iti ka full form kya hota hai? (full form of iti)

दोस्तों भारत में बेरोजगारी चरम सीमा पर है, हर सेक्टर में नौकरियों की अपेक्षा आवेदकों की संख्या 100 से 1000 गुना अधिक है। ऐसे में हर व्यक्ति यह चाहता है कि वह जो भी पढाई करे उसमे competition कम से कम हो ताकि उसे जॉब मिलने की सम्भावना अधिक हो। इसी उद्देश्य से छात्र अलग अलग तरह के डिप्लोमा और स्पेशल एजुकेशन कोर्से के बारे में जानने और उन्हें समझने की कोशिश करते रहते है।

यदि आपने हाल ही में दसवीं या बारहवीं की परीक्षा पास की है और करियर के लिए तमाम संभावनाएं तलाशने में जुटे तो ये जानकारी आपके लिए बेहद काम की साबित हो सकती है। आज हम इस लेख में एक ऐसे ही डिप्लोमा कोर्से के बारे में बताएँगे, जिसे ITI के रूप में जाना जाता है।

आज आप जानेगें iti ka full form क्या होता है? इसके साथ आईटीआई में दाखिला प्रक्रिया से लेकर प्लेसमेंट तक के बारे में जानकारी देने जा रहे हैं। साथ ही आपको बेहद आसान भाषा में समझाएंगे कि आईटीआई का कोर्स किन लोगों को करना चाहिए, साथ ही आईटीआई करने के क्या क्या फायदे हैं और क्या नुकसान। तो आइए एक एक करके आपको सभी जानकारियां देना शुरू करते हैं

अंग्रेजी में iti full form क्या होता है?

full form of iti in english

I- Industrial

T- training

I- institute

हिन्दी में iti full form क्या होता है?

full form of iti in hindi

I- औधोगिक

T- प्रशिक्षण

I- संसथान

आईटीआई क्या है?

हमने ऊपर यह समझा कि iti ka full form क्या होता है? Iti full form में “औधोगिक प्रशिक्षण” शब्द ही ITI (industrial traning institute) परिभाषा समझा देता है। दोस्तों आईटीआई में हमें औधोगिक क्षेत्र से सम्बंधित कार्यों के लिए कुशल बनाने का प्रशिक्षण दिया जाता है। Iti में electrical, mechanical, computer, telecom इत्यादि सेक्टर को कई अलग अलग ट्रेड में बाँट कर शिक्षा दी जाती है। जिसमे कुछ ट्रेड NCVT और कुछ SCVT होतीं है। Iti में admission लेते समय ट्रेड का चुनाव किया जा सकता है

आईटीआई में NCVT क्या होता है?

औधोगिक प्रशिक्षण संस्थान यानी आईटीआई में दाखिला लेने के लिए दो तरह के विकल्प मौजूद होते हैं। एक तो NCVT (National Council of Vocational Training) दूसरा SCVT (State Council For Vocational Training) NCVT से ITI करने का फायदा यह होता है कि यह डिप्लोमा पूरे देश में मान्य होता है। देश के किसी भी हिस्से में यदि ITI पास के लिए सरकारी भर्ती आती है तो आप उसके लिए आवेदन कर सकते हैं।

SCVT क्या होता है?

SCVT यानी (State Council For Vocational Training) में हर स्टेट अपने राज्य में आवश्यकतानुसार पाठ्यक्रम में बदलाव करता रहता हैNCVT की अधिक डिमांड दाखिले के दौरान ज्यादातर जगह ऐसा होता है कि NCVT की सीटें पहले भर जाती है तो फिर SCVT की सीटों पर ही बाद में दाखिले लिए जाते हैं। SCVT से प्राप्त ITI डिप्लोमा के अंतर्गत आप केवल संबंधित राज्य सरकार की तरफ से ही निकाली गई सरकारी भर्तियों में भाग ले सकते हैं। जबकि केंद्र सरकार या किसी दूसरे राज्य द्वारा निकाली गयी अधिकतम भर्तियो में आवेदन नहीं कर सकते। ऐसे में जब भी ITI में दाखिला लें हमेशा NCVT में ही लेने की कोशिश करें। हांलाकि, यदि आप प्राइवेट सेक्टर या स्वरोजगार करना चाहते हैं तो SCVT की भी उतनी ही मान्यता होगी जितनी NCTV डिप्लोमा की होती है।

