Kuttu ka atta kya hota hai | कुट्टू का आटा किससे बनता है?

4.7
(171)

Kuttu ka atta kya hota hai? कुट्टू का आटा के फायदे तथा नुकसान

Buckwheat flour in hindi- व्रत के दौरान अनाज के रूप में कुट्टू का आटा (Kuttu ka atta) का प्रयोग सबसे अधिक किया जाता है। कुट्टू का आटा कई तरह के पोषक तत्वों से भरपूर होता है, तो इसलिए आज के इस लेख में हम कुट्टू के आटे की पूरी जानकारी जैसे- कुट्टू का आटा क्या हैं? और कुट्टू के आटे के सेवन से आपको कौन-कौन से फायदे तथा नुकसान हो सकते हैं के बारे में विस्तार से जानेंगे। तो चलिए जानते हैं…

Kuttu ka atta kya hota hai?

कुट्टू एक तरह का पौधा होता है जिसे अंग्रेजी में Backwheat के नाम से जाना जाता है। जिसका लैटिन नाम फैगोपाइरम सस्कलूलेंट होता हैं। बहुत से लोग कुट्टू को अनाज के रूप में समझते हैं पर कुट्टू का किसी भी तरह के अनाज से कोई संबंध नहीं है। कुट्टू का पौधा एक तरह से फल होता है जिसमें तिकोने आकार के फूल गुच्छों के रूप में उगते हैं। जिसे सुखाकर पीसकर उसका आटा तैयार किया जाता है।

इस तरह के पौधे आकार में दो से चार फीट लंबाई के होते हैं, जिसमें गुच्छों के रूप में फल और फूल निकलते हैं।कुट्टू की फसल को गर्मियों में उगाया जाता है कुट्टू की फसल को पकने में लगभग 2 महीने का समय लग जाता है। अगर बात करें कुट्टू के फसल उगाने की, तो भारत में कुट्टू की खेती बहुत कम होती है भारत में कुट्टू की फसल को उत्तरी भारत के हिमालय पर्वत क्षेत्रों जैसे जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड तथा दक्षिण में नीलगिरि पर्वतीय हिस्सों में इसकी खेती की जाती है।

इसी के साथ रूस, कजाकिस्तान तथा चीन में भी कुट्टू की फसल को उगाया जाता है चीन के लोगों द्वारा इसका प्रयोग सिरका बनाने के लिए किया जाता है जबकि जापान के लोग कूटू के आटे का प्रयोग नूडल्स बनाने तथा अमेरिका और यूरोप जैसे देशों में कूटू के आटे का प्रयोग केक तथा बिस्किट बनाने में करते है तथा भारत में कूटू के आटे का प्रयोग मुख्य रूप से व्रत के समय अनाज के रूप में किया जाता है।

Kuttu ka atta में मौजूद पोषक तत्व

भारतीय सभ्यता में मूल रूप से व्रत के दौरान खाने में प्रयोग किया जाने वाला कूटू का आटा बहुत से पोषक तत्वों से भरपूर होता है। आप में से बहुत से लोगों ने कूटू के आटे से बने पकोड़े, चिल्ले तथा बहुत से खाद्य पदार्थ खाए होंगे। लेकिन क्या आपको पता है कि कूटू के आटे में बहुत से पोषक तत्व जैसे मैग्नीशियम, आयरन, फॉलेट, जिकं, मैगनिज और फास्फोरस के अलावा बहुत से विटामिन आदि भरपूर मात्रा में मौजूद होते हैं।

जो आपकी सेहत को कई तरीकों से लाभ पहुंचाने तथा उसे स्वस्थ रखने में लाभदायक साबित होते हैं। कूटू का आटे में मौजूद यह पोषक तत्व आपको कई तरह की बीमारियों से बचाते हैं साथ ही साथ सीलिएक रोग से पीड़ित लोगों के लिए कूटू के आटे का सेवन काफी मददगार होता है। कुट्टू के आटे में मौजूद फाइटोन्यूट्रिएंट्स प्रोटीन कोलेस्ट्रोल तथा ब्लड प्रेशर को कम करने में मदद करता है।

ये भी पढ़ें: खाली पेट पानी पीने के 21 फायदे

रसोई में कुटू के आटे का उपयोग

रसोई में कूटू के आटे का प्रयोग बहुत से स्वादिष्ट तथा स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद व्यंजनों को बनाने के लिए किया जाता है। इसके अलावा आप कुट्टू के आटे को रसोई में कैसे शामिल कर सकते हैं। इसकी जानकारी हमने आपको नीचे बता रखी है तो चलिए जानते हैं।

