How to Play Chess in Hindi? जानिए क्या है शतरंज के नियम?

एकाग्रता, अच्छी याददास्त, संज्ञानात्मक कौशल इत्यादि के विकास के लिए यदि आप किसी खेल की तलाश कर रहे है तो शतरंज से बेहतर कुछ नहीं। Chess को खेलने वाले व्यक्ति का मस्तिस्क एक बन्दूक लेकर मैदान में निकल पड़ने वाले pubg खिलाडी से कई गुना तेज हो जाता है। क्योकि एक chess प्लेयर को एक चाल चलने के लिए आगे आने वाले सभी प्रकार के खतरे और उससे निपटने के लिए तैयार होना पड़ता है।

दोस्तों कोरोना संक्रमण के चलते इन दिनों सभी लोग अपने घरों में बंद हैं। ऐसे में लोगों के पास समय व्यतीत करने के लिए केवल फोन और टेलीविजन का साधन बचा है। जबकि इनके साथ ज्यादा समय बिताना हमारी सेहत और मानसिक तौर पर भी हमारे लिए नुकसानदेह साबित हो सकता है। इसलिए आज हम आपको शतरंज यानी कि How to Play Chess in Hindi के बारे में विस्तार से बताने जा रहे हैं। Chess Game कैसे खेला जाता है, Chess खेलने के क्या नियम होते हैं। साथ ही Chess का इतिहास क्या कहता है। तो आइए शुरू करते है.

Chess खेल क्या है?

Chess Game एक तरह का इनडोर गेम है। इसे खेलने के लिए दो लोगों की जरूरत होती है। दो लोग किसी भी उम्र के महिला या पुरुष कोई भी हो सकते है। Chess Game केवल समझदार आदमी ही खेल सकता है, क्योंकि Chess Game खेलना किसी युद्ध को लड़ने जैसा होता है। Chess Game के द्वारा आप अपने दिमाग की कसरत भी बखूबी कर सकते हैं। जिससे आप मानसिक तौर पर भी स्वस्थ रहते हैं। chess एक दिमाग वाला गेम हैI

Chess Game का इतिहास क्या है?

Chess Game केवल भारत तक ही सीमित नहीं है। इसे विदेशी लोग भी खूब खेलते है। ऐसा माना जाता है कि Chess Game को 280 से 550 ईसवी के बीच जब गुप्त साम्राज्य हुआ करता था तो उसके राजा महाराजा इसे खेला करते थे। ठीक इसके बाद 1200 के दशक में इसकी शुरुआत साउथ यूरोप में भी हो चली थी। हालांकि, पहले Chess आज की तरह नहीं हुआ करता था। माना जाता है कि 1475 ईस्वी के आसपास इस खेल में कई बड़े बदलाव किए गए। जिसे आज हम Chess के खेल के दौरान इस्तेमाल करते हैं। इसे स्पेन और इटली के लोग भी खेलना खूब पसंद करते हैं।

CHESS GAME में गोटियों को किस तरह जमाते हैं?

शतरंज के इस खेल में दोनों खिलाड़ी एक दूसरे के विरोधी होते हैं। Chess Board में कुल 64 खाने बने होते हैं। जिनका रंग सफेद और काला होता है। कुल 32 गोटियां होती हैं। खेल की शुरूआत में ये गोटियां दोनों खिलाड़ियों में आधी आधी बांट दी जाती हैं। एक खिलाड़ी सफेद गोटियां लेता हैं, जबकि दूसरा काली गोटियां लेता है। दोनों खिलाड़ियों के पास 1 राजा, 1 रानी, 2 हाथी, 2 घोड़े, 2 ऊँठ और 8 प्यादे हिस्से में आते हैं।

