Oats kya hota hai | ओट्स किसे कहते हैं? इसके 4 प्रमुख प्रकार

4.9
(193)

Oats kya hota hai | ओट्स क्या होता है?

‘सेहत हमारे जीवन का सबसे बड़ा खजाना होता है’ इस लाइन को आपने कई बार सुना और पढ़ा होगा। लेकिन आज के भाग दौड़ भरे जीवन में ये खजाना शायद हमसे कहीं पीछे छूट रहा है। हम चाहते हुए भी अपनी सेहत पर समय नहीं दे पा रहे हैं। यदि आपके साथ भी ऐसा ही कुछ हो रहा है। तो हमारे इस लेख को अंत तक पढि़ए। अपने इस लेख में हम आपको बताएंगे कि Oats kya hota hai ओट्स का सेवन कैसे किया जाता है? ओट्स के फायदे और नुकसान क्‍या हैं?

ओट्स क्या होता है?

ओट्स के बारे में हम आपको ज्‍यादा जानकारी दें इससे पहले आइए आपको हम बताते हैं कि ओट्स क्या है? ओट्स को हम लोग आम बोलचाल की भाषा में जई कहते हैं। यह दलिया या गेंहू के रूप में होता है।

यह खेतों में उगाया जाने वाला एक तरह का अनाज ही होता है। सबसे पहले इसका सेवन केवल पशु ही करते थे। क्‍योांकि उस दौरान हम लोगों को ओट्स के बारे में जानकारी नहीं थी। लेकिन जैसे जैसे पता चलता गया कि ओट्स में बहुत सारे पोषक तत्‍व मौजूद होते हैं। तो उसके बाद इसका प्रयोग इंसानों ने भी शुरू कर दिया। आज भारत ही नहीं, बाल्कि पूरी दुनिया के लोग ओट्स का सेवन करते हैं। जो कि बताता है कि इसका महत्‍व कितना ज्‍यादा बढ़ गया है।

ओट्स कहां उगाया जाता है?

ओट्स क्या होता है इसके जवाब में हमने आपको बताया कि ओट्स एक फसल के रूप में होता है। ऐसे में जब इसकी खेती की बात आती है तो दुनिया में ओट्स की खेती की शुरूआत सबसे पहले स्‍कॉटलैंड में शुरु की गई थी। लेकिन जैसे जैसे इसके फायदों के बारे में लोगों को पता चलता गया तो इसकी खेती ने विस्‍तार लिया और आगे चलकर अमेरिका, कनाडा, फ्रांस, रूस और एशियाई देशों में भी बढ़ने लगी।

ओट्स क्या होता है

यदि हम भारत में ओट्स की खेती की बात करें तो इसकी सबसे ज्यादा पैदावार हमारे देश में पंजाब, हरयिाणा, यूपी और पश्चिम बंगाल में की जाती है। यहां आप खेतों में ओट्स को उगते हुए देख सकते हैं।

ओट्स में पाए जाने वाले प्रमुख पोषक तत्‍व

ओट्स में पोषक तत्‍वों की भरमार होती है। लेकिन हम आपको बता दें कि यदि आप ग्‍लूटेन फ्री भोजन करना चाहते हैं तो आप ओट्स का सेवन आसानी से कर सकते हैं। ओट्स पूरी तरह से ग्‍लूटेन फ्री होता है। इसके अलावा इसमें मैग्‍नीशियम, पोटेशियम, आयरन, जिंक, कैल्शियम, सोडियम, फाइबर, प्रोटीन, थाइमिन, फोलेट और ढेर सारे विटामिन पाए जाते हैं। लेकिन सही मायने में यदि हम ओट्स के पोषक तत्‍वों की बात करें तो उन सभी को यहां बात पाना संभव ही नहीं है। क्‍योंकि इसमें हर वो पोषक तत्‍व पाया जाता है, जो हमारे शरीर के लिए उपयोगी होता है।

ये भी पढ़ें: गर्म पानी पीने के 5 बड़े नुकसान

ओट्स के प्रमुख प्रकार

अभी ऊपर अपने जाना कि Oats kya hota hai, चलिए अब एक नजर ओट्स के प्रमुख प्रकारों पर डालते है।