● कूटू के आटे का प्रयोग भारत में व्रत के दिनों में खाए जाने वाले अनाज के रूप में किया जाता है।
● इसके अलावा बहुत से लोग कुट्टू के आटे का प्रयोग बहुत से स्वादिष्ट व्यंजनों जैसे पूडियॉं, पकोड़े तथा पराठे बनाने में करते हैं।
● कुट्टू के आटे का प्रयोग हलवा बनाने में भी किया जाता है।
● भारत में बहुत से लोग कुट्टू के आटे का प्रयोग इडली तथा डोसा बनाने में करते हैं।
● इसके अलावा विदेशों में कूटू के आटे का प्रयोग नूडल्स, सिरका तथा बेकरी प्रोडक्ट जैसे केक तथा बिस्किट आदि चीजों बनाने के लिए किया जाता है।

कुट्टू का आटा

ये भी पढ़ें: अलसी के फ़ायदे और नुकसान

कुट्टू के आटे के फायदे

1.वजन घटाने में सहायक

यदि आप बहुत समय से वजन घटाने का प्रयास करते आ रहे हैं, तो इसके लिए कुट्टू का आटा का सेवन आपकी मदद कर सकता है। एक रिसर्च के अनुसार वजन कंट्रोल करने के लिए उच्च प्रोटीन वाले खाद्य सामग्री का प्रयोग करना चाहिए। ऐसे में जब आप कुट्टू के आटे का प्रयोग भोजन के रूप में करते हैं तो इससे आपका पेट अन्य भोजनों की तुलना में कम कैलोरी के साथ लंबे समय तक भरा रहता है। जिससे आप अधिक बार खाना खाने से बचते हैं। और इससे आपका वजन कम होता है।

2. डायबिटीज से बचाव

यदि आप भी एक डायबिटीज पेशेंट है तो कुट्टू के आटे का सेवन आपके मधुमेह की रोकथाम के लिए कई तरीकों से गुणकारी साबित हो सकता है। कुट्टू में मौजूद फाइबर हमारे शरीर में शर्करा की मात्रा को तेजी से बढ़ने से रोकता है एक वैज्ञानिक रिसर्च में चूहों के ऊपर कुट्टू के आटे का अध्ययन हुआ था। जिससे यह पता चलता है कि कुट्टू में एंटीडायबिटिक गुण मौजूद होता है जो मधुमेह डायबिटीज को कम करने में लाभदायक है।

3. ह्रदय के लिए लाभदायक

अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन की एक रिपोर्ट के मुताबिक साबुत अनाज को नाश्ते में शामिल करना हमारे शरीर के लिए काफी हद लाभदायक साबित होता है। लेकिन ऐसे में बहुत से लोग जिनको साबुत अनाज को खाना पसंद नहीं होता हैं। तो ऐसे में लोगों को Kuttu ka atta का सेवन जरूर करना चाहिए।

4. पाचन में लाभदायक

Kuttu ka atta का सेवन करने से आप का पाचन बेहतर होता है कुट्टू में मौजूद फाइबर तथा नियासिन आपके शरीर में मौजूद प्रोटीन तथा वसा को पचाकर ऊर्जा में परिवर्तित करने में मदद करता है। इसके अलावा कुट्टू के आटे का सेवन करने से आपको कब्ज तथा अपच जैसी समस्याओं से छुटकारा मिलता है। तथा कुट्टू में पाए जाने वाले प्रोटीन हमारे शरीर में कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करता है। इसी के साथ एक शोध में यह भी पाया गया कि कुट्टू में मौजूद बाइल एसिड हमारे शरीर में पथरी गठन के जोखिम को काफी हद तक कम करता है।

ये भी पढ़ें: अधिक गर्म पानी पीने के नुकसान

कुट्टू के आटे के नुकसान

Kuttu ka atta में मौजूद पोषक तत्व आपके स्वास्थ्य के लिए कितने फायदेमंद साबित होते हैं। यह तो आपने ऊपर बताई गई जानकारी से जान ही लिया होगा। लेकिन इसी के साथ कुट्टू के अधिक मात्रा में सेवन करने से आपको कई तरह के दुष्प्रभाव देखने को भी मिलते हैं। जिन्हें आप को जानना बहुत जरुरी होता है तो चलिए जानते हैं इन दुष्प्रभावों के बारे में।

