How To Write A Letter In Hindi

आज कल के युग में ( Letter ) पत्र लिखना एक कला है, पत्र लेखन एक ऐसी कला है जिसमे हम अपनी मन की भावनाओ को शब्दों के जरिये व्यक्ति के सामने आसानी से व्यक्त कर सकते है। इसलिए पत्र लिखते समय पत्र में सहज, सरल तथा सामान्य बोलचाल की भाषा का प्रयोग करना उचित होता है, इससे लाभ ये है कि पत्र ( Letter ) को प्राप्त करने वाला लेटर में व्यक्त भावनाओ और पत्र के उद्देश्य को अच्छी तरह से समझ सके और उसका उत्तर भी दे सके।
Letter ( लेटर ) लिखना एक अच्छी कला मानी जाती है जिससे हम अपने भावों और विचारों को आसानी से व्यक्त कर सकते हैं। जिन बातों को बताने में लोग शर्माते हैं, उन बातों को लेटर के माध्यम से आसानी से समझाया या कहा जा सकता है। पत्र दिलो को जोड़ने का सूचनाओं के आदान प्रदान का ,समाज में जाग्रति फैलाने , अपनी बात सब तक पहुंचाने का सबसे अच्छा माध्यम है।

 

हमे पत्र लिखने की आवश्यकता क्यों आती है ?

लेकिन अब बात यह आती है कि हमे पत्र लिखने की आवश्यकता क्यों आती है, हम पत्र अपने से दूर रहने वाले अपने रिस्तेदारो अथवा मित्रों की हाल चाल जानने के लिए और अपना खुद का हाल चाल का जानकारी देने के लिए पत्र Letter लिखे जाते हैं। भले ही आजकल हमारे पास बातचीत करने के लिए और हाल चाल पूछने के लिए बहुत सारे आधुनिक साधन उपलब्ध हो गए हैं, जैसे- टेलीफ़ोन, मोबाइल फ़ोन, ईमेल आदि। आज भले ही दूरसंचार क्रांति के कारण मोबाइल जैसे सुलभ साधन आ गए है पर फिर भी पत्रों का महत्व कम नहीं हुआ है
अब सवाल यह आता है की फिर भी पत्र-लेखन सीखना क्यों जरुरी है? पत्र को लिखना महत्वपूर्ण भी है और अत्यंत जरुरी भी है, फ़ोन या टेलीफ़ोन आदि पर बातचीत स्थायी नहीं होती है, लेकिन इसके विपरीत ही लिखित दस्तावेज स्थायी रूप ले लेता है। उदाहरण- जब आपकी तबियत खराब होती है और आप विद्यालय नहीं जा पाते, तब आप को अवकाश के लिए प्रार्थना पत्र लिखना पड़ता है।

पत्रों Letter को कितने भागो में बाटा गया है
पत्रों को मुख्य रूप से दो भागों में विभाजित किया गया है 

  1. औपचारिक-पत्र (Formal Letter)
  2. अनौपचारिक-पत्र (Informal Letter)

औपचारिक पत्र क्या होता हैं? (What is formal letter in Hindi)

जिससे हमारा कोई निजी संबंद नहीं होता है यह उन लोगों को लिखा जाने वाला पत्र औपचारिक पत्र कहलाता है औपचारिक पत्रों को केवल किसी विशेष कार्य से सम्बंधित तथ्यों पर ही केंद्रित रखा जाता है।
व्यापार से संबंधी, प्रधानाचार्य को प्रार्थना पत्र लिखना , आवेदन पत्र, सरकारी विभागों में पत्र को लिखना , संपादक के नाम पत्र आदि औपचारिक-पत्र के उदहारण (example of formal letter ) हैं।
हमें Hindi Writing Letter के औपचारिक पत्र लिखने में मुख्य रूप से संदेश, सूचना एवं तथ्यों को बहुत अधिक महत्व देना पड़ता है। इसमें आप कम से कम शब्दों में अपनी बात को पूरा करते हुए लेख को स्पष्ट करना होता है, कहने का मतलब है की पत्र प्राप्त करने वालों को आप बात आसानी से समझ आये ऐसी भाषा का प्रयोग तथा पूरी बात एक ही लेख में कहने की कोशिश की जाती है।