SCVT डिप्लोमा को NCVT में कैसे बदल सकते हैं?

यदि आपने किसी कारणवश SCVT में भी दाखिला ले लिया तो भी आपको परेशान होने की कोई जरूरत नहीं है। सरकार की तरफ से ऐसा भी प्रावधान है कि ITI से पास होने के बाद आप अपने डिप्लोमे को NCVT में भी बदल सकते हैं। इसके लिए आपको ऑल इंडिया ट्रेड टेस्ट (AITT) की परीक्षा देनी होगी। यदि आप उस परीक्षा को पास कर लेते हैं तो आपको NTC(नेशनल ट्रेड सर्टिफिकेट) दिया जाता है और आपका SCVT का डिप्लोमा NCVT के तौर पर भी मान्य होगा। इस परीक्षा को पास करने के बाद आप केंद्र सरकार से लेकर दूसरी राज्य सरकार की तरफ से निकलने वाली भर्तियों में भी भाग ले सकते हैं। इस परीक्षा को आप आईटीआई से पास होने के बाद ही दे सकते हैं।

किन छात्रों को करनी चाहिए आईटीआई?

आईटीआई करने के बारे में सोचने से पहले आपको सबसे पहले ये भी जान लेना चाहिए कि आईटीआई किन छात्रों को करनी चाहिए। ताकि कभी भी आपको आईटीआई करने के बाद पछताना न पड़े। आईटीआई का कोर्स खास तौर पर ऐसे लोगों के लिए डिजाइन किया गया होता है, जो ज्यादा लम्बी पढ़ाई न करके अपने भविष्य को जल्दी ही सेट करना चाहते हैं। खास तौर पर प्राइवेट कंपनियों या स्वरोजगार की तरफ बढ़ना चाहते हैं। आईटीआई में ज्यादातर ट्रेड आपको इसी तरह की ही देखने को मिलेगी जिसमें पढ़ने से ज्यादा आपके कौशल विकास पर ध्यान दिया जाएगा। इसलिए यदि आप कौशल सीख कर काम करना चाहते हैं तो ही आईटीआई करें। यदि आप उच्च शिक्षा या सरकारी नौकरी करना चाहते हैं तो आईटीआई का विकल्प आपके लिए कम फायदेमंद साबित होगा।

कैसे करें ट्रेड का चुनाव?

किसी भी iti course में दाखिला लेते समय सबसे महत्वपूर्ण होता है ट्रेड (Trade) का चुनाव। ट्रेड ही तय करती है कि आप भविष्य में किस दिशा में जाकर क्या काम करना चाहते हैं। जैसे कि इलेक्ट्रिशियन ट्रेड में बिजली से जुड़े उपकरणों के बारे में आपको बताया जाता है। जबकि ऑटोमोबाइल में गाड़ियों के इंजन और उनसे जुड़ी तमाम जानकारियां आपको दी जाती हैं। ऐसे में जरूरी है कि आप जिस भी ट्रेड का चुनाव करें, पहले उसके बारे में अच्छी तरह से जानकारी हासिल कर लें। यदि आप उस काम को करने में दिलचस्पी रखते हों तभी उसका चुनाव करें। अन्यथा आप कामयाबी के उस मुकाम को कभी नहीं छू पाएंगे जिसे आप दाखिले के दौरान छूना चाहते थे। इसलिए बेहतर ये रहेगा कि दाखिला लेने से पहले आप संबंधित ट्रेड से आईटीआई पास कर चुके लोगों से बातचीत कर लें।

