इंग्लिश पढ़ने का तरीका | English padhne ka tarika

4.4
(47)

इंग्लिश पढ़ने का तरीका

इंग्लिश पढ़ने का तरीका- हमारे देश में हमेशा से ही अंग्रेजी बोलने और पढ़ने वालों को विशेष महत्‍व दिया जाता रहा है। अंग्रेजी के इसी महत्‍व को देखते हुए बहुत से लोग अपने घर से कहीं बहुत दूर जाकर अंग्रेजी पढ़ाने वाले किसी संस्‍थान में दाखिला तक ले लेते हैं, ताक‍ि उन्‍हें अंग्रेजी अच्छे से पढ़नी आ जाए।

लेकिन अंग्रेजी सीखने की इस कला में बहुत कम लोग ही कामयाब हो पाते हैं। इसके पीछे क्‍या वजह रहती है और आप किस  तरह से अंग्रेजी पढ़ना सीख सकते हैं आइए आज हम अपनी इस पोस्‍ट में आपको बताते हैं English padhne ka tarika। ध्‍यान रखें कि इस पोस्‍ट में हम आपको इंग्लिश पढ़ने का तरीका के बारे में बताने जा रहे हैं ना कि अंग्रेजी बोलने के।

हमने ये पहले ही इंग्लिश बोलने का आसान तरीका के बारे में बता चुके है, आप इसे पढ़ सकते है। तो चलिए आज हम जानते है कि इंग्लिश पढ़ने का तरीका क्या है?

इंग्लिश पढ़ने का तरीका – English padhne ka tarika

यदि आप किसी हिन्‍दी भाषी राज्‍य रहने वाले हैं, और आपको इंग्लिश पढ़ने का तरीका नहीं आता तो आपके लिए अंग्रेजी पढ़ने की ये शुरूआत हमेशा थोड़ी कठिन होगी। इसलिए शुरूआत में आप हमेशा अपना संकल्‍प मजबूत रखें। इसकी शुरूआत आपको सबसे पहले किसी छोटी क्‍लास की अंग्रेजी की किताब पढ़ने से करनी चाहिए।

आपको चाहिए कि आप सबसे पहले देखें कि आप किस कक्षा की किताब फिलहाल पढ़ सकते हैं। इसके बाद आपको चाहिए कि उस किताब को रोजाना पढ़ें। साथ ही यदि आपको लगता है कि आपकी अंग्रेजी थोड़ी अच्‍छी है और बच्‍चों की किताब आसानी से पढ़ सकते हैं, तो आप कोई अखबार या मैगजीन भी पढ़ सकते हैं।

अखबार या मैगजीन यदि उसी दिन का उपलब्‍ध ना हो तो आप पुराना भी पढ़ सकते हैं। अंग्रेजी पढ़ने में ये भी आपकी पूरी मदद करेगा। बस ध्‍यान ये रखिए कि आप जो भी कीजिए उसे पूरी तरह से नियमित होकर कीजिए। तभी आपको अंग्रेजी पढने में सफलता प्राप्‍त होगी।

यह इंग्लिश पढ़ने का तरीका बहुत ही कारगर है आपको ध्यान रखना है कि आप अचानक से ऊपर के लेवेल पर ना पहुच जाए, आपको शुरू से ही शुरू करना होगा।

Alphabet, vowel और Consonant को याद करें

अंग्रेजी भाषा में इन तीनों का विशेष महत्‍व है। इसलिए आप सबसे पहले इंटरनेट पर इन्‍हें ढूंढ लें और याद कर लें। इनसे आप जब भी अंग्रेजी पढने बैठेंगे तो आपको पता होगा कि किस शब्‍द में अपको क्‍या साइलेंट रखना है और किस शब्‍द को आपको बोलना है।

यह इंग्लिश पढ़ने का तरीका बहुत ही महत्वपूर्ण है अगर आप इस पर ध्यान नहीं देगे तो मुश्किल होगी, उदहारण के तौर पर मन लीजिये यदि आप Hour (आवर) को हावर बोलने लगे तो अर्थ का अनर्थ हो सकता है।

बेसिक Grammar का ज्ञान हासिल करें

ग्रामर यानि व्‍याकरण का आपको किसी भी भाषा में ज्ञान होना अति अवश्‍यक है और यही नियम अंग्रेजी  भाषा पर भी लागू होता है। इसलिए आप अंग्रेजी पढ़ने से पहले बेसिक ग्रामर का ज्ञान होना बेहद जरूरी है।

