IPS officer kaise bane | आईपीएस बनने के लिए योग्यता?

4.5
(312)

IPS की तैयारी कैसे करें?

IPS officer kaise bane; आज के समय में यदि आप किसी भी बच्‍चे से सवाल पूछते हैं कि वो बड़ा होकर क्‍या बनना चाहता है। तो संभवत: सबसे पहला जवाब यही होगा कि IAS या IPS अफसर बनना चाहता है। ये बताता है कि हमारे देश के युवाओं में इस समय IPS अफसर बनने का कितना जुनून होता है। लेकिन एक सच ये भी है कि हर साल देश में लाखों युवा आईपीएस की परीक्षा देते हैं। पर उसमें से केवल कुछ सौ लोग ही आईपीएस बनकर सफलता के मुकाम को छू पाते हैं।

यदि आप भी आईपीएस बनने का सपना देख रहे हैं। तो हमारे इस लेख केा अंत तक पढ़ते जाइए। अपने इस लेख में हम आपको बताएंगे कि IPS officer kaise bane, ips ki taiyari kaise Karen तैयारी के दौरान किन बातों का ध्‍यान रखें।

IPS अफसर कौन होता है?

IPS भारतीय पुलिस सेवा में एक विभाग होता है। जिसकी फुल फार्म Indian Police service होती है। इसमें चयन UPSC (Union Public Service Commission) के द्वारा किया जाता है। इस पद के लिए UPSC हर साल परीक्षा आयोजित करवाता है। जिसमें कुल तीन चरण होते हैं। इस परीक्षा में सफल होने वाले अभ्‍यर्थी सबसे पहले IAS और फिर IFS और IPS के अंदर जा सकते हैं। इसमें कई तरह के पद होते हैं। जो कि रैंक (Rank) के हिसाब से दिए जाते हैं।

आईपीएस गृह मंत्रालय के अंर्तगत आने वाला पद है। जिसे केंद्र और राज्‍य सरकार दोनों नियोजित कर सकती है। क्‍योंकि IPS हमेशा किसी जिले में कार्य करता है। इसलिए राज्‍य सरकार का भी नियंत्रण होना बेहद जरूरी है।

IPS की तैयारी किन्‍हें करनी चाहिए?

वैसे तो IPS की तैयारी कोई भी कर सकता है। योग्‍यता पूरी करने वाला का हर उम्‍मीदवार परीक्षा में बैठ सकता है। लेकिन कुछ चीजें हमें सोच समझ कर ही IPS की तैयारी शुरू करनी चाहिए। इसमें सबसे पहली चीज तो ये है कि आप पूरी तरह से मेहनत करने के लिए तैयार हों। ऐसा ना हो कि आप बाद में सोचें कि आपने तो बस मजाक में तैयारी शुरू कर दी थी।

इसके बाद आप अपनी असफलता से घबराने की बजाय उससे सीख कर आगे बढ़ने की क्षमता रखते हों। साथ ही आपकी उम्र सीमा समाप्‍त होने वाली ना हो। क्‍यों‍कि यदि आपकी उम्र ही निकल जाएगी तो आप आगे परीक्षा में बैठ ही नहीं सकते हैं। फिर चाहे आपकी तैयारी अंतिम चरण में क्‍यों ना पहुंच चुकी हो।

इसे भी पढें: आईएएस के लिए कौन सी किताबें पढ़नी चाहिए? |

IAS के आवेदन से जुड़ी जानकारी

ips ki taiyari kaise karen, ips officer kaise bane में आगे हम आपको कुछ महत्‍वपूर्ण जानकारी देने जा रहे हैं। जिसे जानने के बाद आप आसानी से IAS के लिए आवेदन कर सकते हैं। चलिए जानते हैं ips ki taiyari kaise karen

IPS के लिए फार्म कब निकलते हैं?

IPS के लिए फार्म कब निकलते हैं इसका कोई निश्चित जवाब नहीं है। लेकिन एक अंदाजा के तौर पर आपको हम बताएं, तो हर साल फरवरी माह में UPSC IPS के फार्म निकालती है। जिसे आप ऑनलाइन वेबसाइट पर जाकर भर सकते हैं। इसके लिए जरूरी है कि आप फरवरी माह के आसपास लगातार UPSC की वेबसाइट चेक करते रहें। ताकि जब भी फार्म निकलें आप तुरंत भर दें।

