इंटीरियर डिजाइनर कैसे बनें, कोर्स, फीस, सैलरी, नौकरी की संभावनाए

4.8
(376)

इंटीरियर डिजाइनर कैसे बनें?

Interior Designer kaise bane: यदि आपका सवाल है कि इंटीरियर डिजाइनर कैसे बनें? तो आप सही जगह पर है। यहाँ आज आप जानेगें कि Interior Designer क्‍या होता है? कैसे बने? कोर्स की जानकारी, फीस नौकरी की संभावनाए और कितनी कमाई होगी इन सभी की जानकारी आसान भाषा में।

आज की तारीख में हमारे देश के युवाओं का सबसे बड़ा सवाल यही रहता है वो आगे चलकर ऐसा कौन सा कोर्स करें जिससे उनके भविष्‍य में संभावनाओं के दरवाजे खुलते ही चले जाएं। इसके लिए वो तरह तरह के कोर्स के बारे में जानकारी तलाशते हैं। साथ ही कई बार अपने ऐसे साथियों से बात भी करते हैं जिन्‍होंने कोई बड़ी पढ़ाई उनसे पहले पूरी कर ली हो। लेकिन फिर भी इस सवाल का जवाब तलाशना इतना आसान नहीं रहता है।

ऐसे में यदि आप इसी उधेड़ बुन में लगे हुए हैं कि आगे चलकर कौन सा कोर्स किया जाए जिसे करने के बाद आपको आगे चलकर आपको पछताना ना पड़े। तो आप हमारी इस पोस्‍ट को अंत तक पढि़ए। अपनी इस पोस्‍ट में हम आपको इंटीरियर डिजाइन के बारे में बताएंगे। साथ ही जानकारी देंगे कि किन लोगों को ये कोर्स करना चाहिए। यदि आप ये कोर्स करते हैं तो एक इंटीरियर डिजाइनर बनकर हर महीने लाखों रूपए तक कमा सकते हैं।

Interior Designer क्‍या होता है?

इंटीरियर डिजाइनर का काम मुख्‍यत: सजावट का होता है। ये लोग आपके घर दफ्तर या स्कूल कॉलेज या सिनेमा हॉल या शॉपिंग मॉल जैसी जगहों को सजाने का काम करते हैं। जिन भी लोगों को सजावट करवानी होती है वो लोग किसी भी Interior Designer को बुलाते हैं और वो अपने हिसाब से आपकी रखी हुई चीजों को इस तरह से सजा देता है। कि आपकी उसी जगह में मानो चार चांद लग जाते हैं।

ये भी पढ़ें: ITI full form और iti से जुड़े सभी सवालों के जवाब 

आज के समय में जहां चीजें बेचने या खरीदने का काम होता है वहां Interior Designer का सबसे ज्‍यादा महत्‍व होता है। क्‍योंकि कहा जाता है कि ‘जो दिखता है वही बिकता है’। इन कामों के अलावा भी Interior Designer के कुछ अन्‍य काम होते हैं। आइए उन्‍हें बिन्‍दुवार समझते हैं।

  • लोगों की जरूरत और उनकी इच्‍छा को समझने के लिए उनके साथ मीटिंग करना।
  • क्‍लांइट की जगह पर जाकर सजावट के चीाजों और मकान को देखना।
  • मकान के रंग और फिटिंग आदि में क्‍लांइट को लेकर महत्‍वपूर्ण सुझाव देना।
  • क्‍लाइंट की सारी बात को समझने के बाद उसे अपने लैपटॉप पर एक स्‍क्रैच तैयार करके देना। जिससे वो समझ सके क‍ि डिजाइन के बाद उसका दफ्तर या घर कैसा दिखाई देगा।
  • अंत में उसे डिजाइन की कुल लागत बताना और कम या ज्‍यादा करने के सुझाव पर उससे बात करना।

