YATAYAT KE NIYAM जानिए सड़क यातायात के नियम

Contents hide
1 YATAYAT KE NIYAM जानिए सड़क यातायात के नियम

भारत में प्रतिदिन 400 से 450 लोगों की मृत्व सड़क दुर्घटना की वजह से होती है जो पूरे विश्व में सड़क दुर्घटना से हुए मृत्व का 11 प्रतिशत है। हैरानी की बात यह है कि पूरे विश्व का सिर्फ 1 प्रतिशत वाहन का इस्तेमाल भारत में होता है। इन road accedent की वजह से भारत की कुल जीडीपी का 3 से 4 प्रतिशत खर्च प्रतिवर्ष होता है। जो एक चिंता का विषय है।

आकडे यह बताते है कि सड़क दुर्घटना में मारे गए लोगों में 70 प्रतिशत लोग 18 से 45 वर्ष के बीच है। इसलिए यदि आप कोई वाहन खरीदने जा रहे है या ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने जा रहे है, तो आपको यातायात के नियम  और यातायात से जुड़े संकेतों की सही और पूरी जानकारी होना अति आवश्यक है।

देश के एक जिम्मेदार नागरिक होने के नाते ये हमारी जिम्मेदारी भी बनती है कि इन नियमों का पालन किया जाए। सड़क पर चलते हुए रोड के किनारे लगे साइन बोर्ड को अनदेखा करना सिर्फ आपके लिए ही नहीं बल्कि अन्य लोगों के साथ साथ आपके परिवार के लिए भी तकलीफ देय हो सकता है। इसी उद्देश्य से कि आप और इस देश का हर नागरिक सुरक्षित रहे, हम इस आर्टिकल में yatayat ke niyam के चर्चा करेंगे।

कौन चला सकता है वाहन?

सड़क पर लगे साइन बोर्ड का मतलब जानने से पहले आपको ये जानना बेहद जरूरी है कि भारत में कानूनी तौर पर वाहन चलाने के लिए क्या नियम हैं। इसमें सबसे पहले आपके पास एक वैध लाइसेंस होना बेहद जरूरी है। जिसके लिए आपकी उम्र 18 साल से अधिक होनी चाहिए। साथ ही आप जिस गाड़ी को चला रहे हैं, उसकी RC, insurance, pollution certificate होना बेहद जरूरी है। यदि आपके पास ये सभी चीजें मौजूद हैं, तो आप बेधड़क अपनी गाड़ी लेकर सड़क पर निकल सकते हैं।

दो पहिया वाहनों के लिए क्या हैं यातायात के नियम

यदि आप दो पहिया वाहन चलाते हैं, तो आपको बेहद सावधानी बरतनी चाहिए। क्योंकि दो पहिया वाहन चलाते समय बेहद सावधानी हटते ही दुर्घटना घट जाती है। इसमें सबसे जरूरी है कि आप गाड़ी चलाते समय हेलमेट जरूर लगाएं। साथ ही इस बात का जरूर ध्यान रखें कि आपकी गाड़ी के टायर, ब्रेक आदि बिल्कुल सही हों। गाड़ी चलाते समय कभी भी मोबाइल पर बात या इयरफोन न इस्तेमाल करें। इससे आपका ध्यान भटक सकता है और आप हादसे का शिकार हो सकते हैं। यदि आप हाइवे पर जा रहे हैं, तो कभी भी आवेश में आकर दूसरी गाड़ियों की रफ्तार से बराबरी ना करें। साथ ही आपकी बाइक में दोनों साइड मिरर होने बेहद जरूरी हैं, जिससे पीछे आ रही गाड़ियों को आप देख सकते हैं।

चार पहिया गाड़ी के लिए क्या हैं यातायात के नियम

यदि आप कार, जीप आदि चलाते हैं तो RTO विभाग की तरफ से आपके लिए भी नियम निर्धारित किए गए हैं, जिनका पालन करके आप किसी भी दुर्घटना से बच सकते हैं। इसमें सबसे पहले आप सीट बेल्ट जरूर लगा लें। साथ ही आपकी गाड़ी के दोनों साइड मिरर ठीक होने चाहिए, ताकि पीछे से आ रही गाड़ियों को आप साइड दे सकें। ट्रक, ऑटो, रिक्शा चालकों के द्वारा कुछ हाथ के इशारे होते हैं। आपको उन्हें भी जानना भी बेहद जरूरी है। यदि आपको दाहिने या बाएँ मुड़ना है तो इंडिकेटर का जरूर प्रयोग करें।