ओट्स के कई प्रकार होते हैं। जिनके अलग अगल फायदे और नुकसान होते हैं। आइए हम आपको ओट्स के तमाम प्रकार के बारे में विस्‍तार से बताते हैं। साथ ही उनका प्रयोग कहां कहां होता है।

रोल्‍ड ओट्स (Rolled Oats)

ओट्स का यह सबसे पुराना प्रकार होता है। इसके अंदर आपको सबसे ज्‍यादा पोषक तत्‍व देखने को मिलेंगे। यह एक तरह का आटा होता है। जो‍िकि आकार में चपटा होता है। परन्‍तु पूरी तरह से गोल नहीं होता है। इसका प्रयेाग दलिया और ब्रेड बनाने में होता है। यदि आप घर में ओट्स खाना चाहते हैं, तो इसी का प्रयेाग करें।

इंस्‍टेंट ओट्स (Instant Oats)

इन ओट्स की खास बात ये होती है कि पानी कम अवशोषित करते हैं। साथ ही पक भी जल्‍दी जाते हैं। इसी लिए इनका नाम Instant Oats रखा गया है। यदि हम इनके रंग की बात करें तो यह हल्‍के क्रीम रंग के होते हैं। जबकि ये आकार में पोहा की तरह नर्म होते हैं। इनका सबसे ज्‍यादा प्रयोग लोग सुबह के समय सूप बनाने में करते हैं। क्‍योंकि इन्‍हें पकाने में समय कम लगता है।

ये भी पढ़ें: हींग कैसे बनती है? फायदे और नुकसान

स्‍टील कट ओट्स (Steel Cut Oats)

इस तरह के ओट्स को छोटे छोटे टुकड़ों में काट कर तैयार किया जाता है। साथ ही इन्‍हें पकने में अधिक समय लगता है। लेकिन इनकी खास बात ये होती है। कि इन्‍हें इंसान अपने स्‍वाद के अनुसार मीठा, हल्‍का या नमकीन बना सकता है। साथ ही ये पोषक तत्‍वों में भी भरपूर होता है। जिससे सेहत के लिए ये बहुत फायदेमंद होता है। जो लोग ओट्स का सेवन में स्‍वाद लेना चाहते हैं। उन्‍हें इस प्रकार का प्रयोग जरूर करना चाहिए।

ग्रोट्स ओट्स (Groats Oats)

इस तरह के ओट्स को बनाने से पहले आपको इसका बाहरी छिलका हटाने की जरूरत पड़ती है। साथ ही इसका प्रयोग आप दलिया या खिचड़ी बनाने में कर सकते हैं। क्‍योंकि इसमें कैलोरी की मात्रा सर्वाधिक होती है। लेकिन समय अधिक लगने के चलते लोग इसका प्रयोग कम करते हैं।

ओट्स का सेवन किस समय करें?

Oats kya hota hai आपने अभी इसके बारे में जाना आइए अब हम आपको बताते हैं कि यदि आप ओट्स खाने की शुरूआत करना चाहते हैं तो आप इसका सेवन किस तरह से कर सकते हैं। जिससे ये आपके शरीर को किसी तरह का नुकसान ना पहुंचाए।

  • ओट्स को आप सुबह नाश्‍ते के दौरान हरी सब्‍जी के साथ खा सकते हैं। लेकिन यह पूरी तरह से पका हो। तभी यह लाभकारी होगा।
  • ओट्स को दाल चावल में मिलाकर दोपहर के भोजन के साथ भी आप आसानी से कर सकते हैं। यह आपके भोजन की तरह हो जाएगा।
  • यदि आप सुबह शाम दूध पीते हैं तो आप किसी भी समय इसका सेवन दूध के समय कर सकते हैं। बस मात्रा हल्‍की रखें।
  • आप दिन में किसी भी समय ओट्स का सूप बनाकर सेवन कर सकते हैं। बुर्जग और बच्‍चों के लिए यह सबसे ज्‍यादा फायदेमंद साबित होता है।
  • जई के दानों को अंकुरित करके आप इसका सेवन भोजन क साथ सलाद के रूप में कर सकते हैं। य‍ह सबसे ज्‍यादा पोष्टिक आहार होगा।