औपचारिक पत्र के प्रकार

  • बीमार होने पर प्रधानाचार्य को पत्र लिखना
  • सिस्टर की शादी के लिए अवकास पत्र लिखान
  • यात्रा करते हुए आपका बैग छूट गया उसके लिए अधिकारी को पत्र लिखना

How To Write A Letter In Hindi- औपचारिक-पत्र (Formal Letter)

औपचारिक पत्र लिखने के लिए आप निचे दिए गए स्टेप्स को देखकर लिख सकते है
बीमार होने पर प्रधानाचार्य को पत्र लिखना

सेवा में ,

श्रीमान प्रधानचार्य 

पता ( स्कूल का ) 

विषय ( जिस टॉपिक पर आप को पत्र लिखना हो ) 

महोदय 

( निचे पूरा मेटर लिखे ) ..................................................




धन्यवाद

आपका आज्ञाकारी शिष्य

 (अपना नाम लिखे )

कक्षा ( जिस क्लास में आप पढ़ते हो ) 

दिनांक

अनौपचारिक पत्र क्या होता हैं (WHAT IS INFORMAL LETTER IN HINDI )

यह पत्र हम उन लोगो को लिखते है जिनसे हमारे वक्तिगत संबंद या निजी सम्बन्ध होता है। अनौपचारिक पत्र को हम व्यक्तिगत पत्र भी कह सकते हैं |
जो पत्र हम अपने मित्रों, माता-पिता, अन्य सगे सम्बन्धियों को लिखते है वह पत्र अनौपचारिक-पत्रों की श्रेणी में रखे जाते हैं। अनौपचारिक पत्रों में व्यक्तिगत तथ्यों का उल्लेख करते हुए अपने दिल का भाव प्रकट करना होता है। इस तरह के पत्र लिखने में लेखक व्यक्तिगत बातों को पूछता है और अपनी निजी बातें बताता है |

अनौपचारिक-पत्र के प्रकार (TYPES OF INFORMAL LETTER)

अनौपचारिक पत्रों में निम्नलिखित प्रकार के पत्र लिखे जाते है

  • बधाई पत्र
  • विशेष अवसरों पर लिखे गये पत्र
  • किसी प्रकार की जानकारी देने के लिए
  • कोई सलाह आदि देने के लिए
  • शुभकामना पत्र
  • निमंत्रण पत्र

How To Write A Letter In Hindi- Informal Letter

निचे दिए गए टिप्स को देखकर आप अनौपचारिक पत्र लिख सकते है।

                                   निमंत्रण पत्र 

सेवा में,

मामा जी 

पता ( मामा जी का )

विषय ( जिस टॉपिक पर आप को पत्र लिखना हो जैसे की - निमंत्रण पत्र के लिए )

निचे आप पूरा मैटर लिखे ( की किस की शादी है और वह किस डेट पर होगी और वह शादी किस जगह होगी आदि ) 




धन्यवाद 

आप अपना नाम लिखे 

दिनांक 

अंतिम शब्द

आशा है की आप को इस पोस्ट के जरिये How to write a letter in hindi ( हिंदी में पत्र कैसे लिखे ) के बारे में पूरी जानकारी मिल गयी होंगी मेरी हमेशा से एहि कोशिश रहती है की आप को दिए गए विषय पर पूरी जानकारी प्राप्त हो सके जिससे आप को कही और जाना न पड़े अगर आप को इस पोस्ट से जुडी कोई भी परेशानी हो तो आप हमे निचे कमेंट में जरूर बताये जिससे हम आप के परेशानी को जल्द से जल्द दूर कर सके।

Leave a Reply

Ads Blocker Image Powered by Code Help Pro
Ads Blocker Detected!!!

We have detected that you are using extensions to block ads. Please support us by disabling these ads blocker.

Refresh