यदि हम फार्म भरने वालों की बात करें तो हर साल इस फार्म को 10 लाख लोग भरते हैं। जिसमें पांच लाख लोग परीक्षा देने पहुंचते हैं। इसके बाद Pre, Mains, Interview तीन चरणों को पास करने के बाद अंत में किसी ना किसी सेवा में जाकर चयनित होते हैं। इस‍ीलिए कहा जाता है UPSC की परीक्षा कठिन के साथ लंबी भी है।

ips kaise bane

IPS बनने के लिए योग्‍यता

IPS बनने के लिए आपको किसी भी कॉलेज या विश्‍वविधालय के ग्रेजुएट (Graduate) होना चाहिए। इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता है कि आप किस विषय में ग्रेजुएट हैं। आपके पास चाहे Ba, B.com, B.sc, BBA, BCA आदि विषय में से किसी में भी डिग्री (Degree) हो।

खास बात ये है कि यदि आप ग्रेजुएशन के फाइनल वर्ष में हैं तो भी आप आसानी से UPSC का फार्म भर सकते हैं। बस आपकी ग्रेजुएशन दस्‍तावेज सत्‍यापन के समय तक पूरी हो जानी चाहिए। फिर चाहे वो Distance से ही क्‍यों ना चल रही हो।

राष्‍ट्रीयता

IPS का फार्म भरने के लिए जरूरी है कि आप भारत के नागरिक हों। कई दूसरी सरकारी नौकरी में यदि आप नेपाल, भूटान, बांग्लादेश आद‍ि से माइग्रेंट नागरिक (Migrant citizen) हों तो भी आवेदन कर सकते हैं। लेकिन IPS का फार्म भरने के लिए यह जरूरी है कि आप भारत के निवासी ही हों। इसके बिना आप इसका फार्म नहीं भर सकते हैं।

आयु सीमा

यदि हम आयु सीमा (Age criteria) की बात करें। तो आवेदन करने के लिए सामान्‍य श्रेणी (General) के पुरूष और महिला की आयु 21 से 32 वर्ष के बीच में होनी चाहिए। जबकि ओबीसी श्रेणी (OBC) के लिए 21 से 35 वर्ष के बीच आयु सीमा रखी गई है। जो कि तीन साल की छूट के साथ है। जबकि एससी श्रेणी (SC) के आवेदकों के लिए 21 से 37 साल की आयु सीमा रखी गई है।

इसके अलावा जो लोग दृष्‍टी बाधित (Blind Candidate) हैं। वो लोग 21 से 37 साल तक आवेदन कर सकते हैं। जबकि शरीरिक तौर पर दिव्‍यांग अभ्‍यर्थी (Physically Handicap) 21 से 40 वर्ष इसमें आवेदन कर सकते हैं। श्रेणी के हिसाब से फीस में छूट प्रदान की जाती है।

Total Attempt

यदि आप आयु सीमा को पूर्ण भी करते हैं तो भी ऐसा नहीं है कि आप हर बार यूपीएससी की परीक्षा में बैठ सकते हैं। यूपीएससी की तरफ से एक अभ्‍यर्थी के लिए सीमित अटेम्‍प्‍ट (Attempt) होते हैं। यदि वो उन्‍हें पूरे कर लेता है तो उसके बाद की परीक्षा में शामिल नहीं हो सकता है। लेकिन यहां ध्‍यान देने वाली बात ये है कि आपका अटेम्‍पट तब जोड़ा जाता है जब आप परीक्षा में बैठते हैं। यानि आपने आवेदन कर दिया और परीक्षा देने नहीं गए तो वह आपका अटेम्‍प्‍ट नहीं माना जाएगा। यही वजह है कि इसकी परीक्षा में केवल 50 प्रतिशत लोग ही पहुंचते हैं।

Category

Attempts

GENRAL

6 Attempts
OBC

9 Attempts

SC/ ST

No Limit

शारिरिक मापंदड़

UPSC के जरिए यदि आप दूसरी सेवाओं में जाना चाहते हैं। तो उसके लिए किसी तरह का शारिरिक मापंदड नहीं बनाया गया है। लेकिन यदि आप IPS अफसर ही बनना चाहते हैं। तो उसके लिए जरूरी है कि आप शारिरिक दक्षता परीक्षा को पास करें। अन्‍यथा आप IPS Officer नहीं बन सकते हैं। आइए शारिरिक दक्षता के बारे में जानकारी देते हैं।

  • पुरूष: यदि आप सामान्‍य श्रेणी (General) के उम्‍मीदवार हैं तो आपकी लंबाई 165 CM होनी चाहिए। जबकि यदि आप ओबीसी/ एससी श्रेणी (OBC/ SC) से संबध रखते हैं तो अपकी हाइट 160 CM होनी चाहिए। जबकि सभी श्रेणी से आने वाले पुरूषों की छाती (Chest) का माप 84 CM होना चाहिए।
  • महिला: यदि आप सामान्‍य श्रेणी की महिला हैं तो आपकी हाइट 150 CM होनी चाहिए। जबकि यदि आप ओबीसी एससी श्रेणी (OBC/ SC) से संबध रखती हैं तो आपकी हाइट 145 CM होनी चाहिए। इसके अलावा सभी श्रेणी से आने वाली महिलाओं की छाती 79 CM होनी चाहिए।