नोट: यदि आप पहली बार ओट्स का सेवन करने जा रहे हैं तो हमेशा बेहद कम ओट्स से शुरूआत करें। साथ ही ओट्स बाजार से खरीद कर लांए तो इस बात का जरूर ध्‍यान रखें कि उसकी Expiry Date जा तो नहीं चुकी है। क्‍योंकि यह आपकी सेहत के लिए नुकसानदेह साबित हो सकती है।

 

ओट्स खाने के फायदे

आइए आपको हम बताते हैं कि यदि आप ओट्स का नियमित सेवन करते हैं, तो इससे आपको क्‍या क्‍या फायदे हो सकते हैं। साथ ही किन चीजों में ये लाभकारी सिद्ध हो सकता है।

  • यदि आपका ब्‍लड प्रेशर आधिक रहता है, तो आपको ओट्स का सेवन जरूर करना चाहिए। क्‍योंकि ओट्स के अंदर पोटैशियम, विटामिन c, घुलनशील फाइबर भरपूर मात्रा में पाया जाता है। जो कि रक्‍त चाप को नियंत्रित करने में मददगार सिंद्ध होता है।
  • ओट्स का सेवन कैंसर उपचार में भी मददगार सिद्ध होता है। क्‍योंकि ओट्स कैंसर की नई कोश्किाओं को जन्‍म लेने से रोकता है। जो‍िकि कैंसर में सबसे ज्‍यादा लाभकारी होती है।
  • ओट्स बेहद ही पोष्‍टिक होता है। ऐसे में यदि कोई ओट्स का सेवन करता है, तो उसे बार बार भूख नहीं लगती है। साथ ही उसका खाना हजम भी अच्‍छे से हो जाता है। जिससे शरीर का वजन कम करने में मदद मिलती है और मोटापा कम करने में मदद करता है।
  • असंतुलित भोजन से अक्‍सर मधुमेह की शिकायत हमें देखने को मिलती है। लेकिन यदि मधुमेह से पीडि़त व्‍यक्ति ओट्स का सेवन करता है तो उसकी मधुमेह की समस्‍या समाप्‍त हो सकती है।
  • कोलेस्‍ट्रोल हृदय के लिए बेहद की घातक सिद्ध होता है। जबकि कोलेस्‍ट्रोल हमेशा तली और बाहर की चीजें खाने से बढ़ता है। यदि आप बढ़े हुए कोलेस्‍ट्रोल को कम करना चाहते हैं तो अपने सुबह के नाश्‍ते में ओट्स के सेवन की शुरूआत करें। साथ ही तली और बाहर की चीजें भी खाना बंद कर दें।
  • गलत खान पान से अक्‍सर हमारा पाचन तंत्र खराब हो जाता है। इसलिए यदि आपका भी पाचन तंत्र खराब है, तो आप ओट्स का सेवन जरूर करें। ओट्स एक संतुलित भोजन के साथ आपका पाचन तंत्र भी सही करने में मददगार सिद्ध होता है।
  • आज जिस तरह से हर रोज नई नई बीमारी सामने आ रही है। उसका समाधान दवाई नहीं, बाल्कि हमारी अच्‍छी रोग प्रतिरोधकता क्षमता है। इसलिए अपनी रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए जरूरी है कि आप नियमित ओट्स का सेवन करें। जिससे आपका शरीर हमेशा बिमारियों से दूर रहे। क्‍योंकि ओट्स के अंदर पोषक तत्‍वों की भरमार होती है।
  • यदि आपके चेहरे पर मुंहासे उत्‍पन्‍न हो गए हैं। तो आपको नियमित ओट्स का सेवन करना चाहिए। इससे आपका चेहरा एकदम साफ सुथरा हो जाएगा। लेकिन ध्‍यान रखें कि आप इसके लिए किसी तरह की क्रीम का प्रयोग ना करें।
  • हमें रोजान 6 से 8 घंटे की नींद जरूर लेनी चाहिए। यदि यदि आपको नींद ना आने की समस्‍या है तो आपको रोजाना ओट्स का सेवन करना चाहिए। क्‍योंकि ओट्स के अंदर सेरोटिन नाम का तत्‍व पाया जाता है जो कि हमें‍ पूरी नींद लाने में मददगार सिद्ध होता है।
  • ओट्स के अंदर कैल्‍शियम पाया जाता है, जो कि हड्डियों के लिए बेहद लाभकारी होता है। इसलिए अपनी हड्डी को मजबूत बनाए रखने के लिए हमें ओट्स का सेवन जरूर करना चाहिए। यदि आपकी हड्डी में कभी फैक्‍चर हुआ है तो आपको ओट्स को अपने जीवन का हिस्‍सा बना लेना चाहिए।
  • छोटे बच्‍चे जो कि अक्‍सर हल्‍का भोजन करना ही पसंद करते हैं। उनके लिए ओट्स बेहद लाभकारी होता है। ओट्स उन्‍हें ना सिर्फ उर्जावान बनाए रखने में मदद करता है। बाल्कि उनका पाचन तंत्र भी सही रखता है।
  • कब्ज बेहद की गंभीर समस्‍या है। इसलिए यदि आप कब्‍ज से परेशान हैं तो आपको चाहिए कि आप ओट्स का सेवन जरूर करें। यह आपके पाचन तंत्र को सही रखने के साथ मल त्‍याग करने में मदद करता है। क्‍योंकि यह बेहद हल्‍का भोजन होता है।
  • यदि आप दिन में उर्जावान महसूस नहीं करते हैं। तो आपको चाहिए कि आप सुबह ओट्स का सेवन करके ही घर से बाहर निकलें। इससे दिनभर आपका शरीर उर्जावान बना रहेगा।

