उसकी सेहत पर पड़ेगा। इसलिए होटल चलाने से जुड़े कुछ नियम कायदे भी होते हैं।

इन नियमों को आप Fssai की वेबसाइट पर जाकर देख सकते हैं। साथ ही जरूरी होता है कि आप इनका पालन भी करते रहें। अन्‍यथा जब भी आपके होटल की जांच होगी तो आपकी लापरवाही मिलने पर भारी जुर्माना लगाया जा सकता है। जिससे आपकी छवि भी खराब होगी।

ध्‍यान रखने योग्य बातें

  • कभी भी सीधा करोड़ों रूपए किसी भी होटल में ना लगाएं। पहले आप छोटा होटल खोलें। इसके बाद रूझान देखकर आकार बड़ा करें।
  • हर जगह के कुछ खास पकवान होते हैं। इसलिए कोशिश करें कि आप जिस जगह होटल खोल रहे हैं। वहां के लोकल खानपान की चीजें अपने होटल पर अवश्‍य रखें।
  • होटल में ग्राहकों को प्रभावित करने के लिए साज सज्‍जा जरूरी है। लेकिन अंतिम प्रभाव छोड़ने के लिए आपका खाना बेहतरीन होना चाहिए। इसलिए खाने की गुणवत्‍ता के साथ कभी समझौता ना करें।
  • आपके होटल पर जो भी कर्मचारी हों उनसे आप ये कह दीजिए कि हमेशा ग्राहकों से प्‍यार से बात करनी है। चाहे कि फिर अमीर ग्राहक हो या गरीब।
  • शुरूआत में आपको अपने ग्राहक बनाने के लिए दूसरों से थोड़ा कम रेट लगाना होता है। ताकि आपके ग्राहक आसानी से बढ़ सकें।
  • ज्‍यादा मुनाफे के लिए आप कभी भी बाजार से सस्‍ती या पुरानी सब्‍जी या चावल ना खरीद कर लाएं। ये भविष्‍य में आपके लिए नुकसानदेह हो सकता है।
  • शुरूआत में आपको चाहिए कि आप ग्राहकों से ही फीडबैक लेते रहें। ताकि आप अपने होटल पर सुविधाएं मांग के अनुसार बढ़ सकें।
  • होटल चलाने से जुड़े नियम बेहद सख्‍त होते हैं। इसलिए हमेशा अपने कागजात और खानपान का सही सिस्‍टम रखें। ताकि छापा पड़ने पर आपको घबराना ना पड़े।

इसे भी पढ़ें: खुद का बिजनेस कैसे करे?

FAQ

होटल कहां खोलना चाहिए?

होटल हाइवे या किसी घूमने फिरने वाली जगह पर खोलना चाहिए।

होटल का पंजीकरण कहां होता है?

होटल खोलने के लिए आपको Fssai में पंजीकरण करवाना होता है।

होटल खोलने में लागत कितनी आती है?

कम से कम 5 से 7 लाख रूपए।

होटल से कितनी आमदनी हो सकती है?

महीने की 50 हजार से लेकर 2 लाख रूपए तक।

Conclusion

आशा है कि अब आप समझ गए होंगे कि Hotel business plan in Hindi में आप कैसे अपना होटल खोल सकते हैं। इसे जानने के बाद आप अपने मन में एक अच्‍छा सा प्‍लान बनाइए और उसे हकीकत का रूप देने के लिए मेहतन करने में जुट जाइए। इसके बाद आप देखेंगे कि कुछ ही महीनों में आपका काम गति पकड़ लेगा। वैसे तो हमने इस लेख में हमने आपको होटल खोलने से जुड़ी पूरी जानकारी दे दी है। पर फिर भी आपका यदि कोई सवाल है तो हमें नीचे कमेंट करें। हम आपके सवाल का जवाब अवश्‍य देंगे।

 
 
 
 

यह पोस्ट आपके लिए कितना उपयोगी है?

स्टार पर क्लिक करके हमें बताये!

औसत रेटिंग 3.9 / 5. कुल वोट 369

उम्र में युवा और तजुर्बे में वरिष्ठ रोहित यादव हरियाणा के रहने वाले हैं। पत्रकारिता में डिग्री रखने के साथ इन्होंने अपनी सेवाएं कई मीडिया संस्थानों को दी हैं। फिलहाल ये पिछले लंबे समय से अपनी सेवाएं 'All in Hindi' को दे रहे हैं।

Leave a Comment