iti के top 10 ट्रेड

वैसे तो आईटीआई में बहुत सी ट्रेड होती है जिनमें आप दाखिला ले सकते है। लेकिन यहां हम आपको कुछ उन ट्रेडस के बारे में बताने जा रहे हैं जो सामान्यतः: सभी आईटीआई में आसानी से मिल जाती हैं। साथ ही आपको ये भी बता रहे हैं कि किस ट्रेड से कितने साल में आप डिप्लोमा प्राप्त कर सकते है। क्योंकि आईटीआई में कुछ कोर्स छह महीने में भी पूरे हो जाते हैं तथा कुछ कुछ कोर्स दो साल की लंबी अवधि तक के भी होते हैं। तो आइए जानते हैं कौन सी हैं वो टॉप की 10 ट्रेड…

1- Electrician

iti course में सबसे ज्यादा मांग वाली ट्रेड फिलहाल इलेक्ट्रिशियन की है। इस ट्रेड में बिजली से चलने वाले पंखे, मोटर, घरेलू फिटिंग और तमाम बिजली से जुड़े उपकरणों के बारे में विस्तार से आपको समझाया जाता है। इसमें डिप्लोमा करने की अवधि दो साल होती है। साथ ही आप इस डिप्लोमा को पूरा करने के बाद किसी प्राइवेट कंपनी या खुद की कोई बिजली की दुकान भी कर सकते हैं। स्वरोजगार की तरफ बढ़ने वाले युवाओं की पहली पसंद इसी ट्रेड को माना जाता है। रेलवे तथा दूसरे विभागों में इस ट्रेड से जुड़ी सरकारी नौकरियों के भी भरपूर मौके मिलते हैं। जिसमें सेलेक्ट होकर आप एक बेहतरीन भविष्य बना सकते हैं।

2- Fitter

फिटर ट्रेड भी आज बेहद लोकप्रिय होती जा रही है। इस ट्रेड से भी दो साल में डिप्लोमा प्राप्त किया जा सकता है। इस ट्रेड में डिप्लोमा करने के दौरान आपको फिटर जुड़ी तमाम चीजों के बारे में बारीकी से और प्रैक्टिकल करके दिखाया जाता है। ताकि आपका कौशल और ज्यादा निखर सके। डिप्लोमा के बाद आप सरकारी सेवाओं के साथ तमाम प्राइवेट कंपनियों में भी अपना हाथ आजमा सकते हैं। प्राइवेट कंपनियों और फैक्ट्रियों में अक्सर देखा जाता है कि वहां फिटर मैकेनिक की आवश्यकता बनी ही रहती है। बेहतरीन कौशल के बाद आपकी मांग हमेशा बनी रहेगी।

3- COPA

यदि आप बेहद छोटे कोर्स में बेहतर भविष्य तलाशना चाहते हैं तो COPA ट्रेड आपके लिए बेहतर विकल्प है। इसका पूरा नाम ‘Computer operator and programming assistant’ है। यदि आपका दिमाग कंप्यूटर से जुड़ी तमाम चीजों को जानने में उत्सुक रहता है तो ये ट्रेड आपको बेहतर भविष्य दे सकती है। इस ट्रेड से कोर्स के दौरान आपको MS office, programming languages, computer operating, basic hardware and software, Data entry, tally, IT act आदि के बारे में गहराई से जानकारी दी जाती है। इस डिप्लोमा को करने के बाद आप Computer operator, data entry, programming assistant आदि की नौकरी में हाथ आजमा सकते हैं। आप इसके बाद कोई अपना कैफे भी खोल सकते हैं। जहां ऑनलाइन फॉर्म, टाइपिंग आदि से जुड़े काम किए जाते हों।  साथ ही क्लर्क आदि की सरकारी नौकरी में भी अफना हाथ आजमा सकते हैं।