Chess Rules In Hindi

Chess Game का नियम ये कहता है कि सबसे पहले सभी गोटियों को Chess board पर नियम के मुताबिक रखना होता है। इन गोटियों को हर बार एक ही तरह से रखा जाता है। गोटियों को जमाने के बाद एक खिलाड़ी सफेद गीटी लेता है और दूसरा काली गोटी लेता है। Chess Board में गोटियों को जमाते समय हमेशा हाथियों को Chess Board के दोनों कोनों पर रखा जाता है। जबकि इसके दूसरे दोनों कोनों पर घोड़ों को रखा जाता है। घोड़ों के साथ में ऊंट को रखा जाता है। फिर Left साइड राजा को और Right साइड में रानी को बैठाया जाता है। इनके सामने वाली लाइनों में 8 प्यादे रखे जाते हैं। जो खिलाड़ी सफेद गोटी लेता है, हमेशा उसकी बारी सबसे पहले रखी जाती है।

गोटियां चलने का नियम क्या होता है -Chess Rules In Hindi

chess का नियम यही कहता है कि आप किसी भी गोटी को ऐसे ही नहीं चल सकते। इसके लिए एक नियम बनाया गया है, आप उसी नियम के मुताबिक अपनी गोटी आगे बढ़ा सकते हैं। ये नियम कहता है कि कोई भी गोटी किसी दूसरी गोटी के ऊपर नहीं चली जा सकती है। लेकिन यदि सामने आने वाली गोटी विरोधी खिलाड़ी की है तो उसे मार दिया जा सकता है। लेकिन यदि सामने उसी खिलाड़ी की ही गोटी रखी है तो उसके ऊपर नहीं चला जा सकता है। 

कौन सी गोटी कितनी ताकतवर होती है?

राजा- शतरंज का पूरा खेल राजा के ऊपर ही टिका होता है। इस खेल में हर कोई राजा को बचाने की जद्दोजहद करता दिखाई देता है। जबकि आपको जानकर हैरानी होगी कि इस खेल में राजा ही सबसे कम ताकतवर होता है। राजा केवल आगे पीछे, दाहिने बाएं सिर्फ एक कदम ही चल सकता है। 

रानी- राजा के ठीक उलट इस खेल में रानी सबसे ताकतवर होती है। रानी को इस खेल में वजीर भी कहा जाता है। रानी अपनी किसी भी दिशा में आगे पीछे, दाएं बाएं और कितने भी वर्ग चल सकती है।

हाथी- हाथी एक खिलाड़ी के पास दो की संख्या में होते हैं। ये दोनों ही एक दूसरे की रक्षा करने का काम करते हैं। हाथी की खास बात ये होती है कि ये कितने भी वर्ग चल सकता है। लेकिन हाथी केवल अपने खड़ा या आडा ही चल सकता है। इसकी कमजोरी ये होती है कि ये कभी भी तिरक्षा नहीं चल सकता है। 

How to Play Chess in Hindi

ऊंट- ऊंट भी इस खेल में बेहद अहम होता है। ऊंट एक खिलाड़ी के पास दो की संख्या में होते हैं। ऊंट केवल तिरक्षा ही चल सकता है। लेकिन दो की संख्या में होने के चलते ये एक दूसरे की कमजोरी को छुपा ले जाते हैं।

घोड़ा- घोड़ा इस खेल में बेहद अहम होता है। क्योंकि घोड़ा ही एकमात्र पीस होता है जो किसी के ऊपर से भी चल सकता है। जबकि घोड़ा किसी भी दिशा में ढाई घर चल सकता है, इसकी चाल L आकार में होती है। 

प्यादा- प्यादा शतरंज के इस युद्ध में एक सैनिक की तरह काम करता है। इसकी कुछ कमजोरियां भी हैं, तो कुछ खूबियां भी। प्यादा सिर्फ अपनी पहली चाल में ही दो वर्ग चल सकता है, जबकि इसके बाद हर चाल में केवल एक वर्ग ही चल सकता है। ये किसी भी स्थिति में पीछे नहीं चल सकता। इसकी खास बात ये है कि ये एक कदम आगे चलता है और किसी अन्य गोटी को तिरक्षा होकर मारता है। प्यादे के सामने यदि कोई गोटी आ जाए तो ना तो ये उसे मार सकता है, ना ही पीछे हट सकता है। ये इसकी सबसे बड़ी कमजोरी है।