इंटीरियर डिजाइनर कैसे बनें? – Interior Designing course in hindi

यदि हम इंटीरियर डिजाइनर के कोर्स की बात करें तो इसे कोई भी कर सकता है। बस शर्त ये होती है कि उसकी रूची घर को सजाने और संवारने के कामों में खूब होनी चाहिए। उसे पता होना चाहिए कि साज सज्‍जा के लिए बाजार में कौन सी चीजें उपलब्‍ध हें और किन चीजों से किसी जगह को बेहतर लुक दिया जा सकता है।

क्‍योंकि जब आप इस कोर्स को पूरा करके बाहर निकलेंगे तो यही देखा जाएगा कि आपको काम कितने अच्‍छे से आता है। ना कि लोग ये देखेंगे कि आपने कोर्स छह महीने का किया है या दो साल का आपकी जो आमदनी होगी वो आपके काम के आधार पर ही होगी।

साथ ही इस काम में आपकी भाषा पर भी अच्‍छी पकड़ होनी चाहिए और आपको हिंदी और अंग्रेजी का ज्ञान तो जरूर होना चाहिए। क्‍योंकि आपको काम के सिलसिले में कई राज्‍यों में जाना पड़ सकता है। जहां आपको लोगों से हिंदी और अंग्रेजी में बात करनी पड़ सकती है।

ये भी पढ़ें: इंडिया में सबसे अच्छा बिजनेस कौन सा है?

Interior Designer कोर्स के लिए योग्‍यता

यदि हम इंटीरियर डिजाइनर बनने की योग्‍यता की बात करें तो इसमें कोई खास योग्यता की जरूरत नहीं होती है। इस कोर्स के लिए आपको किसी भी बोर्ड से 12 वीं पास होना चाहिए। इसमें आपके पास चाहे कोई भी स्ट्रीम क्‍यों ना हो बस आपके नंबर 50 प्रतिशत से अधिक होने चाहिए। जो कि ज्‍यादातर संस्‍थानों में एडमिशन के लिए जरूरी होते हैं।

इसके बाद आप चाहे तो Interior Designer के डिप्‍लोमा या किसी भी डिग्री कोर्स में एडमिशन ले सकते हैं। यदि आप डिप्‍लोमा करते हैं तो ये एक साल का होगा। लेकिन यदि आप इंटीरियर डिजाइनर का डिग्री कोर्स करते हैं तो ये चार साल का होगा। आप चाहे तो इसे स्‍नातक के बाद भी कर सकते हैं। इसमें ढेरों ऐसे कोर्स हैं जो स्‍नातक के बाद भी किए जा सकते हैं।

Interior Designer के ज्‍यादातर संस्‍थानों में दाखिले के लिए आपको एक टेस्‍ट देना पड़ता है। जिसे यदि आप पास कर लेते हैं तो आपका दाखिला हो जाता है। सरकारी संस्‍थानों में इस टेस्‍ट को पास करने के लिए आपको काफी मेहनत करनी पड़ती है। तभी जाकर आपको वहां दाखिला मिलता है।

Interior Designer से संबधित अन्य कोर्स

आगे हम आपको Interior Designer से संबधित कुछ कोर्स के नाम बताने जा रहे हैं। यदि आप इंटीरियर डिजाइनर बनना चाहते हैं। तो इनमें से कोई भी कोर्स आप कर सकते हैं। जो कि तमाम शिक्षण संस्‍थानों में आपको मिल जाएंगे। किसी भी कोर्स में जब आप एडमिशन लेने जाएं तो आप एक बार उसका पूरा सेलेब्‍स और उसे करके आप किस तरह के इंटीरियर डिजाइनर बन सकते हैं। उस बारे में जरूर जान लें। ताकि आपको आगे चलकर परेशानी ना हो।