4- WELDER

यदि आप मेहनत का काम करने में कभी नहीं हिचकते हैं तो आप वेल्डर ट्रेड से भी आईटीआई का डिप्लोमा कर सकते हैं। इस ट्रेड में आपको वेल्डिंग धातुओं, वेल्डिंग यंत्र, मेटल कटिंग आदि के बारे में आपको तसल्ली से काम सिखाया जाता है। इस डिप्लोमा को करने के बाद आप वेल्डिंग की अपनी दुकान भी खोल सकते हैं जहां गेट, खिड़की तथा लोहे के तमाम सामान बनाए जाते हैं। साथ ही आप तमाम ऐसी फैक्टरियों आदि में भी काम कर सकते हैं जहां वेल्डिंग आदि का काम किया जाता हो। हालांकि, इस ट्रेड से डिप्लोमा करने के बाद स्वरोजगार करना ही बेहतर माना जाता है।

5- Diesel mechanic

डीजल से जुड़े तमाम वाहनों के बारे में जानना और उन्हें खोलने बांधने में यदि आप रुचि रखते हैं तो ये ट्रेड आपके लिए शानदार साबित हो सकती है। ज्यादातर आईटीआई में ये ट्रेड दो साल ही होती है। इसे करने के दौरान आपको डीजल इंजन और उससे जुड़े तमाम पुर्जों के बारे में जानने का मौका मिलेगा। इसे करने के बाद आप अपने घर के आप पास किसी भी चौक चौराहे पर अपनी दुकान कर सकते हैं। बढ़ते वाहनों के दौर में आपके पास काम ही काम होगा। क्योंकि जब सड़कों पर गाड़ियां चलेगी तो खराब भी होंगी। इसी के साथ रेलवे और रोडवेज बसों के विभाग में डीजल मैकेनिक की मांग बड़े पैमाने पर रहती है। आप इन नौकरियों की परीक्षा पास कर सरकारी नौकरी भी आसानी से हासिल कर सकते हैं।

6- Stenographer

आज आपको बताने की जरूरत नहीं है कि सभी चीजें ऑनलाइन उपलब्ध हैं। ऑनलाइन कंप्यूटर में एंट्री के लिए स्टेनोग्राफर की आवश्यकता होती है। इसलिए आज इस ट्रेड में उज्ज्वल भविष्य की राह साफ दिखाई देती है। इस ट्रेड में आपको टाइपिंग और शॉर्टहैंड टाइपिंग सिखाई जाती है। ताकि आप जल्दी से जल्दी दिया गया डाटा कंप्यूटर में टाइप कर सकें। इस ट्रेड को करने के लिए आपके पास दो विकल्प मिलते हैं जो कि निम्न हैं…

  • Hindi Stenographer
  • English Stenographer

दोनों ही विकल्प बेहतरीन हैं। आप जिस भी विकल्प को चुनते हैं आगे उसी भाषा में आपको काम करना पड़ेगा। इसलिए कभी भी दिखावे के लिए कोई विकल्प ना चुने।

जानिए-

7- Electronic mechanic

सबसे पहले हम आपको बता दें कि इलेक्ट्रीशियन और इलेक्ट्रॉनिक मैकेनिक में क्या फर्क है। इलेक्ट्रीशियन उसे कहा जाता है जो आपके घरेलू उपकरण को खराब होने पर ठीक कर दे। जबकि इलेक्ट्रॉनिक मैकेनिक आपके उपकरणों को बारीकी से चेक करता है। इसके बाद उसमें खराब पार्ट का पता लगाता है। जैसे कि LED, CCTV, gates, IC, electronic circuits, electronic gadgets आदि। इस कोर्स को करने के बाद आप अपना काम भी शुरू कर सकते हैं साथ ही मोबाइल और लैपटॉप बनाने वाली कंपनियों में भी नौकरी कर सकते हैं। इस ट्रेड से डिप्लोमा करने के बाद आप BSNL, ISRO, BHEL जैसी बड़ी कंपनियों में भी काम करके अच्छा वेतन प्राप्त कर सकते हैं।