इससे आप अंग्रेजी के शब्‍दों को जोड़कर भी पढ़ सकेंगे और अंग्रेजी भाषा को आसानी से समझ भी सकेंगे। इसके लिए आप अंग्रेजी ग्रामर की कोई अच्‍छी सी किताब भी खरीद लें और उसके सभी अध्‍याय लगातार पढ़ते जाइए। ये ग्रामर आपके आने वाले भविष्‍य में बेहद काम आएगी। इस तरह आप इंग्लिश पढ़ने का तरीका सीख जायेंगे।

हर शब्‍द का मतलब समझने की कोशिश ना करें

यदि आप अंग्रेजी पढ़ने की अभी शुरूआत करने जा रहे हैं तो आपको जरूरी नहीं है कि आप हर शब्‍द का पूरा मतलब समझें। चाहे फिर वो कोई अखबार हो या किताब। आपका जोर सिर्फ इस बात पर होना चाहिए कि आपको सिर्फ अंग्रेजी पढ़नी है, भले ही आप किसी तरह से क्‍यों ना पढें।

यदि आप हर शब्‍द का मतलब समझने की कोशिश करेंगें तो संभव है कि आप अपने लक्ष्‍य से भटक जाएं। इसके लिए आप तब कोशिश करें जब आप पूरी तरह से आप अंग्रेजी पढने में माहिर हो जाएं।

कभी भी अंग्रेजी पढ़ने में जल्‍दबाजी ना करें

आपको हमेशा इस बात का ध्‍यान रखना होगा क‍ि जब भी आप अंग्रेजी पढने बैठे कभी भी जल्‍दबाजी ना करें। क्‍योंकि यदि आप जल्‍दबाजी करेंगे तो संभव है कि आप पढ़ने में गलती करें और यदि पढ़ने में गलती करेंगे तो ये आपकी ये एक गलत आदत बन जाएगी। जिससे आपको आने वाले समय में कठिनाई का सामना करना पडे़गा। इस तरह आप

अनुशसन के साथ आगे बढ़ते रहें

किसी भी काम को बेहतर तरीके से संपन्‍न करने के लिए आपको हमेशा अनुशासन के अंदर रहकर ही काम करना होगा। अनुशासन का ये नियम अंग्रेजी भाषा में भी लागू होता है। इसलिए हम आपसे कहना चाहेंगे कि यदि आप इंग्लिश पढ़ने का तरीका सीखने की तरफ कदम बढ़ा रहे हैं तो सबसे जरूरी है कि इसका नियमित अभ्‍यास करें।

साथ ही कोशिश करें कि आपने जितना पिछले दिन पढा़ है उससे थोड़ा ज्‍यादा पढें। यदि आप लगातार इस अनुशासन का पालन करते हैं तो एक दिन आपको इसका बेहतर अच्‍छा परिणाम देखने को मिलेगा।

कठिन शब्‍द अलग से लिखें

हम आपसे कहना चाहेंगे कि जब भी आप अंग्रेजी पढने बैठे तो एक कॉपी और एक पेन हमेशा साथ लेकर बैठे। इस कॉपी में आप जब अंग्रेजी पढें तो उस दौरान जो भी आपकी नजर में कठिन शब्‍द दिखाई दें उन्‍हें अपनी कॉपी में लिख लें।

इसी तरह यदि आप रोज लिखते रहेंगे तो आपकी कॉपी में बहुत सारे शब्‍द हो जाएंगे। आप कोशिश करें कि कुछ दिनों के अंतराल पर इन शब्‍दों का अभ्‍यास भी करते रहें।

साथ ही यदि आपको इन शब्‍दों में से किसी संशय हो कि आप सही तरीके नहीं पढ़ पा रहे हैं तो उसे आप इ्ंटरनेट या अंग्रेजी के किसी जानकार व्‍यक्ति से उसे पढने का तरीका समझ लें। इससे आपको उन कठिन शब्‍दों को पढ़ने का अच्‍छा अभ्‍यास हो जाएगा।

