पृथ्वी का वजन कितना है? | पृथ्वी से जुड़े 10 रोचक तथ्य

4.8
(332)

पृथ्वी का वजन कितना है? | Prithvi ka vajan kitna hai

हमारी पृथ्वी का वजन कितना है? आपके जहन में भी से सवाल कई बार आया होगा। हो सकता है कि आपने ये भी सोचा हो कि क्‍या इतनी बड़ी पृथ्‍वी का वजन मापने के लिए कोई इतना बड़ा तराजू अभी तक बना होगा।

यदि आप इन सवालों के जवाब जानना चाहते हैं कि पृथ्वी का वजन कितना है?, earth ka weight kitna hai, prithvi ka vajan kitna hai, धरती का वजन कितना है? तो हमारी इस पोस्‍ट को आप अंत तक पढि़ए। अपनी इस पोस्‍ट में हम आपको बताएंगे कि पृथ्‍वी का वजन कितना है। जिसे जानकर आप यकीन्न हैरान रह जाएंगे। साथ ही पृथ्‍वी से जुड़े कुछ ऐसे रोचक तथ्‍य जिन्‍हें आप अभी तक नहीं जानते होंगे।

पृथ्वी का वजन कितना है?

यदि हम धरती का वजन कितना है? इसके बारे में बात करें तो ये इतना है कि शायद आप एक बार में समझ भी ना पाएं। पृथ्‍वी के वजन को सबसे पहले हम आपको गणित की भाषा में बताते हैं। पृथ्वी का वजन 5.972 × 10^24 किलोग्राम है। शायद आप इसे समझ नहीं पाए होंगे तो आप घबराइए मत अब हम आपको इसे साधारण भाषा में बताते हैं।

इसे यदि टन में देखा जाए तो पृथ्‍वी का वजन 5,972,000,000,000,000,000,000 टन है। पहले माना जाता था कि पृथ्‍वी पूरी तरह से समतल है लेकिन जैसे समय बीता और वैज्ञानिकों ने खोज की तो पता चला कि पृथ्‍वी समतल नहीं, बाल्कि गोल है। तब से लेकर आजतक यही बात प्रमाणित मानी जाती है।

earth ka weight kitna hai

पृथ्वी का वजन

5.972 × 10^24 किलोग्राम = 5,972,000,000,000,000,000,000 टन

ये भी पढ़ें: तिरंगा का इतिहास, Facts about National Flag in Hindi

पृथ्‍वी से जुड़े 10 रोचक तथ्‍य

पृथ्वी का वजन कितना है यह जान लेने के बाद चलिए जरा पृथ्वी से जुड़ कुछ रोचक तथ्यों के बारे में जान लेते है।

  1. पृथ्‍वी को जब आकाश से देखा जाता है तो ये नीले रंग की दिखाई देती है। इसकी वजह ये है‍ कि इसके चारो तरफ जल मौजूद है। इसीलिए इसे नीला ग्रह भी कहा जाता है।
  2. क्‍या आपको पता है कि पृथ्‍वी के घूमने की गति धीरे धीरे लगातार कम हो रही है। यदि ये इस तरह से ये गति कम होती रही तो आज के 140 मिलियन वर्ष बाद पृथ्‍वी पर एक दिन की लंबाई 24 घंटे से बढ़कर 25 घंटे तक हो जाएगी।
  3. आकाश में उड़ते जो जहाज आप देखते हैं वो आपको भले ही बहुत ऊंचे लगते हों परन्‍तु वास्‍तव में उनकी ऊंचाई 60 हजार फीट से ज्‍यादा नहीं होती है। इसे यदि हम किलोमीटर में देखें तो ये लगभग 18 किलोमीटर होता है। यदि हम पृथ्‍वी से 36 हजार किलोमीटर की ऊंचाई पर कोई चीज फैंक दें तो वो कभी व‍ापिस नहीं आएगी।
  4. पूरे सौर मंडल में पृथ्‍वी एकमात्र ऐसा ग्रह है जहां 21 प्रतिशत ऑक्सीजन मौजूद और जल की मौजूदगी है। दूसरे ग्रह पर जीवन ना संभव होने का सबसे बड़ा कारण यही है।
  5. यदि पृथ्‍वी अपने अंदर से अपना गुरूत्‍वाकर्षण बल खो दे तो इस पर मौजूद सभी चीजें आकाश की तरफ चली जाएंगी। साथ ही वो फिर कभी दोबारा पृथ्‍वी पर वापिस नहीं आएंगी।
  6. आपने सुना होगा कि एक साल में 365 दिन होते हैं। लेकिन वास्तव में एक साल में 365.2564 दिन होते हैं। इससे हर चार साल में एक Leap Year के तौर पर फरवरी में एक दिन जोड़कर पूरा किया जाता है। जिससे ये बराबर हो जाता है।
  7. दुनियाभर में पृथ्‍वी पर सबसे ज्‍यादा वर्षा मेघालय के मासिनराम में होती है। यहां हर साल लगभग 11,871 MM वर्षा दर्ज की जाती है। इसकी वजह यहां पर मौजूद पहाडि़यां हैं।
  8. हमारी पृथ्‍वी पर कभी सर्दी कभी गर्मी इसलिए आती है क्‍येंकि ये पृथ्‍वी अपनी अक्ष पर 23.5 डिग्री झुकी हुई है। यदि ऐसा नहीं होता तो हमारी पृथ्‍वी पर कभी भी मौसम नहीं बदलता। जहां गर्मी रहती वहां हमेशा गर्मी रहती और जहां सर्दी रहती वहां हमेशा सर्दी रहती।
  9. पृथ्‍वी ऐसा इकलौता ग्रह है जिसका नाम किसी देवता या भगवान के नाम पर रखा गया है। यही वजह है कि बहुत से लोग पृथ्‍वी को ‘धरती माता’ कहते हैं और इसकी पूजा करते हैं।
  10. पृथ्‍वी का आज भी 70 प्रतिशत हिस्‍सा जल से ढका हुआ है। जबकि इसका बहुत बड़ा हिस्‍सा बर्फ से ढका हुआ है। हम लोग केवल इसके छोटे से हिस्‍से पर निवास कर सकते हैं।

Conclusion

पृथ्वी का वजन कितना है यह आप जरुर समझ चुके होंगे इसी प्रकार के रोचक तथ्यों की जानकारी के लिए आप हमारी रोचक तथ्य की केटेगरी को पढ़ सकते है। जानकरी अच्छी लगे तो अपने दोस्तों तक शेयर करें। अगर अच्छी नहीं लगी तो पहले हमें बताये।

यह पोस्ट आपके लिए कितना उपयोगी है?

स्टार पर क्लिक करके हमें बताये!

औसत रेटिंग 4.8 / 5. कुल वोट 332

नमस्कार दोस्तों, मैं रवि "आल इन हिन्दी" का Founder हूँ. मैं एक Economics Graduate हूँ। कहते है ज्ञान कभी व्यर्थ नहीं जाता कुछ इसी सोच के साथ मै अपना सारा ज्ञान "आल इन हिन्दी" द्वारा आपके साथ बाँट रहा हूँ। और कोशिश कर रहा हूँ कि आपको भी इससे सही और सटीक ज्ञान प्राप्त हो सकें।

Leave a Comment