8- Wireman

ये ट्रेड भी बिजली से ही जुड़ी है। इसमें आपको Electrical sub stations, Transmission, Distribution आदि की वायरिंग के बारे में बताया जाता है। ताकि कभी भी इनकी वायरिंग में दिक्कत आए तो तुरंत ठीक किया जा सके। इस ट्रेड से डिप्लोमा करने के बाद आपको Electric Distribution और Sub transmission में नौकरी मिल सकती है। बेहतरीन भविष्य बनाने के लिए ये भी एक अच्छा विकल्प है। इस ट्रेड को पास करने के बाद घरों की वायरिंग का काम या किसी कंपनी आदि में भी अपनी सेवाएं दे सकते हैं।

9- Draughtsman

ये ट्रेड आज बेहद लोकप्रिय है। ड्राफ्टमैन को हिन्दी में ‘नक्शानवीस’ कहा जाता है। इसका काम तमाम तरह की चीजों का नक्शा बनाना होता है। जैसे कि किसी पुल को बनाने से पहले उसका नक्शे तैयार करना, कहीं सड़क बनाने से पहले नक्शा तैयार करना। नक्शे से ना सिर्फ गलती होने की संभावना खत्म हो जाती है, बल्कि काम को करने से पहले उसका ले आउट भी देखा जा सकता है। इस ट्रेड में भी दो विकल्प मौजूद होते हैं।

  • Draughtsman civil
  • Draughtsman mechanical

सिविल में आपको बाहरी काम जैसे पुल, सड़क, भवन आदि के निर्माण का नक्शा तैयार करना होगा। जबकि मैकेनिक में मशीन, मोटर, फ्रिज, जनरेटर आदि को बनाने के लिए नक्शा तैयार करना होगा। अपनी इच्छा के मुताबिक आप दोनों में से किसी एक का चुनाव कर सकते हैं।

10- Motor vehicle mechanic

ये ट्रेड भी आटोमोबाइल और डीजल मैकेनिक से मिलती जुलती ही है। इस ट्रेड में आपको कार, बाइक, स्कूटर आदि के बारे में अच्छे से जानकारी दी जाएगी। ताकि इनका कोई भी पार्ट खराब होने पर ठीक कर सकें। इस डिप्लोमा को करने के बाद आप अपना खुद का भी काम शुरू कर सकते हैं या किसी एजेंसी के साथ जुड़कर भी काम कर सकते हैं। जिस तरह से सड़कों पर दोपहिया और चार पहिया वाहन बढ़ते ही जा रहे हैं, उससे आपका भविष्य कभी खतरे में नहीं पड़ेगा। हालांकि, इस लाइन में आपका कौशल भी महत्वपूर्ण भूमिका अदा करता है।

देश की top 10 आईटीआई

वैसे तो आप किसी भी आईटीआई में दाखिला ले सकते हैं। लेकिन फिर भी हम आपको देश की टॉप-10 आईटीआई के बारे में बताने जा रहे हैं जिनमें आईटीआई करने वाला छात्र दाखिला लेने की इच्छा रखता है।

  1. Govt Industrial Training Institute, Purulia
  2. Government Industrial Training Institute (Women/Mahila) RaiBareli
  3. Government Industrial Training Institute, Tiruchendur
  4. Government Industrial Training Institute (Women), Madurai
  5. Industrial training institute, Mandvi (Surat) (Government)
  6. Government Industrial Training Institute (Women), Namakkal
  7. Industrial Training Institute Sadhaura
  8. Government Industrial Training Institute, Trichy
  9. Salboni Government ITI
  10. Government Industrial Training Institute, Ulundurpet

Iti में admission कैसे लें?