  • डिप्लोमा इन इंटीरियर डिजाईन
  • डिप्लोमा इन इंटीरियर डिजाईन एंड आर्किटेक्चर
  • सर्टिफिकेट इन इंटीरियर डिजाईन
  • सर्टिफिकेट इन इंटीरियर डिजाईन एंड डेकोरेशन
  • बैचलर ऑफ़ इंटीरियर डिजाईन
  • बैचलर ऑफ़ आर्किटेक्चर इंटीरियर डिजाईन
  • बैचलर ऑफ़ इंटीरियर डिजाईन (SEPT)
  • बैचलर ऑफ़ आर्किटेक्चर एंड डिजाईन
  • बैचलर ऑफ़ डिजाईन
  • बैचलर ऑफ़ साइंस इन इंटीरियर डिज़ाइन
  • फाइन आर्ट्स इन इंटीरियर डिजाईन
  • 3D डिजाईन
  • क्रिएटिव टेक्निक इन इंटीरियर डिजाईन
  • डिजाईन एंड क्राफ्ट इन इंटीरियर डेकोरेशन
  • स्पेशल डिजाईन इंटीरियर्स
  • प्रोफेशन इंटीरियर डिजाईन स्किल्स
  • इंटीरियर डिजाईन स्किल्स

Interior Designer के कोर्स की फीस

जैसा कि हमने आपको ऊपर बताया कि Interior Designer का कोर्स डिप्‍लोगा और डिग्री दोनों में होता है। साथ ही इसके अंदर बहुत सारे कोर्स होते हैं। जो‍िकि आपको अलग अलग क्षेत्र के बारे में बताते हैं। ऐसे में यह बात बता पाना कि इंटीरियर डिजाइनर कोर्स की कुल फीस कितनी होती है। थोड़ा कठिन होगा।

लेकिन यदि हम आपको इसका अंदाजा बताएं तो इस कोर्स की फीस 30 हजार से शुरू होती है और दो से तीन लाख तक जा सकती है। फीस पूरी तरह से इस बात पर निर्भर करेगी कि आप कौन सा कोर्स करने जा रहे हैं और उसके लिए कौन सा संस्‍थान चुनते हैं।

संस्‍थान जितना बड़ा और नामी होगा उसकी फीस उतनी ज्‍यादा मिलेगी। इसलिए आप हमेशा सरकारी संस्‍थानों को प्राथमिकता में रखें। इसके लिए आपको हम पोस्‍ट के अंत में कुछ महत्‍वपूर्ण शिक्षण संस्‍थानों के नाम बताएंगे। आप उनकी वेबसाइट पर जाकर कोर्स और उनकी फीस देख सकते हैं। साथ ही आप उनकी हेल्‍पलाइन नंबर पर बात भी कर सकते हैं।

ये भी पढ़ें: नेटवर्क मार्केटिंग में सफल होने के तरीके

इंटीरियर डिजाइन में नौकरी की संभावनाएं

Interior Designer कोर्स पूरा करने के बाद यदि हम नौकरी की बात करें तो आपको इसके लिए ज्‍यादातर समय कॉलेज से ही प्‍लेसमेंट दे दी जाती है। जिसमें आपको किसी कंपनी के अंदर पहले इंटर्नशिप करनी होती है। इसके बाद आपको वहीं नौकरी दे दी जाती है। क्‍योंकि आज के समय में कई बड़ी बड़ी कंपनियां केवल इंटीरियर डिजाइन का काम ही देखती हैं। जिन्‍हें लोग बड़े बड़े समारोह के लिए हायर करते हैं। जैसे कि राजनैतिक कार्यक्रम, फिल्‍म शूटिंग, बड़े शादी समारोह आदि।

इस तरह की कंपनियों में आप यदि एक साल तक काम करते हैं तो आपको बहुत कुछ सीखने को मिलेगा। साथ ही आपकी इस सेक्‍टर में जान पहचान भी बढ़ेगी। इसके बाद आप दूसरी कंपनियों में भी आवेदन कर सकते हैं। लेकिन यदि आप नौकरी नहीं करना चाहते हैं तो कोर्स पूरा करने के बाद आप अपने स्‍तर पर ये काम शुरू कर दें।

