मछली पालन व्यवसाय कैसे करें? | मछली पालन में कितना फायदा है?

4.5
(375)

Machli palan vyavsaay kaise kare: आप यह तो जानते ही होंगे कि अगर कोई व्यक्ति कम समय के अंदर ज्यादा पैसा कमाना चाहता है तो उसके पास सबसे बेहतर विकल्प यही होता है कि वह नौकरी करने की जगह अपना खुद का व्यवसाय शुरू करे। लेकिन  परेशानी की बात यह है कि ज्यादातर लोगों को इस बात की जानकारी ही नहीं होती कि उन्हें किस तरह का व्यवसाय करना चाहिए। आपकी इसी समस्या को ध्यान में रखते हुए हैं हम आपको एक ऐसे व्यापार के बारे में बताने वाले हैँ।  जिससे आपको भविष्य में काफ़ी लाभ मिल सकता है।

इसलिए अपने इस लेख में हम आपको विस्तार से बताने वाले हैं कि  मछली पालन व्यवसाय क्या है? मछली पालन व्यवसाय आप किस तरह से शुरू कर सकते हैं और मछली पालन में कितना फायदा है। साथ ही आपको यह भी बताएंगे कि आप मछली पालन व्यवसाय से जुड़ी कुछ जरूरी सावधानियां कौन सी कर सकते हैं।

मछली पालन व्यवसाय क्या है?

मछली पालन को अंग्रेजी में Fish Farming कहा जाता है और कई लोग इस व्यापार के माध्यम से आज अच्छा खासा पैसा भी कमा रहे हैं। आपकी जानकारी के लिए आपको बता दें कि मछली पालन व्यवसाय में आपको बड़ी मात्रा में मछलियों का पालन पोषण करना होता है और उनकी हर तरह से देखभाल की जाती है उसके बाद उन मछलियों की मार्केटिंग करके उन्हें अच्छे दामों पर आगे भेज दिया जाता है।

आसान भाषा में समझें तो हम यह कह सकते हैं कि मछली पालन व्यवसाय वर्तमान समय में बहुत ज्यादा मांग में है। क्योंकि हम सभी जानते हैं कि मछली खाने के बहुत सारे फायदे हैं जो आपके स्वास्थ्य के लिए काफी जरूरी हैं और इसके अलावा मछली पालन व्यवसाय में आपको काफी अच्छा खासा मुनाफा भी कमाने का मौका मिलता है तो आइए इस से जुड़ी सभी जानकारी को संक्षिप्त में जानते हैं।

मछली पालन कैसे शुरू करें

मछली पालन व्‍यवसाय के फायदे

  • मछली पालन व्यवसाय एक ऐसा व्‍यवसाय है जो कि आप गांव में रहकर बेहद कम खर्च में शुरू कर सकते हैं।
  • मछली पालन व्यवसाय के लिए किसी तरह की डिग्री या कोई खास जानकारी अवश्‍यक नहीं होती है।
  • मछली पालन व्यवसाय एक सदाबहार व्‍यवसाय है। जो कि हर मौसम में चलता रहता है।
  • मछली पालन व्यवसाय के साथ आ कोई दूसरा काम भी कर सकते हैं। क्‍योंकि इसमें पूरा दिन नहीं लगता है।
  • मछली पालन व्यवसाय में नुकसान होने की बेहद कम संभावना रहती है। क्‍योंकि यदि मछलियों को सही भोजन दिया जाए तो उनकी मौत नहीं होती है।

मछली पालन व्यवसाय कैसे करें?

मछली पालन व्यवसाय नाम सुनकर आपको ऐसा ही लग रहा होगा कि यह व्यवसाय करना काफी सरल है, लेकिन सच्चाई यह है कि अगर आप मछली पालन व्यवसाय करना चाहते हैं तो इसके लिए आपको एक नहीं बल्कि कई बातों को ध्यान में रखना होगा और इसके साथ-साथ आपको मछलियों से जुड़ी सभी जानकारी प्राप्त करनी होगी ताकि समस्या आने पर आप उन समस्याओं से जल्द से जल्द बाहर निकल सके और इससे आपके व्यवसाय को भी कोई नुकसान ना पहुंचे, तो आइए जानते हैं कि आप मछली पालन व्यवसाय किस तरह से शुरू कर सकते हैं?