भारी वाहनों के लिए क्या हैं यातायात के नियम

भारी वाहनों के लिए भी अलग से यातायात नियम बने हैं। इसमें यदि आप ट्रक, ट्रैक्टर या छोटी लोडिंग गाड़ी चलाते हैं, तो कभी भी उसे इतना लोड न करें कि उसकी नंबर प्लेट ही ना दिखाई दे। साथ ही भारी वाहनों को दिन के अंदर शहर में प्रवेश करने की इजाजत नहीं होती। यदि आपके पीछे फायर ब्रिगेड या एम्बुलेंस आ रही है, तो हमेशा अपने वाहन को लेफ्ट साइड में कर लें। गाड़ी चलाते समय हमेशा सामने वाले वाहन से निश्चित दूरी बनाकर रखें। साथ ही जब कभी भी कोई दूसरा वाहन आपके वाहन को ओवरटेक कर रहा हो, तो कभी भी वाहन की स्पीड न बढ़ाएं।

रात में वाहन चलाने के नियम

रात में गाड़ी चलाने के कुछ विशेष नियम होते है। ये नियम आपको रात में गाड़ी चलाते हुए होने वाली परेशानी से बचाएंगे। रात में गाड़ी चलाते समय हमेशा गाड़ी को अंदर से लॉक रखें। ताकि आप किसी तरह की चोरी से बच सकें। यदि आप बड़ी गाड़ी चलाते हैं, तो गाड़ी के पीछे रेडियम की पट्टी जरूर लगवा कर रखें। ताकि रात में पीछे से आ रही गाड़ियों को आपकी गाड़ी दिख सके। साथ ही सामने से यदि कोई गाड़ी आ रही हो तो अपनी गाड़ी की हेड लाइट डाउन कर लें। रात में ओवरटेक करने से बचें, क्योंकि रात के दौरान सामने से आ रही गाड़ी की दूरी का सही अंदाजा नहीं लग पाता।

हाइवे के लिए यातायात नियम

हाईवे तेज रफ्तार गाड़ियों के लिए होता है। जिस रोड पर दो या दो से अधिक लेन दी गई हो, उसे हाइवे कहा जाता है। हाईवे पर चलने की एक निश्चित स्पीड होती है। उसके अंदर ही आपको चलना होता है। साथ ही हाईवे पर मुडने से पहले इंडिकेटर देना बेहद जरूरी माना जाता है। साथ ही यदि आगे चौराहा, स्कूल, कॉलेज आदि हो तो अपने वाहन की रफ्तार जरूर धीमी कर लें। यदि किसी वजह से आपकी गाड़ी हाईवे पर खराब हो जाती है, तो उसे तुरंत साइड में करके खड़ी कर दें। नहीं तो इससे और गाड़ियां भी आपकी गाड़ियों से टकरा सकती हैं।

सड़क पर यातायात संकेत

yatayat ke niyam

लाल, पीली और हरी बत्ती का मतलब

चौराहे पर लगी इन बत्तियों का मतलब आप जानते भी होंगे। इनके संकेत से वाहन चालकों को रोकने और चलने का संकेत मिलता है। यानी लाल बत्ती पर रुकना है, जबकि पीली बत्ती पर संभलकर पार करना है। साथ ही हरी बत्ती पर बिना रुके सीधे चौराहा पार कर जाना है।

प्रवेष निषेध No Entry

इसका मतलब ये है कि आपको इस रास्ते पर आगे जाने से रोका जा रहा है। ऐसा लिखा देख हमेशा आप किसी दूसरे रास्ते से आगे जाएं।

GIVE WAY

इस तरह लिखा होने का मतलब है कि आपको यहां पीछे से आ रही दूसरी गाड़ियों को रास्ता देना है। ऐसा लिखा देखकर हमेशा आप अपने वाहन को धीरे ही रखें। ताकि अचानक किसी वाहन के आगे आ जाने से कोई बड़ा हादसा ना हो।

रुकिए STOP

ऐसा लिखा होने का मतलब है आपको रुकना है। इस तरह बोर्ड दिखाई दे आप तुरंत गाड़ी को रोक लीजिए। रुकने का कारण यदि आप जानना चाहते हैं, तो अपने आसपास देखिए आपको पता लग जाएगा कि आखिर आपकी गाड़ी किस वजह से रोकी गई है।