  प्यादे के पास एक प्रमोशन का अधिकार भी होता है। जिसमें यदि ये चलते चलते Chess Board के दूसरे कोने तक पहुंच जाता है तो Chess की दूसरी कोई भी गोटी में खुद को बदल सकता है।

Chess Game के विशेष नियम (Chess Rules In Hindi)

कैसलिंग –

Chess का यह एक विशेष नियम होता है, इसमें आप एक साथ दो चीजें कर सकते हो। इस नियम के मुताबिक आप चाहें तो राजा को बचा भी सकते हैं, साथ ही यदि हाथी किसी कोने पर पहुंच चुका है तो उसे बीच में भी ला सकते हो। इस नियम के अनुसार यदि खिलाड़ी चाहे तो अपने राजा को एक वर्ग बजाय दो वर्ग भी चला सकता है, साथ ही हाथी को राजा के साथ में भी लाकर बैठा सकता है।

> कैसलिंग का नियम ये कहता है कि राजा इसका प्रयोग अपनी पहली चाल में ही कर सकता है।

> साथ ही हाथी भी इसका प्रयोग अपनी पहली चाल में ही कर सकता है।

> राजा के ऊपर कोई शाह या मात नहीं होनी चाहिए। 

> कैसलिंग के लिए राजा और हाथी के बीच कोई भी गोटी मौजूद नहीं होनी चाहिए।

chess draw कब होता है?

यदि शतरंज के इस खेल में कोई विजेता खिलाड़ी नहीं निकल पाता तो खेल ड्रॉ हो जाता है। ड्रॉ होने पर ना तो किसी की हार होती है ना किसी की जीत। आइए आपको बताते हैं कि शतरंज का खेल किन किन परिस्थितियों में ड्रॉ हो सकता है।

> अगर दोनों खिलाड़ी अपनी बात पर राजी हो जाएं और खेल बंद कर दें तो शतरंज का खेल ड्रॉ माना जाएगा।

> यदि शतरंज के Chessboard पर शह और मात के लिए कोई गोटी ही ना बची हुई हो। 

> यदि किसी खिलाड़ी के पास तीन बार एक जैसी स्थिति बन जाती है, तो वो ड्राॅ बोल सकता है।

> यदि कोई खिलाड़ी अपनी चाल चलता है, लेकिन इसके बावजूद उसके राजा को शय और मात नहीं है। इसके बावजूद यदि उसके पास चाल चलने के लिए कोई और जगह नहीं है तो खेल ड्राॅ माना जा सकता है।

अंतिम शब्द-

प्रसिद्ध chess के ग्रैंड मास्टरगैरी कास्परोव” ने ‘द वर्ल्ड इन ए गेम ऑफ़ चेस” टूनामेंट में एक chess मैच को 4 महीने तक खेला जिस खेल में दो ही चालों मे प्रतिद्वंदी को शह और मात देना संभव है। वह खेल यदि 4 माह तक चले तो इससे यह अंदाजा लगाया जा सकता है की इस गेम में कितनी संभव चालें हो सकती है

आपको हमने शतरंज गेम और उससे जुड़ी तमाम बारीकियों के बारे में जानकारी दी। उम्मीद है कि अब How to play chess in Hindi के बारे में आप अच्छे से जान चुके होंगे। यदि आप शतरंज खेलना चाहते हैं तो इससे जुड़े Video Tutorial की भी मदद ले सकते हैं। साथ ही हम आपको बता दें कि आजकल शतरंज को आप ऑनलाइन अपने फोन या लैपटॉप में भी खेल सकते हैं। इसमें आप बिना किसी दूसरे खिलाड़ी की मदद से ऑनलाइन भी खेल सकते हैं।

Leave a Reply