इसे भी पढ़ें: गांव में कौन सा बिजनेस करें?

तालाब की संरचना

अगर आप मछली पालन व्यवसाय करना चाहते हैं तो इसके लिए सबसे महत्वपूर्ण चीज जो है वह है एक तालाब, जहां पर आप  सभी मछलियों को रखेंगे अगर आप एक बड़ा मछली पालन व्यवसाय करना चाहते हैं तो इसके लिए आपको तालाब की आवश्यकता जरूर पड़ेगी। आपके  आस पास अगर कोई तालाब है तो आप उस तालाब का प्रयोग बहुत कर सकते हैं इसके अलावा अगर तालाब नहीं है तो आपको एक तालाब की संरचना करनी होगी और उसके बाद आप अपनी सभी मछलियों को उस तालाब में रख सकेंगे।

इसे भी पढ़ें: बिजनेसमैन की सोच क्या होनी चाहिए?

तालाब की संरचना किस तरह से करे?

अमूमन दो तरह के तालाब होते हैं एक जिसमें वर्षा का पानी इकट्ठा होता है और दूसरे तालाब होते हैं जिसमें पानी खुद से भरा जाता है अगर आप वर्षा के पानी में मछली रखना चाहते हैं तो आपको ऐसी मछली का चयन करना होगा जो बहुत तेजी से बढ़ती हों।

इसके अलावा आपको इस बात का भी ध्यान रखना होगा कि कहीं तालाब का पानी अपने आप तो कम नहीं हो रहा है इसके लिए आपको करना यह है कि जिस भी तालाब का आपने चयन किया है उसमें आपको कुछ समय के लिए पानी डालना है और यह देखना है कि कहीं पानी कम तो नहीं हो रहा है अगर पानी कम हो रहा है तो इसका मतलब यह है कि आपने तालाब की संरचना ठीक तरह से नहीं की है और अगर आपको ऐसा लगता है कि पानी कम नहीं हो रहा है तो इसके बाद आप अपनी मछलियों को उस तालाब में रख सकते हैं।

मछली का चयन करें

आप यह बात तो जानते ही होंगे कि भारत में सिर्फ एक नस्ल की मछली नहीं बल्कि कई तरह की मछलियां पाई जाती हैं और खुशी की बात यह है कि भारत की जलवायु हर तरह की मछली के लिए अनुकूल मानी जाती है, लेकिन अगर आप मछली पालन व्यवसाय करना चाहते हैं तो आपको ध्यान रखना होगा कि आप जिस जगह पर मछली पालन व्यवसाय करना चाहते हैं वहां पर किस प्रकार की मछली की ज्यादा मांग है और आपके आसपास का मौसम उस नस्ल की मछली के लिए अनुकूल है या नहीं।

इसके साथ साथ आपको यह भी ध्यान रखना होगा कि जिस भी मछली का चयन आपने किया है  उसके पालन-पोषण के लिए आपके पास सभी सुविधाएं उपलब्ध हैं या नहीं। जब आप इन सभी बातों को ध्यान में रखकर मछली पालन का व्यवसाय शुरू करेंगे तो आपको इससे काफी लाभ मिलेगा और आप भविष्य में आने वाली समस्याओं से भी खुद को बचा सकेंगे।

मछली का भोजन

सबसे बड़ा सवाल आपके मन में अब यह उठ रहा होगा कि जब मछली के लिए तालाब तैयार हो जाएगा और हम मछलियों को उस में रख लेंगे तो खाने में मछलियों को हमें क्या देना है?  तो उसके लिए हम आपको यह बताना चाहेंगे कि भारत के अधिकतर किसान तालाब में उत्पन्न होने वाले भीतरी भोजन का ही इस्तेमाल करते हैं और मछलियां  उन्हें ही खाती हैं। लेकिन अगर आप मछली का व्यवसाय करना चाहते हैं तो आपको मछली को भीतरी भोजन के साथ साथ और भी चीजें देनी है।

मार्केट में ऐसे बहुत  से प्रोडक्ट मौजूद हैं जिनका इस्तेमाल आप मछली की तेजी से वृद्धि के लिए कर सकते हैं और इससे मछलियों का स्वास्थ्य भी काफी बेहतर रहता है। क्योंकि आप यह बात तो जानते ही होंगे कि जिस तरह से इंसान जितना अच्छा भोजन ग्रहण करता है उसका स्वास्थ्य उतना ही बेहतर रहता है ठीक इसी तरह मछलियों को भी जब अच्छे से भोजन दिया जाएगा तो वह तेजी से बढ़ी होंगी और इससे आपके व्यवसाय को काफी लाभ पहुंचेगा।

इसे भी पढ़ें: Small Business ideas in hindi

मछलियों की देखभाल कैसे करें?

