Internet ke nuksan kya hai? | Disadvantages of internet in hindi

4.5
(143)

Internet ke nuksan kya hai | इंटरनेट के नुकसान

Disadvantages of Internet In Hindi; इंटरनेट के बारे में आपने एक कहावत जरूर सुनी होगी कि ‘ये एक दोधारी तलवार होती है, जिसके अपने फायदे और अपने नुकसान भी हैं’। लेकिन समाज में ज्‍यादातर लोगों को इंटरनेट के फायदों के बारे में तो जानकारी होती है। परन्‍तु उन्‍हें Internet ke nuksan kya hai इसके बारे में जानकारी नहीं होती है।

ऐसे में यदि आप भी जानना चाहते हैं कि Internet ke nuksan kya hai. तो हमारे इस लेख को अंत तक पढि़ए। अपने इस लेख में हम आपको Disadvantages of internet in hindi के बारे में जानकारी देंगे। तो चलिए जानते हैं internet ke nuksan कौन से हैं।

Internet ke nuksan kya hai | Disadvantages of internet in hindi

चलिए अब हम कुछ हैडिंग के जरिये Disadvantages of internet in hindi के बारे में जानते है।

इंटरनेट के जरिए समय की बर्बादी

इंटरनेट का सबसे पहला नुकसान ये है कि इस पर बहुत से लोग अपना समय बर्बाद करते हैं। ऐसा नहीं है किे केवल कुछ दिन का समय ही वो लोग खराब करते हैं। बाल्कि बहुत से लोग तो इंटरनेट पर अपना पूरा का पूरा साल और जीवन तक खराब कर लेते है। क्‍याोंकि उन्‍हें लगता है कि जो ये फ्री इंटनेट मिल रहा है उसका यदि वो पूरी तरह से प्रयोग नहीं करते तो आज का इंटरनेट ऐसे ही खराब चला जाएगा। उनकी इसी सोच के चलते वो अपने जीवन के कीमती दिन, महीने और साल कब खराब करते चले जाते हैं। इसका पता ही नहीं चलता है।

पैसे की बर्बादी

बहुत से लोग इंटरनेट के जरिए ही पैसा भी कमाते हैं। लेकिन दूसरी तरफ बहुत से लोग हर महीने इंटरनेट लगवाकर उसे ऐसे ही खराब कर देते हैं। जो कि एक तरह से आपके पैसे की बर्बादी होती है। क्‍योंकि आज से समय हर महीने इंटरनेट लगवाने के लिए आपको कई सौ रूपए खर्च करने पड़ते हैं। लेकिन यदि आप महीने के अंत त‍क उसका सदुपयोग नहीं कर पाते हैं, तो एक तरह से आपका वो पैसा पैसा पानी में गिरने के जैसा होता है। जो कि आज हमारे देश के लाखों लोग कर रहे हैं।

इंटरनेट का मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य पर बुरा असर

इंटरनेट पर आज जिस तरह की चीजें मौजूद हैं। उससे हमारा मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य भी खराब होता है। क्‍योंकि जब भी हम इंटरनेट खोलते हैं तो उसमें बहुत सी चीजें ऐसी निकलकर आती हैं जो कि हमारे मन को विचलित कर देती हैं। यदि इसी तरह की चीजें हम लोग नियमित तौर पर देखते रहते हैं तो इससे हमारे दिमाग पर बहुत बुरा असर पड़ता है। जिसका असर हमारी दिनचर्या पर ये पड़ता है कि हम लोग चीजें भूलने लगते हैं और चिड़चिडे हो जाते हैं।

Disadvantages of internet in hindi

इंटरनेट पर गैरकानूनी कामों की भरमार

इंटरनेट पर बहुत सी चीजें ऐसी मौजूद हैं जो कि गैरकानूनी होती हैं। लेकिन इंटरनेट पर इनका धड़ल्‍ले से प्रचार प्रसार होता है। क्‍योंकि यहां कानून का भय नहीं होता है। इसका असर ये होता है कि बहुत से लोग इन चीजों में लिप्‍त हो जाते हैं। आगे चलकर जबतक उन्‍हें इसका पता चलता है तब तक बहुत देर हो चुकी हो चुकी होती है। बहुत से लोग इन्‍हीं चीजों के चलते जेल तक चले जाते हैं।