ओट्स खाने के कुछ नुकसान

हर चीज के अपने फायदे और अपने नुकसान भी होते हैं। ऐसे में यदि आप ओट्स का गलत तरीके से सेवन करते हैं। तो इसके भी कुछ नुकसान देखने को मिल सकते हैं। आइए एक बार उन्‍हें भी जान लेते हैं।

  • यदि आप ओट्स को पकाने का सही तरीका नहीं जानते हैं, तो वो कच्‍चे रह सकते हैं। ऐसे में यदि आप कच्‍चे ओट्स का सेवन करते हैं, तो इससे आपका पेट खराब हो सकता है।
  • आपको हमेशा कोशिश करनी चाहिए कि आज प्राकृतिक जई का सेवन करें। यदि आप बाजार से ओट्स खरीद कर लाते हैं तो कई बार यह फायदे की बजाय आपके लिए नुकसानदेह भी सिद्ध हो सकती है।
  • यदि आप ओट्स का सेवन स्‍वाद लेने के लिए करते हैं और एक ही दिन में कई बार इसे खा लेते हैं। तो यह आपके लिए नुकसानदेह साबित हो सकती है। इससे आपका पाचन तंत्र खराब होने के साथ ही आपके शरीर पर इसका विरीत प्रभाव देखने को मिल सकता है।
  • यदि आप किसी गंभीर बीमारी से पीडि़त हैं तो आपको ओट्स का सेवन करने से पहले डॉक्‍टर की सलाह जरूर ले लेनी चाहिए। बिना सलाह के आप ओट्स का सेवन कभी ना करें। इससे आपकी समस्‍या और बढ़ सकती है।

आज इस लेख में आपने जाना कि Oats kya hota hai, ओट्स क्या होता है, आशा है अब आप समझ चुकें होंगे कि ओट्स किसे कहते हैं। आप यह जानकारी अपने दोस्तों तक भी शेयर  करें ताकि उन्हें भी ओट्स क्या है इसके बारे में जानकारी प्राप्त कर सकें।

यह पोस्ट आपके लिए कितना उपयोगी है?

स्टार पर क्लिक करके हमें बताये!

औसत रेटिंग 4.9 / 5. कुल वोट 193

नमस्कार दोस्तों, मैं रवि "आल इन हिन्दी" का Founder हूँ. मैं एक Economics Graduate हूँ। कहते है ज्ञान कभी व्यर्थ नहीं जाता कुछ इसी सोच के साथ मै अपना सारा ज्ञान "आल इन हिन्दी" द्वारा आपके साथ बाँट रहा हूँ। और कोशिश कर रहा हूँ कि आपको भी इससे सही और सटीक ज्ञान प्राप्त हो सकें।

Leave a Comment