  1. बहुत से लोग जब कुट्टू के आटे का सेवन करते हैं तो कई बार उन्हें स्किन एलर्जी जैसी समस्याओं का सामना करना पड़ता है। यदि आप अधिक मात्रा में इसका सेवन करते हैं तो आपके शरीर पर छोटे-छोटे दाने तथा सूजन जैसी समस्याएं उत्पन्न हो सकती हैं।
  2. कुट्टू में फाइबर की मात्रा ज्यादा होती है फाइबर की है ज्यादा मात्रा बहुत से पाचन संबंधी समस्याओं को उत्पन्न करती है अधिक मात्रा में कुट्टू के आटे का सेवन करने से आपके पाचन में गैस्ट्रोलॉजिस्ट लक्षण जैसे कब्ज और अपच जैसी समस्याएं उत्पन्न हो सकती हैं।
  3. कुट्टू के आटे में पोटेशियम की मात्रा भी ज्यादा होती है जिस कारण यदि आप इसका अधिक सेवन करते हैं। तो यह आपके लिए हाइपरकलेमिया का कारण बन सकती है। जिससे परिणाम स्वरूप आपकी मांसपेशियां कमजोर पड़ सकती हैं और इससे पैरालाइसिस का खतरा बन सकता है।
  4. उच्च वसा के कारण कूटू का आटा बहुत ही जल्द खराब हो जाता है ऐसे में यदि आप पुराने आटे का सेवन करते हैं तो आपको फूड प्वाजयनिंग भी हो सकती है इसलिए इसका सेवन करते वक्त हमेशा फ्रेश आटे प्रयोग करें।

घर में Kuttu ka attaकैसे बनाएं

व्रत के दिनों में कूटू का आटा अनाज के स्थान पर प्रयोग किए जाने वाले सबसे पसंदीदा खाद्य पदार्थ के रूप में से एक है। लेकिन बाजार में मिलने वाला कुट्टू का आटा कई तरह की मिलावटी चीजों से बनाया जाता है। जो कई तरह से नुकसानदायक साबित होता है। मिलावटी कुट्टू के आटे की बजाय आप अपने घर पर ही कुट्टू का आटा बना सकतै हैं। घर पर बनी हुई सभी अन्य खाने की चीजों की तरह से ही कुट्टू का आटा आपके लिए पौष्टिक तत्व से भरपूर साबित होगा।

यदि आप भी अपने घर पर कुट्टू के आटे को बनाना चाहते हैं तो उसके लिए आपको एक कप कुट्टू के बीजों को मिक्सी में डालकर 5-6 मिनट तक ग्रांइड कर लेना है। जिसके बाद आपका आटा तैयार हो जाएगा। तैयार आटे की शेल्फ लाइफ को बढ़ाने के लिए आपको इसे एक एयरटाइट डिब्बे में स्टोर करके रखना चाहिए।

Conclusion

आज के इस लेख में हमने आपको कुट्टू के आटे के बारे में पूरी जानकारी बताइए। आशा करता हूं कि आज का यह लेख आपके लिए काफी मददगार साबित हुआ होगा। कुट्टू का आटा इस्तेमाल करते वक्त आपको इसे किसी विश्वसनीय स्रोत से लेना चाहिए। इसके अलावा यदि आपका इस लेख से जुड़ा हुआ कोई भी प्रश्न हैं, तो आप उसे आप हमें नीचे कमेंट सेक्शन में कमेंट के माध्यम से पूछ सकते हैं। साथ ही साथ इस लेख को अपने मित्रों के साथ साझा करना ना भूलें। इसी तरह की जानकारियों को जानने के लिए आप allinhindi.net को फॉलो भी कर सकते हैं।

यह पोस्ट आपके लिए कितना उपयोगी है?

स्टार पर क्लिक करके हमें बताये!

औसत रेटिंग 4.7 / 5. कुल वोट 171

नमस्कार दोस्तों, मैं रवि "आल इन हिन्दी" का Founder हूँ. मैं एक Economics Graduate हूँ। कहते है ज्ञान कभी व्यर्थ नहीं जाता कुछ इसी सोच के साथ मै अपना सारा ज्ञान "आल इन हिन्दी" द्वारा आपके साथ बाँट रहा हूँ। और कोशिश कर रहा हूँ कि आपको भी इससे सही और सटीक ज्ञान प्राप्त हो सकें।

Leave a Comment