एक तरफा रास्ता One way Road

इस संकेत का मतलब ये है कि आप जिस सड़क पर जा रहे हैं अब वो आगे केवल एक तरफा रास्ता है। इस सड़क पर केवल वाहन जा सकते हैं आ नहीं सकते। ऐसी स्थिति में ये दोनों बोर्ड आपको सड़क के दोनों किनारे मिल जाएंगे।

दोनों तरफ वाहन जाना मना है No vehicle in Both Direction

यदि सड़क के बीच में कोई काम या किसी और कारण के चलते सड़क बंद है, तो आपको ऐसा बोर्ड लगा दिख जाएगा। इस बोर्ड का मतलब है कि इस सड़क पर दोनों ही तरफ से वाहनों का आवागमन बंद है।

yatayat ke niyam

साइकिल का प्रवेश वर्जित No entry for cycles

इस तरह का लिखा आपको केवल बड़े बड़े हाईवे पर दिखाई देगा। क्योंकि बड़े हाईवे पर अक्सर वाहन बहुत तेज गति से आते हैं। ऐसे में साइकिल रिक्शा आदि के साथ हादसा हो सकता है। ऐसे में उन हाईवे पर साइकिल चालकों का जाना मना होता है।

नो पार्किंग No Parking

यातायात संकेत में आपको No Parking उस जगह लिखा दिखाई देगा जहां वाहन खड़ा करना मना होगा। कभी भी ऐसी जगह पर आप वाहन खड़ा ना करें, नहीं तो आपके वाहन को सरकारी कर्मचारी उठा कर ले जा सकते हैं। सामान्यतः आपको ये बोर्ड घरों, बैंकों या किसी सरकारी भवन आदि के पास देखने को मिलता है।

नो स्टॉपिंग No Stopping

बड़े हाईवे या पुल आदि पर आपको इस तरह का साइन बोर्ड लगा आसानी से दिखाई दे जाएगा। इसका मतलब ये हुआ कि आपको इस जगह पर आपको अपना वाहन खड़ा नहीं करना है। यदि आप इस जगह वाहन खड़ा करते हैं या रोकने की कोशिश करते हैं, तो पीछे वाली गाड़ी आपको टक्कर भी मार सकती है। इसलिए No Stopping देखते ही सावधान हो जाएं।

साइकिल ट्रैक Cycle Track

इस साइन बोर्ड का मतलब है इस ट्रैक पर आप अपनी मोटरसाइकिल या कार नहीं चला सकते। ये रास्ते केवल साइकिल से चलने वाले लोगों के लिए बने है। जिस पर लोग साइकिलिंग आदि कर सकते हैं।

yatayat ke niyam

ढलान या चढ़ाई Steep Descent or Steep Ascent

यदि आप पहाड़ी इलाकों में रहते हैं या पहाड़ी इलाकों में घूमने के शौकीन है तो अक्सर रोड के किनारे ये साइन बोर्ड लगे दिख जाएंगे। ढलान का मतलब होता है कि आगे सड़क ढलान पर बनी है, आप संभलकर गाड़ी चलाना। साथ ही यदि आगे सड़क पर चढ़ाई है तो आपको चढ़ाई लिखा दिखाई दे जाएगा। चढ़ाई के दौरान हमेशा ध्यान रखें कि अपने आगे चल रहे वाहन से दूरी बनाकर रखें। साथ ही यदि कोई ट्रक या ट्रैक्टर आदि है, तो आप थोड़े समय के लिए रुक जाए। ताकि किसी भी परिस्थिति में आपके साथ कोई हादसा ना हो।

संकरी रोड़ Narrow Road

इस तरह से लिखा दिखाई देने का मतलब है कि आगे सड़क संकरी है। आपको ऐसी सड़कों पर बेहद सावधान होकर गाड़ी चलानी चाहिए। ऐसी सड़कों पर अक्सर कोई आगे पीछे से अचानक आ जाता है और आपकी गाड़ी पर स्क्रैच मार जाता है। इसलिए यदि आप गाड़ी अच्छे से नहीं चला पाते तो ऐसी सड़कों पर जाने से बचें।