IPS परीक्षा के चरण

IPS के लिए आयोजित होने वाली परीक्षा कुल तीन चरणों में होती है। सबसे पहले चरण को Pre और फिर Mains अंत में आपको Interview देना होता है। इसमें सफल होने के बाद आपको ट्रेनिंग पर भेज दिया जाता है। यदि आप इस परीक्षा के Syllabus को जानना चाहते हैं तो पोस्‍ट के अंत में हम आपको एक विडियो का लिंक देंगे। आप उस विडियो को देखकर आसानी से समझ सकते हैं‍ कि UPSC का सेलब्‍स किस प्रकार का होता है। साथ ही इसके लिए आप यूपीएससी की वेबसाइट पर भी जा सकते हैं।

गरीब छात्र कैसे करें UPSC की तैयारी

यूपीएससी की तैयारी के लिए एक सवाल हमेशा से बना रहता है कि क्‍या गरीब छात्रों को यूपीएससी की तैयारी करनी चाहिए। इसका कोई स्‍पष्‍ट जवाब नहीं है। क्‍योंकि तैयारी इस बात पर निर्भर करती है कि आपका Back Ground कैसा है।

यदि आप पढ़ने में पहले से होशियार हैं तो यकीन्न आप UPSC की तैयारी आसानी से कर सकते हैं। लेकिन इसके उलट यदि आप बचपन से पढ़ाई में कमजोर रहे हैं और आपके परिवार की आर्थिक स्‍थिति सही नहीं है। तो आपको यूपीएससी की तैयारी में लंबा समय लग सकता है।

इसलिए हमारा सुझाव ये रहेगा कि आप आईपीएस की तैयारी करने से पहले राज्‍य या केंद्र सरकार के तहत आने वाले किसी छोटे पद की परीक्षा की तैयारी करें। जैसे कि SSC, Railway, State PSC आदि। इसके बाद आप यूपीएससी के जरिए आईपीएस बनने की तैयारी शुरू कर दें।

ऑनलाइन तैयारी के फायदे

आज के समय ऑनलाइन पढ़ाई का काफी जोर है। इसलिए आइए एक बार हम आपको UPSC की ऑनलाइन तैयारी के कुछ फायदे और नुकसान से अवगत करवाते हैं। जिन्‍हें समझकर ही आप तैयारी का Mode चुनें।

  • ऑनलाइन पढ़ाई में आपका पैसा और समय दोनों की बचत हो जाती है। क्‍योंकि इसमें आपको कहीं बाहर नहीं जाना होता है।
  • ऑनलाइन तैयारी में आप एक ही क्‍लास को कितनी भी बार देख सकते हैं। जबकि ऑफलाइन में आपको रोजाना क्‍लास लेनी जरूरी होती है।
  • ऑनलाइन में आपको बहुत सारे अध्‍यापक का विकल्‍प मिलता है। जबकि ऑफलाइन में आपने जिस कोचिंग को ज्‍वाइन कर लिया उसे छोड़ नहीं सकते हैं।
  • ऑनलाइन आपको देश के मशहूर अध्‍यापक आसानी से घर बैठे मिल जाते हैं। जबकि ऑफलाइन आपको मुखर्जी नगर या चंडीगढ़ जैसे महानगरों में जाना पड़ता है।

नुकसान

  • ऑनलाइन तैयारी के दौरान आपको वो माहौल नहीं मिल पाता है जो कि ऑफलाइन मिलता है।
  • ऑनलाइन में कई बार आपका मोटिवेशन (Motivation) कम हो जाता है। जिससे आप पढ़ाई बीच में ही छोड़ देते हैं।
  • ऑनलाइन पढ़ाई के दौरान यदि आपको कभी कुछ समझ नहीं आता है तो आप उसे टीचर से इतना आसानी से नहीं पूछ सकते हैं। जितना कि ऑफलाइन माध्‍यम में पूछ सकते थे।
  • ऑनलाइन तैयारी में कई बार हम पढ़ाई के चक्‍कर में इंटरनेट पर अपना बहुत सारा समय खराब कर देते हैं। जो कि हमें पता तक नहीं चलता है।
  • यदि आपके एरिया में इंटरनेट या लाइट की समस्‍या रहती है। तो इसके चलते आपकी पढ़ाई लगातार प्रभावित होती रहती है।