जिस तरह हर इंसान को कभी न कभी बीमारियों का सामना करना पड़ता है उसी तरह से मछलियों के साथ भी ठीक ऐसा ही होता है कई बार मछलियां बीमार पड़ जाती हैं और एक मछली के बीमार पड़ने से कई बार सभी मछलियां बीमार पड़ने लगती हैं तो अगर आप मछली का व्यवसाय करना चाहते हैं और ऐसी स्थिति में अगर कोई मछली बीमार हो जाती है तो यह आपके लिए एक अच्छा संकेत नहीं है इसके लिए आपको मछली की देखभाल पहले से ही करनी होगी ताकि कोई भी मछली बीमार ना पड़ सके।

विशेषज्ञों की मानें तो यह कहा जाता है कि जब मछली बढ़ना शुरू करती है तो उन्हें ज्यादा देखभाल की भी जरूरत होती है और उन मछलियों के लिए पानी का पीएच लेवल तकरीबन 7 से 8 के बीच में होना चाहिए तो आपको यह सुनिश्चित करना होगा कि आप ने जिस तालाब में मछलियों को रखा है उसके पानी का PH LEVEL क्या है।

अगर 8 से ज्यादा मछली के पानी का PH level है तो आपको उसमें थोड़े बहुत बदलाव करने होंगे। क्योंकि पानी के PH level के कम होने और ज्यादा होने से मछलियों को परेशानियां हो सकती है और हो सकता है वह बीमार पड़ जाएं। इसलिए इस बात का खास ध्यान रखें।

इसके साथ-साथ आपको इस बात का भी ध्यान रखना होगा कि तालाब में मछली के अलावा कोई मछली के शिकार करने वाले जानवर तालाब में ना घुस जाए जैसे बगुले और कुछ पक्षी मछलियों का ही शिकार करते हैं इसलिए आपको इस बात का भी विशेष ध्यान रखना है।

अपने व्‍यवसाय की मार्केटिंग करें

मछली पालन व्यवसाय कभी भी बिना मार्केटिंग ने नहीं चलने वाला है। क्‍योंकि यदि आप बड़े स्‍तर पर ये काम शुरू करते हैं जो आपके लिए सबसे जरूरी है कि आपके आसपास जो भी बाजार है। आप वहाँ जाएं और दुकानदारों से बात करें। इसके बाद जैसे ही उनकी मांग आए आप उन्‍हें मछली पहुंचा दें।

इसके अलावा आप कोशिश करें कि आप हो सके तो बाजार में अपनी भी एक दुकान खोल लें। साथ ही मछली खाने वाले जो लोग हैं आप सीधा उनसे संपर्क कर लें। इससे उन्‍हें मछली सस्‍ते दाम में मिल जाएगी और आपको अच्‍छा दाम मिल जाएगा। इससे आपकी अच्‍छी कमाई हो सकती है।

मछली पालन व्यवसाय की लागत

यदि हम मछली पालन व्यवसाय की लागत की बात करें तो यह इस बात पर निर्भर करती है कि आप मछली पालन व्यवसाय को कितने बड़े स्‍तर पर करना चाहते हैं। साथ आप शुरूआत में कितना पैसा खर्च करेंगे। इसके अलावा आप कितनी मछलियों से इस काम की शुरूआत करेंगे।

लेकिन यदि हम कम से कम लागत की बात करें तो यह 1 लाख रूपए अवश्‍य होगी। यदि आपके पास इससे भी कम पैसे हैं तो आप बैंक से लोन ले सकते हैं। जो कि आप के समय बेहद आसानी से और बहुत ही कम ब्‍याज दरों पर आसानी से मिल जाता है।