स्पीड ब्रेकर Speed Breaker

 ये साइन बोर्ड ज्यादातर आपको गली या शहर के अंदर की सड़कों पर दिखाई देगा। इसका मतलब ये हुआ कि आगे स्पीड ब्रेकर है आप अपनी गाड़ी की गति धीमी कर लें। कई बार ब्रेकर से पहले साइन बोर्ड भी नहीं दिया गया होता या टूट गया होता है। ऐसे में सड़क पर चलते हुए आपकी सजगता ही ऐसे स्पीड ब्रेकर से आपको बचाती हैं।

फिसलन भरी रोड़ Slippy Road

 ये बोर्ड आपको अमूमन नहीं दिखाई देता। ये बोर्ड तब लगाया जाता है जब सड़क पर कभी तेल से भरा टैंकर पलट जाए या आगे किसी तरल पदार्थ का कारखाना या गोदाम आदि हो। इस तरह के बोर्ड देखकर आपको अपनी रफ्तार कम कर लेनी चाहिए। क्योंकि यदि आपके सामने अचानक से कोई आ जाता है तो आप अपनी गाड़ी रोक नहीं पाएंगे और हादसे का शिकार हो जाएंगे।

पशु Cattle

 जब भी सड़क पर गोशाला या पशुओं का झुंड आदि इकट्ठा होने वाली जगह होती है, तो वहां ऐसे बोर्ड लगा दिए जाते हैं। ऐसे बोर्ड देखते ही आपकी स्पीड कम करने के साथ रोड़ पर सजगता भी बढ़ा देनी चाहिए। क्योंकि यदि आपकी गाड़ी से किसी भी पशु की मौत हो जाती है, तो आपको भारी जुर्माने के साथ जेल भी हो सकती है।

yatayat ke niyam

चौराहा Roundabout

 जब भी कभी आगे चौराहा आने वाला हो आपको ये लिखा दिखाई दे जाएगा। इसलिए सबसे पहले तो अपने वाहन की स्पीड कम करें और यदि चौराहे पर लाल बत्ती लगी है तो उसे देखकर ही पार हो। यदि लाल बत्ती की व्यवस्था नहीं है तो आप चारों तरफ देखने के बाद ही पार हो। साथ ही यदि कोई भारी वाहन आ रहा है तो पहले उसे निकलने का रास्ता दें।

रेलवे फाटक level crossing ahead

 आपने देखा होगा कि बहुत से रेलवे फाटक पर कोई भी गार्ड मौजूद नहीं होता। इस तरह के फाटक से पहले आपको रेलवे फाटक का बोर्ड लगा दिखाई दे जाएगा। ऐसे फाटक पर कभी भी जल्दबाजी न करें, साथ ही किसी दूसरी गाड़ी के पीछे पीछे न चलें। आप अपने स्तर पर देखें और अगर वाकई रेल ना आ रही हो तभी पार करें। ऐसे फाटक पर अक्सर जल्दबाजी लोगों के जीवन पर भारी पड़ जाती है।

मोड़ Turn

 अगर आगे सड़क पर दाहिने या बाएं मोड़ है तो आपको सड़क पर उससे पहले लिखा दिखाई दे जाएगा। मोड़ पर सावधानी से गाड़ी चलानी चाहिए। साथ ही कभी ओवरटेक या गलत लेन में बिल्कुल ना जाएं।

ये यातायात संकेत भी होते हैं महत्वपूर्ण

सड़क किनारे टेलीफोन, अस्पताल, स्कूल, कॉलेज, पेट्रोल पंप, होटल, बस स्टैंड, पार्किंग आदि लिखा दिखाई दे तो आप इनके नाम से इनका मतलब समझ सकते हैं। यहां आप अपनी जरूरत के अनुसार काम ले सकते हैं।

अंतिम शब्द

यातायात के नियम (Yatayat ke niyam) का पालन आपको ना सिर्फ आपको सुरक्षित रखता है, बल्कि अपनों के सपनो को टूटने से बचाता है। इसलिए हमेशा यातायात के नियम का पालन करे। सीट बेल्ट और हेलमेट के बिना बाहर ना निकले। परिवार के ऐसे सदस्य जिन्हें नियमो की पूरी जानकारी ना हो और ड्राइविंग लाइसेंस ना हो तो उन्हें वाहन चलाने की अनुमति ना दें।

यातायात के नियम आपकी सुरक्षा के साथ ही सड़क पर चल रहे दूसरे लोगों को भी सुरक्षा का अहसास कराते हैं। हमेशा याद रखे-

दुर्घटना से देर भली

Leave a Reply