इसमें आपको आपके शहर में होने वाले कार्यक्रम और तमाम तरह के विवाह शादियों में सजावट के लिए बुलाया जाएगा। साथ ही फिल्‍मों और टीवी सीरियल में भी Interior Designer की मांग बहुत ज्‍यादा रहती है। आप उस क्षेत्र में भी जा सकते हैं। लेकिन शुरूआत में यदि आप अपने स्‍तर पर काम शुरू करते हैं तो आपकी आमदनी कम होगी।

इंटीरियर डिजाइनर

शुरूआती सैलरी क्‍या होगी?

यदि हम Interior Designer की शुरूआती सैलरी की बात करें तो इसमें आपकी शुरूआत लगभग 20 से 30 हजार रूपए महीने के हिसाब से हो सकती है। जबकि आपका वेतन इस बात पर भी निर्भर करेगा कि आपको काम की कितनी अच्‍छी जानकारी है और आपने अपनी पढ़ाई किस संस्‍थान से पूरी की है। यदि सबकुछ सही है तो समय के हिसाब से आपकी सैलरी बढ़ती जाएगी। खास बात ये है कि इस काम में यदि आप किसी कंपनी से जुड़े हैं तो आपको पूरे देश में घूमने का मौका मिलेगा। जिससे आपको पता लगेगा कि देश में किस तरह की सजावट कहां पसंद की जाती है।

लेकिन यदि आप आगे चलकर अपना काम शुरू कर देते हैं तो इसमें आपको एक इंवेट के एक लाख रूपए तक मिल सकते हैं। क्‍योंकि आप आज कहीं भी जाएं सबसे ज्‍यादा पैसा लोग सजावट पर ही खर्च करते हैं। चाहे वो छोटे से छोटा कार्यक्रम हो या बड़े बड़े से बड़ा। अपने काम की खास बात ये भी रहती है कि इसमें आपको अपने शहर के अंदर ही आसानी से काम मिल जाएगा। जिससे यदि आप महिला है तो आप अपना घर भी आसानी से संभाल सकती हैं।

इंटीरियर डिजाइनिंग में सफलता के 5 मूल मंत्र

  • इस काम में सबसे जरूरी है कि आप सामने वाले आदमी की भावनाओं को समझें कि वो अपने घर या दफ्तर को किस तरह से सजाना चाहता है उसे जानें। इसलिए अपनी बात रखने से पहले ये जान लें कि सामने वाला चाहता क्‍या है।
  • बतौर इंटीरियर डिजाइनर भले ही आपको दशकों का अनुभव हो जाए पर इस बात का हमेशा ध्‍यान रखें कि हर आदमी की जरूरत और पसंद अगल अलग होती है। इसलिए अनुभव के आधार पर कभी भी खुद से कोई काम ना शुरू कर दें। कि सामने वाला भी इसी सजावट को पसंद करेगा।
  • आप इस बात का भी ध्‍यान रखें कि सामने वाले को सजावट भी अच्‍छी दिखनी चाहिए और उसका पैसा भी कम लगे। यदि आपमें कम पैसे में अच्‍छी सजावट की कला है तो आपको हर कोई सबसे पहले बुलाना पसंद करेगा। इसके लिए आप अपने साथ एक लैपटॉप रखें जहां आप सजावट से पहले उसे स्क्रैच बनाकर दिखा दें।
  • जब भी आप सजावट करें तो इस बात का ध्‍यान रखें कि शादी में अगल तरह की सजावट होती है, कमरे में अलग और जन्‍मदिन पर अलग, किसी राजनैतिक कार्यक्रम में अलग। जो चीज एक जगह बहुत अच्‍छी लगी उसे आप किसी दूसरी जगह अपनाते हैं तो जरूरी नहीं वो वहां भी खूबसूरत लगे। ठीक उसी तरह जैसे हम घर में अलग कपड़े पहनना पसंद करते हैं और शादी के कार्यक्रम में अलग।
  • अच्‍छी सजावट के लिए आपको खूब घूमना चाहिए। ताकि आपकी हर सजावट एक दूसरे से अलग और बेहतर हो। इससे आपकी कला को लोगों के अंदर एक अलग पहचान मिलेगी।