इनमें लोगों को किसी गिरोह का हिस्‍सा बनाना। उन्‍हें ब्‍लैकमेल करना, उनके साथ पैसों की ठगी करना जैसी चीजें शामिल होती हैं।

बच्‍चों की पढ़ाई से दूरी

बहुत से बच्‍चे कोरोनाकाल में इंटरनेट के जरिए ही ऑनलाइन पढ़ रहे थे। लेकिन जो बच्‍चे कम उम्र के थे। वो इंटरनेट पर सही गलत का अंतर नहीं समझ पाते थे। इसलिए वो अक्‍सर पढ़ाई के नाम पर भटक जाते थे और हर दिन अपने कई घंटे इंटरनेट पर खराब कर देते थे। जिसका पता उन्‍हें आने वाली परीक्षाओं में चलता था। कि उन्‍होंने जो कुछ इंटरनेट पर देखा वो गलत था। लेकिन तब उनकी पढ़ाई का एक बहुत लंबा समय बीत चुका होता था। इसके चलते आज बहुत से बच्‍चे अपनी पुरानी चीजें भी भूलते जा रहे हैं जो कि वो कभी क्लास रूम में बैठकर पढ़ा करते थे।

ये भी पढ़ें: घर बैठे पढाई कैसे करें?

इंटरनेट पर अश्‍लीलता की भरमार

आपने एक कहावत जरूर सुनी होगी कि गलत चीज हमेशा बहुत तेजी से फैलती है। इसका मतलब ये होता है किे इंटरनेट पर आज बहुत सी चीजें ऐसी मौजूद हैं जो कि अश्‍लील हैं। उन्‍हें हमारे सभ्‍य समाज में कभी स्‍वीकार नहीं किया जा सकता है। इसके बावजूद भी इंटरनेट पर इनकी भरमार है। इसलिए जो लोग इंटरनेट पर इन चीजों में उलझे रहते हैं। अक्‍सर वो अपने जीवन का एक महत्‍वपूर्ण हिस्‍सा इन्‍हीं चीजों में गंवा देते हैं। जिससे उनके अंदर गलत तरह की प्रवृति की भावना बढ़ जाती है।

हमारी आंखों पर इसका बुरा प्रभाव

इंटरनेट का प्रयेाग आप हमेशा ऑनलाइन ही कर सकते हैं। जिसके लिए फोन या लैपटॉप का होना बेहद जरूरी है। इसलिए कई बार देखा गया है कि जो लोग इंटरनेट का प्रयोग कई घंटों तक लगातार करते हैं। तो उनकी आंखों पर इसका बेहद बुरा प्रभाव पड़ता है। इससे आंखों में जलन कमजारी जैसी शिकायत देखने को मिलती हैं। इसलिए इंटरनेट का प्रयेाग केवल कुछ घंटों तक ही करना चाहिए। इससे ज्‍यादा प्रयेाग हमारी आंखों के लिए नुकसानदेह होता है।

ये भी पढ़ें: खाली पेट पानी पीने के फायदे

इंटरनेट पर अफवाहों की भरमार

इंटरनेट पर आज बहुत सी सोशल साइट मौजूद हैं। जिनका प्रयेाग आप में से लगभग हर आदमी करता होगा। लेकिन आज से समय में इन सोशल साइट का प्रयेाग बहुत से लोग अफवाह फैलाने के लिए भी करते हैं। यही वजह है कि यदि कहीं भी हालात खराब होते हैं, तो सबसे पहले सरकार की तरफ से इंटरनेट बंद करवा दिया जाता है। क्‍योंकि ऐसे समय में लोगों के पास हर तरफ से एक ही तरह की सूचना भेजी जाती है। इसलिए कई बार उन्‍हें ये सब देखकर झूठ भी सच लगने लगता है। जिससे हालात सुधरने की बजाय और ज्‍यादा खराब होने लगते हैं।

समाज में बढ़ती दूरियां

हमारे समाज में आज मोबाइल फोन के चलते लोग एक दूसरे से दूर होते जा रहे हैं। आलम ये है कि लोग अपने परिवार के सदस्‍यों से भी नहीं बात करते हैं। जिसकी वजह इंटरनेट होता है। लोगों को इंटरनेट चलाने में इतना आंनद आता है। कि वो ना तो सुबह जान पाते है, ना ही शाम। बस उन्‍हें हर समय इंटरनेट ही चलाना होता है। जबकि अंत में वो लोग पाते हैं कि इसका उन्‍हें इसका कुछ फायदा नहीं हुआ। लेकिन तब तक उनका परिवार उनसे बहुत दूर जा चुका होता है।