IPS के कार्य

  • किसी भी जिले में कानून व्‍यवस्‍था बनाए रखने या किसी वीआईपी (VIP) के आगमन में उसकी सुरक्षा की पूरी जिम्‍मेदारी उस जिले के IPS अफसर के ऊपर ही होती है। जो कि हमेशा उसके आगे पीछे रहता है।
  • सड़क पर कानून का पालन करवाने और दुर्घटनाओं को कम करने की जिम्‍मेदारी एक आईपीएस अफसर की ही होती है। जो कि पुलिस के माध्‍यम से करता है।
  • जिले या राज्‍य में सक्रिय तौर पर काम रहे अपराधी को पकड़ने के लिए आईपीएस ही योजना बनाता है और उस पर काम करता है। जिससे जिले में गंभीर अपराध कम हो सके।
  • अपने जिले में आईपीएस की‍ जिम्‍मेदारी होती है कि वहां रहने वाले लोगों के मन में कानून के प्रति भरोसे की भावना विकसित करे। जिससे लोग कानून का सहारा लें ना कि कानून हाथ में लें।
  • किसी भी सराकरी एजेंसी जैसे कि CBI, IB, RAW, ED आदि के काम में सहयोग करना एक आईपीएस की जिम्‍मेदारी होती है। ताकि वो जालसाज लोगों को पकड़ सकें।

IPS की तैयारी में ध्‍यान रखने वाली बातें

  • आईपीएस की तैयारी करने से पहले आप उससे जुड़ी सारी जानकारी हासिल कर लें। ऐसा ना हो कि आप किसी के बहकावे में आकर जोश में आईपीएस की तैयारी शुरू कर दें।
  • आईपीएस की तैयारी के दौरान आप अपनी पढ़ाई का एक निश्चित शेड्यूल बना लें। साथ ही आप उसे लगातार फॉलो भी करते रहें। बहुत से छात्र इसमें अक्‍सर फेल हो जाते हैं।
  • आपको चाहिए कि आप सेलेब्‍स में दिए हर विषय की तैयारी अच्‍छे से करें। ऐसा ना हो कि आप एक विषय मजबूत कर लें। दूसरा कमजोर ही रह जाए।
  • यदि आपने अभी पहली बार आईपीएस की तैयारी शुरू की है तो आप किसी ऑफलाइन कोचिंग में जाकर मार्गदर्शन अवश्‍य लें। अन्‍यथा संभव है कि आप परीक्षा पैटर्न से अलग पढ़ाई करने लग जाएं।
  • क्‍योंकि यह परीक्षा लंबा समय मांगती है। इसलिए जरूरी है कि यदि आप इस परीक्षा के एक दो प्रयास में असफल भी हो जाएं तो भी आगे की तैयारी जारी रखें। ताकि आप आगे उसमें सुधार कर सकें।
  • बहुत से छात्र हमेशा एक गलती करते हैं कि वो कुछ दिन पढ़कर फिर गैप दे देते हैं। आप बिल्‍कुल भी ऐसा ना करें। इससे आप पढ़ाई में पीछे रह जाते हैं।
  • आज के समय में ऑनलाइन बहुत सारी टेस्‍ट सीरिज (Test series) मौजूद हैं। इसलिए आप जब अपने सभी विषय पूरे कर लें तो जरूरी है कि आप टेस्‍ट अवश्‍य देकर देखें। इससे आपको परीक्षा में टाइम मैनेजमेंट आसानी से आ सकता है।
  • यदि आप आईपीएस के लिए किताबों की जानकारी हासिल करना चाहते हैं। तो हमारी इस पोस्‍ट को पढ़कर आप जान सकते हैं कि आपको कौन कौन सी किताबें खरीदनी चाहिए।

इसे भी पढें: जो विषय आईएएस के लिए महत्वपूर्ण है?

Conclusion

आशा है कि अब आप समझ गए होंगे कि Ips officer kaise bane, Ips ki taiyari kaise Karen इसे जानने के बाद आप आसानी से आईपीएस की तैयारी कर सकते हैं। जिससे आपका आईपीएस बनने का सपना साकार हो सकता है और आप देश सेवा में अपना योगदान दे सकते हैं।

यदि आपको हमारा ये लेख पसंद आया है तो इसे अपने दोस्‍तों के साथ भी अवश्‍य शेयर करें। साथ ही इस लेख से जुड़ा यदि आपका कोई सवाल या सुझाव है तो हमें नीचे कमेंट बॉक्‍स में कमेंट करें।

यह पोस्ट आपके लिए कितना उपयोगी है?

स्टार पर क्लिक करके हमें बताये!

औसत रेटिंग 4.5 / 5. कुल वोट 312

उम्र में युवा और तजुर्बे में वरिष्ठ रोहित यादव हरियाणा के रहने वाले हैं। पत्रकारिता में डिग्री रखने के साथ इन्होंने अपनी सेवाएं कई मीडिया संस्थानों को दी हैं। फिलहाल ये पिछले लंबे समय से अपनी सेवाएं 'All in Hindi' को दे रहे हैं।

Leave a Comment