मछली पालन व्यवसाय से आमदनी

यद‍ि हम मछली पालन व्यवसाय से आमदनी की बात करें तो यह कई चीजों पर निर्भर करती है। जैसे कि आपने किस तरह की मछली रखी है। इसके अलावा आप उसे कहां बेचने जा रहे हैं। साथ ही आपके यहां उसकी कितनी ज्‍यादा मांग है।

लेकिन फिर भी हम आपको कह सकते हैं कि यदि आप किसी भी तरह की मछली पालते हैं तो आपको काफी ज्‍यादा आमदनी होगी। क्‍योंकि इसमें आपका खर्चा केवल मछलियों को भोजन देने का रहेगा। बाकी तो वो पानी में तैरती रहेंगी।

कुछ जरूरी सावधानी

  • कभी भी मछलियों को बेचने में जल्‍दबाजी ना दिखाएं। इससे आपको नुकसान होगा।
  • मछली को भोजन अच्‍छा दें। इससे मछली जल्‍दी बड़ी होगी और आपको मछली पालन व्यवसाय में काफी फायदा होगा।
  • जब भी आपको किसी मछली के अंदर कोई बीमारी नजर आए आप उसे दूसरों से अलग कर दें। क्‍योंकि इससे संभव है कि दूसरी मछलियां भी बीमार हो जाएं।
  • तालाब में कभी भी ऐसी मछलियां ना डालें जो कि दूसरी मछलियों को खा जाती हों। इससे आपको नुकसान होगा।
  • मछली को बेचने और तालाब में डालने का एक नियम बना लें। अन्‍यथा कई बार ऐसा समय आ जाएगा कि आपके पास मछली ही खत्‍म हो जाएंगी।
  • मछली पालन व्यवसाय के लिए आप जहां भी तालाब बनवाएं तो कोशिश करें कि वहां हर समय कोई ना कोई आदमी मौजूद रहे। अन्‍यथा मछलियों के चोरी होने का खतरा रहेगा।

सबसे जल्दी बढ़ने वाली मछली कौन सी है?

कतला, भाखुर भौगोलिक निवास एवं वितरण कतला आमतौर पर सबसे तेजी से बड़ी होती है। लेकिन यह जरूरी नहीं कि आपके इलाके की जलवायु में रह सके।

मछली को क्या खिलाने से जल्दी बढ़ता है?

गोबर में नाइट्रोजन की मात्रा सबसे ज्‍यादा होती है। इसलिए आप गोबर की खाद को अपने तालाब में डाल सकते हो।

मछली का बीज कितने रुपए किलो मिलता है?

बाजार में मछली को खाने का भोजन 200 से 250 रूपए किलो मिलता है।

मछली का मुख्य भोजन क्या है?

मछलियों का मुख्‍य भोजन प्लवक (प्लांकटन) है।

Conclusion

हम आशा करते हैं इस लेख को पढ़ने के बाद आपको अंदाजा लग गया होगा कि आप किस तरह से मछली पालन व्यवसाय शुरू कर सकते हैं और भविष्य में आने वाली समस्याओं से किस तरह से बच सकते हैं। फिर भी हम आपको यह जरूर कहेंगे कि अगर आपको मछली पालन व्यवसाय की बिल्कुल भी जानकारी नहीं है और आप पहली बार इस व्यवसाय में कदम रखने जा रहे हैं तो आपके लिए मछली पालन व्यवसाय थोड़ा मुश्किल साबित हो सकता है।

इसलिए यह जरूरी है कि आप किसी ऐसे व्यक्ति की सहायता लें जो पहले से ही इस व्यापार के बारे में जानकारी रखता हो और काफी समय से मछली पालन व्यवसाय का काम करता हो। यदि आपका मछली पालन व्यवसाय से जुड़ा कोई सवाल है तो हमें नीचे कमेंट करें। हम आपके सवाल का जवाब अवश्‍य देंगे।

यह पोस्ट आपके लिए कितना उपयोगी है?

स्टार पर क्लिक करके हमें बताये!

औसत रेटिंग 4.5 / 5. कुल वोट 375

उम्र में युवा और तजुर्बे में वरिष्ठ रोहित यादव हरियाणा के रहने वाले हैं। पत्रकारिता में डिग्री रखने के साथ इन्होंने अपनी सेवाएं कई मीडिया संस्थानों को दी हैं। फिलहाल ये पिछले लंबे समय से अपनी सेवाएं 'All in Hindi' को दे रहे हैं।

Leave a Comment