Quantity नहीं Quality पर ध्‍यान दें

जब भी आप अंग्रेजी पढ़ने की शुरूआत करते हैं तो आपको चाहिए कि आप ये ना देखिए कि आप हर दिन कितना ज्‍यादा पढ़ते हैं, बाल्‍कि इसकी बजाय आप इस बात पर फोकस कीजिए कि आप रोजाना कितना सही तरीके से अंग्रेजी पढ़ते हैं।

क्‍योंकि उन शब्‍दों का कोई महत्‍व नहीं है जो आप गलत तरीके से पढ़ते चले आ रहे हैं। इसलिए हमेशा इस बात पर ध्‍यान कीजिए कि आप रोजाना कितने ऐसे शब्‍द हैं जो सही तरीके से पढ़ते हैं।

रूकना मना है

रूकना मना है से यहां तात्‍पर्य है कि जब भी आप अंग्रेजी पढने बैठे तो हमेशा अपने सभी काम निपटा कर बैठे। उदाहरण के तौर पर यदि हम मान लें कि आप रोजाना एक घंटे अंग्रेजी पढ़ते हैं तो यदि आपके अंग्रेजी पढने के दौरान ही अचानक कोई काम आ जाता है तो इससे आपका अंग्रेजी पढ़ने का फ्लो खराब हो जाएगा।

जब आप दोबारा से अंग्रेजी पढने बैठेंगे तो संभव है कि आपका पुराना फ्लो दोबारा से ना बने। इसीलिए हम आपसे कह रहे हैं कि अंग्रेजी पढने के दौरान आपको रूकना मना है

English Padhne Ka Tarika

ध्‍यान रखने योग्‍य कुछ जरूरी बातें

इंग्लिश पढ़ने का तरीका सीखते समय आपको निम्न बातों क ध्यान में रखना होगा……

1- गलतियां करने से मत डरो। ग‍लतियां हमेशा इंसान को बेहतर बनाने का काम करती हैं।

2- आपने दिनभर जो कुछ भी पढ़ा हो उसके बाद खाली समय में उसी के बारे में सोचना शुरू करें। इससे आपकी पकड़ मजबूत होती जाएगी।

3- अंग्रेजी समाचारपत्र पढ़ने के साथ रोजाना कुछ समय के लिए अंग्रेजी समाचार चैनल भी देखने की आदत डालें। भले ही ये काम आपको बोरिंग क्‍यों ना लगे पर इसे शुरू जरूर करें।

4- यदि संभव हो तो आप You tube या किसी Application के माध्‍यम से भी अंग्रेजी पढ़ने की कोशिश करें।

5- अंग्रेजी पढ़ने की इस कला को आप केवल किताबों तक सीमित ना रखिए। इसके लिए आप दुकानों के बाहर लगे बोर्ड और सामानों की पैकिंग पर लिखी अंग्रेजी भी पढ़ सकते हैं। क्‍योंकि सीमाओं में बंधकर आप कभी भी अंग्रेजी नहीं सीख सकते हैं।

अंतिम शब्द

आज अपने इस लेख में जाना कि इंग्लिश पढ़ने का तरीका क्या है? और english padhne ka tarika सीखते समय आपको किन बातों को ध्यान में रखना है। दोस्तों इंग्लिश पढ़ना सीखते समय आपको निराश नहीं होना है, आपको निरंतर लगे रहना है।

शुरुआत में आपको निराशा हो सकती है कि आप इतनी मेहनत करने के बात इग्लिश अच्छे से नहीं पढ़ पा रहे, लेकिन शुरुआत ही कठिन है एक बार यदि शुरुआती पड़ाव को पार कर गए फिर कुछ समय बाद आप फर्राटे दार अग्रेजी पढना शुरू कर देंगे।

यह पोस्ट आपके लिए कितना उपयोगी है?

स्टार पर क्लिक करके हमें बताये!

औसत रेटिंग 4.4 / 5. कुल वोट 47

नमस्कार दोस्तों, मैं रवि "आल इन हिन्दी" का Founder हूँ. मैं एक Economics Graduate हूँ। कहते है ज्ञान कभी व्यर्थ नहीं जाता कुछ इसी सोच के साथ मै अपना सारा ज्ञान "आल इन हिन्दी" द्वारा आपके साथ बाँट रहा हूँ। और कोशिश कर रहा हूँ कि आपको भी इससे सही और सटीक ज्ञान प्राप्त हो सकें।

Leave a Comment