इंटरनेट की लत लग जाना

सुनने में आपको भले अजीब लगे पर इंटरनेट एक शराब की तरह ही होता है। जो लोग भी इसका बेतहासा प्रयेाग करते हैं। वो लोग कुछ महीने बाद ही इसके बुरी तरह से आदि हो जाते हैं। फिर यदि वो लोग चाह भी लें तो भी इंटरनेट की आदत नहीं छुड़ा सकते हैं। क्‍याोंकि उन्‍हें इंटरनेट की लत लग चुकी होती है। इसलिए इंटरनेट का प्रयोग हमें बेहद सावधानी के साथ करना चाहिए। यही वजह है कि आज बहुत से बच्‍चों के माता पिता जब उनके फोन में इंटरनेट नहीं लगवाते हैं तो वो कोई गलत कदम तक उठा लेते हैं।

इंटरनेट के नुकसान क्या है

राजनैतिक दलों का प्रोपेगैंड़ा

इंटरनेट पर आज लगभग सभी राजनैतिक दलों की IT Cell मौजूद है। जो कि लोागों की एक बहुत बड़ी टीम होती है। उसका काम ये होता है कि वो हमेशा अपने दल का प्रचार करती है और दूसरे दलों की बदनामी करती है। जिसमें Fake चीजों को लोगों के बीच वायरल किया जाता है। सोशल मीडिया पर Fake Trend चलाए जाते हैं। उनके इस खतरनाक प्रचार से समाज में बुरा प्रभाव तो पड़ता ही है। साथ ही आम आदमी हमेशा मुद्दों से भटक जाता है और कई बार तो वो गलत को भी सही समझ बैठता है। जो कि देश के लिए अच्‍छा नहीं कहा जा सकता है।

यहाँ हमने top 10  Internet ke nuksan kya hai इनके बारे में बात कि आशा करता हूँ कि अब आप Disadvantages of internet in hindi के बारे में समझ चुके होंगे।

…तो क्‍या इंटरनेट का प्रयेाग बंद कर दें?

अभी ऊपर आपने जाना कि Disadvantages of Internet In Hindi इसे जानने के बाद आप भी यही सोच रहे होंगे कि यदि सच में इंटरनेट के इतने नुकसान हैं, तो क्‍या हम लोग इंटरनेट का प्रयेाग एकदम से और आज ही बंद कर दें। इसका जवाब है कि ‘नहीं’। क्‍योंकि इंटरनेट के जरिए ही आप हमारा ये लेख भी पढ़ रहे हैं। जिससे आपका सिर्फ ज्ञानवर्धन ही हो रहा है। साथ ही इंटरनेट के बिना आज हमारा काम भी नहीं चल सकता है। आज के Digital Era में हर चीज इंटरनेट से जुड़ी है।

बस जरूरत इस बात की है कि आप इंटरनेट का प्रयोग धैर्य और संयम के साथ करें। बिना जरूरत के कभी भी इस पर आप अपना कीमती समय खराब ना करें। इसके लिए इंटरनेट जब भी चलाएं तो आप उससे पहले तय कर लें कि आपको इंटरनेट पर जाकर करना क्या है? जैसे ही आपका वो काम पूरा हो जाता है तभी इंटरनेट बंद कर दें। इससे आप इंटरनेट के होने वाले नुकसान से आसानी से बच सकते हैं।

यह पोस्ट आपके लिए कितना उपयोगी है?

स्टार पर क्लिक करके हमें बताये!

औसत रेटिंग 4.5 / 5. कुल वोट 143

नमस्कार दोस्तों, मैं रवि "आल इन हिन्दी" का Founder हूँ. मैं एक Economics Graduate हूँ। कहते है ज्ञान कभी व्यर्थ नहीं जाता कुछ इसी सोच के साथ मै अपना सारा ज्ञान "आल इन हिन्दी" द्वारा आपके साथ बाँट रहा हूँ। और कोशिश कर रहा हूँ कि आपको भी इससे सही और सटीक ज्ञान प्राप्त हो सकें।

Leave a Comment