1 मिनट खसरा नंबर से जमीन का नक्शा कैसे निकालें?

4.7
(92)

खसरा नंबर से जमीन का नक्शा

खसरा नंबर से जमीन देखें: आजकल,हर काम online हो गया है। हर छोटी से छोटी चीज से लेकर बड़ी से बड़ी चीज भी हम अपने घर बैठे बैठे मोबाइल या कंप्यूटर में कर सकते हैं। हमारे देश में इंटरनेट का चलन इतना बढ़ गया है कि, अब हमें खसरा नंबर से जमीन का नक्शा देखने के लिए कहीं भी जाने की जरूरत नहीं है। हम केवल खसरा नंबर से जमीन का नक्शा घर बैठे ही जान सकते हैं।

सामान्य तौर पर जब कोई व्यक्ति जमीन खरीदता है तब, सत्यता की जांच करने के लिए वह जमीन के नक्शे को एक बार सरकारी दस्तावेज के अनुसार जरूर देखता है।

पहले के समय में अगर हमें खसरा नंबर से जमीन का नक्शा निकलवाना होता था। तो हमें पटवारी या अमीन को बुलाना पड़ता था। वह कुछ पैसे लेकर हमें हमारी जमीन का नक्शा बता देता था। मगर आज हम यह सारे काम ऑनलाइन घर बैठे बैठे ही कर सकते हैं

क्योंकि, जमीन के लेखा-जोखा रखने का अधिकार राज्य सरकार को है। इसके लिए भारत में हर एक राज्य की जमीन से जुड़ी हुई आधिकारिक website अलग-अलग है। आपको भी खसरा नंबर से जमीन का नक्शा निकालना है, तो आप जिस राज्य में रहते हैं उस राज्य की आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर देखना होगा!

मैं यहां आपको उत्तर प्रदेश में खसरा नंबर से जमीन का नक्शा कैसे निकाले? यह बता देता हुँ। आप निश्चिंत रहे आप किसी भी राज्य आते है सभी राज्यों के अधिकारी की वेबसाइट पर खसरा नंबर से जमीन का नक्शा निकालने की प्रक्रिया लगभग एक ही है। अन्य राज्यों के लिए वेबसाइट लिंक नीचे दिया गया है।

इससे पहले यह जान लेते हैं कि, खसरा नंबर का मतलब क्या होता है?

जमीन का खसरा नंबर क्या होता है?

जमीन का खसरा नंबर क्या होता है? अगर आसान भाषा में कहूं तो, जिस तरीके से शहरों में प्लॉट या घर का एक नंबर होता है, ताकि निश्चित स्थान या address बताया जा सके! ठीक उसी तरह गांव में कृषि की भूमि को पहचान के लिए खसरा नंबर का उपयोग होता है, उसे खसरा नम्बर कहा जाता है। यह एक तरीके का खेत का नंबर है, आप ऐसा समझ लीजिए।

ये भी पढ़ें: मोबाइल से जमीन कैसे नापे?

खसरा नंबर से जमीन का नक्शा कैसे निकाले?

जमीन का खसरा नंबर से नक्शा निकालने की प्रक्रिया बहुत ही आसान है। में आपको कुछ steps के जरिए बताता हूँ।

  • सबसे पहले आप उत्तर प्रदेश सरकार की तरफ से बनाए गए, भू नक्शा e-portal की आधिकारिक वेबसाइट पर जाइए।
  • उसके बाद आपको कुछ जानकारी देनी होगी जैसे कि जिले का नाम, तहसील का नाम, RI (ब्लाक),ग्राम पंचायत, गाँव का नाम।
  • उसके बाद submit का button दबाइये।
  • उसके बाद आपके सामने आपके गांव का नक्शा खुल जाएगा।

खसरा नंबर से जमीन देखें

  • आपको कोने में search box का विकल्प भी दिखाई देगा। उस सर्च बॉक्स में अपना खसरा नंबर डालकर भी सर्च करें।
  • उसके बाद आपके सामने जमीन के मालिक का नाम और जमीन का क्षेत्रफल जैसे सारी जानकारी आ जाएगी।
  • आपको निचे NAKAL का button दिखाई देगा। उस पर click करने से आप आप की जमीन का नक्शा दिखाई दे देगा।
  • अब आप अपनी जमीन का नक्शा को download करने के लिए बाएं साइड में Show Report PDF का बटन होगा, उस पर क्लिक करके जमीन के PDF download कर सकते हैं।

ये भी पढ़ें: खेती की जमीन पर लोन

अन्य राज्य का खसरा नंबर से जमीन का नक्शा

यहां आपके मन में बड़ा सवाल आ रहा होगा कि, हम हमारे राज्य में कैसे खसरा नंबर से जमीन का नक्शा निकालें? तो मैं आपको बता दूं कि लगभग सभी राज्य की सिर्फ website अलग अलग है। बाकी process सभी का एक ही है। मैं यहां भारत के कुछ राज्यों की भू-नक्शा e-portal की आधिकारिक वेबसाइट का लिंक दे रहा हूँ।

राज्य भू-नक्शा e-portal की आधिकारिक वेबसाइट
बिहार यहाँ click करे
मध्यप्रदेश यहाँ click करे
महाराष्ट्र यहाँ click करे
हरियाणा यहाँ click करे
पंजाब यहाँ click करे
राजस्थान यहाँ click करे
ओडिशा यहाँ click करे
गुजरात यहाँ click करे
हिमांचल प्रदेश यहाँ click करे

Online जमीन का नक्शा देखने का क्या उद्देश्य है?

  • Online जमीन का नक्शा देखने से जमीन खरीद-बेच में होने वाली धोखाधड़ी में कमी आएगी।
  • किसान को अपनी जमीन पर लोन लेने में आसानी रहेगी।
  • केवल खसरा नंबर से जमीन की पूरी जानकारी मिल जाएगी।
  • सरकार किसानों को यह बता सकती है कि उनकी जमीन के लिए कौन सी फसल अच्छी होती है।
  • अब आप को जमीन के कागज आदि के लिए पटवारी या अमीन के दफ्तर नहीं जाना पड़ेगा
  • आप जमीन खरीदते समय यह मालूम कर सकते हैं कि जमीन का असली मालिक कौन है।

Conclusion

उम्मीद है कि आपको यह समझ आ गया होगा कि,खसरा नंबर से जमीन का नक्शा कैसे निकाले? इस post को अब तक पढ़ने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद! यदि आपको यह पोस्ट पसंद आया तो अपने परिजनों और दोस्तों के साथ भी शेयर करें।

यह पोस्ट आपके लिए कितना उपयोगी है?

स्टार पर क्लिक करके हमें बताये!

औसत रेटिंग 4.7 / 5. कुल वोट 92

नमस्कार दोस्तों, मैं रवि "आल इन हिन्दी" का Founder हूँ. मैं एक Economics Graduate हूँ। कहते है ज्ञान कभी व्यर्थ नहीं जाता कुछ इसी सोच के साथ मै अपना सारा ज्ञान "आल इन हिन्दी" द्वारा आपके साथ बाँट रहा हूँ। और कोशिश कर रहा हूँ कि आपको भी इससे सही और सटीक ज्ञान प्राप्त हो सकें।

Leave a Comment