प्रमुख शिक्षण संस्‍थान

आगे हम आपको हमारे देश में कुछ चुनिंदा ऐसे शिक्षण संस्‍थानों के नाम बताने जा रहे हैं। जो कि इंटीरियर डिजाइन का कोर्स करवाते हैं। इन संस्‍थानों से जुड़ी और ज्‍यादा जानकारी के लिए आप इनकी वेबसाइट भी देख सकते हैं।

  • नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ डिज़ाइन, अहमदाबाद
  • सेंट फ्रांसिस इंस्टीट्यूट ऑफ आर्ट एंड डिज़ाइन, मुंबई
  • नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ डिज़ाइन, दिल्ली
  • सर जे जे स्कूल ऑफ आर्ट्स, मुम्बई
  • CEPT यूनिवर्सिटी, अहमदाबाद
  • इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ फैशन टेक्नोलॉजी, चंडीगड़
  • आर्क कॉलेज ऑफ डिज़ाइन, जयपुर
  • पर्ल एकेडमी, मुम्बई
  • जेडी इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, मुंबई
  • MIT इंस्टीट्यूट ऑफ डिज़ाइन, पुणे
  • मणिपाल यूनिवर्सिटी, मणिपाल
  • हमस्टेक इंस्टीट्यूट ऑफ क्रिएटिव एजुकेशन, हैदराबाद
  • इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ फैशन डिज़ाइन, मुम्बई
  • जेडी इंस्टीट्यूट ऑफ फैशन टेक्नोलॉजी, लखनऊ
  • एमिटी यूनिवर्सिटी, लखनऊ
  • महाराज शायजीराव यूनिवर्सिटी, वडोदरा
  • स्कूल ऑफ प्लानिंग एंड आर्कटिकचर, हैदराबाद
  • आईआईटी गोहाटीइंटरनेशनल स्कूल ऑफ डिज़ाइन, कोलकाता

Conclusion

कोर्स कोई भी हो लगन और रूचि दोनों होनी जरुरी है। इंटीरियर डिजाइनर अच्छा पैसा कमा सकता है पर तभी जब उसके अन्दर रूचि होगी। इसलिए कोर्स का चुनाव करते समय अपने आप से ये भी पूछें कि क्या आपको इस काम में मजा आयेगा? क्या आप इसे लम्बे समय तक जारी रख पाएंगे। इसी आशा के साथ कि आप अपने लिए सबसे बेहतर विकल्प का चुनाव करेंगे, और जीवन में सफ़लता आपके कदम चूमेगी, जय हिन्द जय भारत।

यह पोस्ट आपके लिए कितना उपयोगी है?

स्टार पर क्लिक करके हमें बताये!

औसत रेटिंग 4.8 / 5. कुल वोट 376

नमस्कार दोस्तों, मैं रवि "आल इन हिन्दी" का Founder हूँ. मैं एक Economics Graduate हूँ। कहते है ज्ञान कभी व्यर्थ नहीं जाता कुछ इसी सोच के साथ मै अपना सारा ज्ञान "आल इन हिन्दी" द्वारा आपके साथ बाँट रहा हूँ। और कोशिश कर रहा हूँ कि आपको भी इससे सही और सटीक ज्ञान प्राप्त हो सकें।

1 thought on “इंटीरियर डिजाइनर कैसे बनें, कोर्स, फीस, सैलरी, नौकरी की संभावनाए”

Leave a Comment