आप किसी भी आईटीआई में दाखिला लेना चाहते हैं तो सबसे जरूरी बात ये है कि आप दसवीं या बारहवीं पास हों। साथ ही आपके पास सभी दस्तावेज मौजूद हों। Iti में admission लेने की प्रक्रिया मई जून माह के दौरान हर साल प्रारंभ होती है। बहुत सी आईटीआई में दाखिला प्रक्रिया ऑनलाइन पूरी की जाती है, तो बहुत सारी आईटीआई में ये प्रक्रिया केवल ऑनलाइन माध्यम से पूरी की जाती है। इस बात को आप जिस आईटीआई में दाखिला लेना चाहते हैं वहां जाकर पता कर सकते हैं।

Iti admission कैसे होता है?

iti course में admission Entrance Exam और मेरिट दोनों आधार पर होता है। हालाँकि मेरिट के आधार पर आपको अच्छी ट्रेड नहीं मिल पाती और  मेरिट के आधार पर अधिकतर ट्रेड जो आपको ट्रेड मिलेंगी वो SCVT ट्रेड होती है। इसलिए यदि आप iti में admission लेने की सोच रहे है तो एंट्रेंस एग्जाम के लिए आवेदन जरूर करें।

प्राइवेट और सरकारी आईटीआई में से किसका करें चुनाव?

आईटीआई का चुनाव आपके आसपास की परिस्थितियों के आधार पर करना होता है। लेकिन हमेशा देखा गया है कि छात्रों की पहली पसंद सरकारी आईटीआई ही होती है। क्योंकि सरकारी आईटीआई में सीखने और जानने की तमाम चीजें मौजूद होती है और फीस भी कम होती है। इसलिए बेहतर होगा कि आपके आसपास यदि सरकारी आईटीआई है तो उसी को प्राथमिकता दें।

Iti course की फीस कितनी है?

यदि आप सरकारी आईटीआई चुनते हैं तो संभव है कि आपकी फीस दस हजार के अंदर ही हो पूरे सालभर की। लेकिन यदि आप प्राइवेट आईटीआई चुनते हैं तो उसमें पचास हजार से लेकर एक लाख तक की सालाना फीस भी हो सकती है। सरकारी आईटीआई में होनहार छात्रों के लिए सरकार की तरफ से तमाम तरह की छात्रवृत्ति की सुविधा भी जाती है। इसलिए यदि आप आर्थिक तौर पर कमजोर हैं तो भी सरकारी आईटीआई में आसानी से पढ़ाई कर सकते हैं।

ITI करने के बाद कितनी salary की नौकरी मिलती है?

आईटीआई में सैलरी इस बात पर निर्भर करती है कि आप कितने कौशल से परिपूर्ण है और आप कौन सी ट्रेड से आईटीआई पास हैं। फिर भी हम सामान्यत शुरुआती सैलरी की बात करें तो आपको 15 से 20 हजार महीने के बीच वेतन दिया जा सकता है। ये वेतन आपका अनुभव के साथ बढ़ता जाता है। जबकि यदि आप किसी सरकारी विभाग में चयनित हो जाते हैं तो आपका वेतन सरकारी नियमानुसार दिया जाएगा।

अंतिम शब्द

अतत: यदि आप उच्च शिक्षा को छोड़कर कम शिक्षा में जल्दी पैसे कमाना चाहते हैं तो आईटीआई आपके लिए एक अच्छा विकल्प साबित हो सकता है। लेकिन आज के दौर में किसी भी क्षेत्र में कामयाब होने के लिए जरूरी है कि आप संबंधित क्षेत्र का ज्ञान रखते हों। इसलिए आईटीआई के दौरान आप किताबी ज्ञान हासिल करने से ज्यादा अपने कौशल को विकसित करने पर ध्यान दें।

Leave a Reply